Home /News /business /

अप्रैल में 13 महीने बाद नौकरियों में सबसे कम छंटनी, मैन्यूफैक्चरिंग में मामूली सुधार

अप्रैल में 13 महीने बाद नौकरियों में सबसे कम छंटनी, मैन्यूफैक्चरिंग में मामूली सुधार

अप्रैल में कोविड-19 संकट के और गहरा जाने से नए ऑर्डर और आउटपुट के ग्रोथ में और नरमी देखने को मिली

अप्रैल में कोविड-19 संकट के और गहरा जाने से नए ऑर्डर और आउटपुट के ग्रोथ में और नरमी देखने को मिली

आईएचएस मार्किट (IHS Markit) का मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) अप्रैल में 55.5 पर रहा.

    नई दिल्ली. देश की मैन्युफैक्चरिंग (Manufacturing) सेक्टर की गतिविधियों में मार्च की तुलना में अप्रैल में मामूली सुधार देखने को मिला. हालांकि, अप्रैल में भी मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में छंटनी जारी रही. हालांकि छंटनी की दर पिछले 13 माह में सबसे धीमी रही. एक मासिक सर्वेक्षण में यह बात कही गई है.
    आईएचएस मार्किट (IHS Markit) का मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) अप्रैल में 55.5 पर रहा. मार्च में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का PMI 55.4 पर रहा था. पीएमआई पर 50 से अधिक का आंकड़ा वृद्धि जबकि उससे नीचे का आंकड़ा संकुचन को दिखाता है. IHS Markit में एसोसिएट डायरेक्टर (इकोनॉमिक्स) पॉलियाना डि लीमा ने कहा, ''कोविड-19 संकट के और गहरा जाने से नए ऑर्डर और आउटपुट के ग्रोथ में और नरमी देखने को मिली.'' कोराेनावायरस की दूसरी लहर के बीच नए ऑर्डर और आउटपुट की रफ्तार आठ माह के निचले स्तर पर आ गई.
    यह भी पढें : नौकरी की बात : टेक्नोलॉजी की वजह से इन जगहों पर नौकरियों की भरमार, जानें सबकुछ 

    कोरोना की वजह से मांग में और कमी आ सकती है
    लिमा ने कहा कि कोविड-19 से जुड़े मामलों में बढ़ोत्तरी से मांग में और कमी देखने को मिल सकती है. लिमा ने कहा कि मैन्युफैक्चरर्स जिन परेशानियों का सामना कर रहे हैं, उन्हें नजरंदाज नहीं किया जा सकता है. जहां तक लागत का सवाल है तो सर्वे में शामिल प्रतिभागियों ने लागत व्यय में तेज वृद्धि का संकेत दिया है. हालांकि, भारत में कोविड-19 के दैनिक मामलों में मामूली कमी देखने को मिली. देश में एक दिन में कोरोना वायरस के 3,68,147 नए मामले सामने आए. इससे कुल मामलों की संख्या 1,99,25,604 पर पहुंच गई.
    यह भी पढ़ें : सालों में एक बार मिलता है मौका, पैसा कमाना चाहते हैं तो तुरंत करें यह काम

    लागत व्यय में पिछले सात साल में सबसे तेज वृद्धि देखने को मिली
    लिमा ने कहा, ''अप्रैल में लागत व्यय में पिछले सात साल में सबसे तेज वृद्धि देखने को मिली. इससे आउटपुट चार्ज में अक्टूबर, 2013 के बाद सबसे तेज दर से वृद्धि देखने को मिली. आने वाले महीनों के आंकड़े इस लिहाज से अहम होंगे कि इन चुनौतियों के बावजूद क्लाइंट्स की मांग में में लचीलता रहती है या विनिर्माताओं को नया काम लेने के लिए लागत को खुद वहन करना पड़ेगा.''

    Tags: Business news in hindi, Manufacturing and exports, Manufacturing sector

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर