अब सर्विस सेक्टर में भी छाई सुस्ती, अगस्त में सर्विस PMI घटकर हुआ 52.4

आईएचएस मार्किट (IHS Markit) का इंडिया सर्विसेज बिजनस ऐक्टिविटी सूचकांक (PMI) अगस्त में घटकर 52.4 पर रह गया.

भाषा
Updated: September 4, 2019, 3:21 PM IST
अब सर्विस सेक्टर में भी छाई सुस्ती, अगस्त में सर्विस PMI घटकर हुआ 52.4
अगस्त में सर्विस सेक्टर भी रहा सुस्त
भाषा
Updated: September 4, 2019, 3:21 PM IST
नई दिल्ली. देश के सर्विस सेक्टर (India Service Sector) की गतिविधियां अगस्त में सुस्त रहीं. एक नए मासिक सर्वेक्षण में बुधवार को यह दिखाया गया है. आईएचएस मार्किट (IHS Markit) का इंडिया सर्विसेज बिजनस ऐक्टिविटी सूचकांक (PMI) अगस्त में घटकर 52.4 पर रह गया. जुलाई में यह आंकड़ा 53.8 पर था. ये हालिया आंकड़े उत्पादन में बढ़ोतरी की दर में कमी को दर्शाते हैं. सूचकांक का 50 से अधिक रहना विस्तार दर्शाता है जबकि 50 से नीचे का सूचकांक कमजोरी का संकेत देता है.

आईएचएस मार्किट (IHS Markit) की प्रधान अर्थशास्त्री पीडी लिमा ने कहा, भारत के सेवा क्षेत्र का पीएमआई विनिर्माण क्षेत्र के रुझान के मुताबिक ही है. यह वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था में नरमी की बुरी खबर लेकर आ रहा है.

ये भी पढ़ें: भगवान राम के दर्शन के लिए रेलवे फिर चलाएगी दो ट्रेन, जानें किराया और बुकिंग का प्रोसेस

आईएचएस मार्किट (IHS Markit) का इंडिया कम्पोजिट पीएमआई आउटपुट सूचकांक घटकर अगस्त में 52.6 रह गया, जो जुलाई में 53.9 पर था. इस सूचकांक में विनिर्माण एवं सेवा क्षेत्र दोनों को शामिल किया जाता है. हालांकि, पीएमआई आउटपुट सूचकांक में लगातार 18वें महीने विस्तार देखने को मिला. वहीं नए ऑर्डर में जुलाई के मुकाबले अगस्त में अधिक नरमी देखने को मिली.

अगस्त में निजी क्षेत्र की नौकरियों में वृद्धि देखने को तो मिली लेकिन उसकी रफ्तार बहुत धीमी रही. हालांकि गिरावट के बावजूद सर्विस प्रोवाइडर्स आने वाले 12 महीनों में कारोबारी गतिविधियों में वृद्धि को लेकर आश्वस्त हैं.

ये भी पढ़ें: ESIC और SBI ने मिलकर शुरू की नई सर्विस, 3.6 करोड़ कर्मचारियों को होगा फायदा

अगस्त में 15 महीनों के निचले स्तर पर आई मैन्युफैक्चरिंग PMI
Loading...

इससे पहले, देश के विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियां अगस्त महीने में गिरकर 15 महीने के निचले स्तर पर आ गई है. इसकी वजह बिक्री (Sales), उत्पादन (Production) और रोजगार (Employment) में धीमी बढ़ोतरी रही. आईएचएस मार्किट (IHS Markit) का इंडिया मैन्यूफैक्चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स सूचकांक (PMI) जुलाई में 52.5 से गिरकर अगस्त में 51.4 पर आ गया. यह मई 2018 के बाद का सबसे निचला स्तर है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 2:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...