लॉकडाउन में जनऔषधि केंद्र ने लोगों के बचाए 800 करोड़, सिर्फ 2 महीने में बिक्री 100 करोड़ के पार

लॉकडाउन में जनऔषधि केंद्र ने लोगों के बचाए 800 करोड़, सिर्फ 2 महीने में बिक्री 100 करोड़ के पार
लोगों के बचे 800 करोड़ रुपए

प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंद्र (Pradhan Mantri Bhartiya Janaushdhi Kendras- PMBJKs) ने वित्त वर्ष 2020-21 के पहले दो महीने में 100.40 करोड़ रुपए की बिक्री की है.

  • Share this:
नई दिल्ली.  प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंद्र (Pradhan Mantri Bhartiya Janaushdhi Kendras- PMBJKs) ने वित्त वर्ष 2020-21 के पहले दो महीने में 100.40 करोड़ रुपए की बिक्री की है. पिछले साल 2019-20 की समान अवधि में जनऔषधि केंद्रों की बिक्री 44.60 करोड़ रुपए थी. जनऔषधि केंद्रों ने मार्च, अप्रैल और मई में 144 करोड़ रुपए की अफोर्डेबल और क्वालिटी दवाएं बेंची. कोविड-19 महामारी के दौरान इससे लोगों के करीब 800 करोड़ रुपए की कुल बचत हुई है.

रसायन और उर्वरक मंत्री  डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा, COVID-19 महामारी के इस कठिन समय में, हम सभी को दवाओं की पूर्ण उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंद्रों (पीएमबीजेके) के नेटवर्क के माध्यम से पीएम भारतीय जनऔषधि योजना (PMBJP) को लागू करते हुए BPPI द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका पर संतोष व्यक्त किया.

ये भी पढ़ें- रेहड़ी-पटरी वालों के लिए सरकार ने शुरू की नई योजना, MSME को मिले ये बड़े तोहफे



जनऔषधि केंद्रों ने अप्रैल 2020 में 52 करोड़ रुपए और मार्च में 42 करोड़ रुपए की बिक्री की थी. बीपीपीआई दवाओं का पर्याप्त स्टॉक बनाए हुए है जो वर्तमान में मांग के अनुसार फेस मास्क, हैंड सैनिटाइज़र, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, पैरासिटामोल और एज़िथ्रोमाइसिन है. BPPI ने मार्च और अप्रैल 2020 में लगभग 10 लाख फेस मास्क, 50 लाख टैबलेट हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की बिक्री की है. बीपीपीआई ने मित्र देशों को आपूर्ति करने के लिए विदेश मंत्रालय को भी दवाएं दी हैं.



सरकार के सोशल डिस्टेंसिंग के अभ्यास का सपोर्ट करते हुए पीएमबीजेके के फार्मासिस्ट अब 'स्वास्थय के सिपाही' के रूप में जाने जाते हैं और वे मरीजों और बुजुर्गों के घर पर दवाइयों की डिलीवरी का काम कर रहे हैं.

'जनौषधि सुगम' 4 लाख सेअधिक हुए डाउनलोड
इसके अलावा, BPPI अपने सोशल मीडिया विभिन्न प्लेटफार्मों पर महामारी के खिलाफ लड़ने के साधनों के बारे में जागरूकता पैदा कर रहा है. मोबाइल एप्लिकेशन 'जनौषधि सुगम ' (Janaushadhi Sugam) बहुत लोकप्रिय हो गया और 4 लाख से अधिक डाउनलोड हुए हैं. इन तरीकों से, BPPI COVID-19 के प्रकोप के खिलाफ लड़ाई में सक्रिय भूमिका निभा रहा है.

ये भी पढ़ें- हवाई जहाज में बीच की सीट को लेकर DGCA ने बदला नियम, 3 जून से लागू होंगे रूल्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading