लाइव टीवी

लॉकडाउन के बाद बड़े ऐलान कर सकती है सरकार, दूसरे राहत पैकेज की तैयारी में जुटी

News18Hindi
Updated: April 6, 2020, 1:19 AM IST
लॉकडाउन के बाद बड़े ऐलान कर सकती है सरकार, दूसरे राहत पैकेज की तैयारी में जुटी
दूसरे राहत पैकेज को लेकर बैठकों का दौर चल रहा है.

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की वजह से अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान के लिए पहले ही केंद्र सरकार ने 1.7 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया था. अब दूसरे राहत पैकेज के लिए वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) और PMO के अधिकारियों के बीच लगातार बैठकों का दौर चल रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की वजह से देश में आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह से ठप पड़ चुकी हैं. केवल अति-आवश्यक काम और सेवाएं ही चल रही हैं. ऐसे में अब केंद्र सरकार अर्थव्यवस्था के लिए एक और पैकेज पर मंथन कर रही है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, मंत्रालय के सचिव और प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) के बीच लगातार बैठकों और विमर्श का दौर चल रहा है. बीते सप्ताह में वित्त मंत्रालय और PMO के आला अधिकारियों के बीच एक और फिस्कल पैकेज को लेकर कई दौर की बैठके हुईं.

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 'अर्थव्यवस्था की हालत को देखते हुए बीते एक सप्ताह में वित्त मंत्रालय और PMO के बीच कई बैठके हुई हैं. कोरोना वायरस महामारी की वजह से अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान की भरपाई करने के लिए सरकार रास्ते तलाश रही है.'

लॉकडाउन के बाद के लिए तैयारियां शुरू
सरकारी अधिकारियों ने कहा कि लॉकडाउन के बाद की स्थिति से निपटने के लिए केंद्र सरकार यह कदम उठा रही है. अधिकारियों ने बताया कि पैकेज पर विचार विमर्श किया गया है लेकिन इसे अभी कोई अंतिम रूप नहीं दिया गया है. उन्होंने बताया कि खपत बढ़ाना जरूरी है, जिसके आवश्यक कदम उठाया जाएगा.



कई विकल्प पर सरकार की नजर


रविवार को ही अधिकारियों ने कहा कि सरकार कुछ वेलफेयर स्कीम्स और सरकारी योजनाओं को रिडिजाइन करने पर विचार कर रही है ताकि लॉकडाउन के बाद उचित कदम उठाए जा सके. फिलहाल केंद्र सरकार कई विकल्प पर विचार कर रही है, जिसमें मंत्रालयों द्वारा स्कॉलरशिप और फेलोशिप, रबी फसलों की कटाई भी शामिल है. इनके बारे में एक-एक कर सरकार जानकारी जुटा रही है.

यह भी पढ़ें:  COVID-19: इस कंपनी ने सभी पॉलिसी होल्डर्स को दिया तोहफा, मिलेगा एक्स्ट्रा कवर

14 अप्रैल को खत्म होना है लॉकडाउन
वर्तमान में 21 दिनों का देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown in India) चल रहा है, जोकि 14 अप्रैल को खत्म होने वाला है. अभी तक प्राप्त जानकारी से लगता है कि सरकार चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन खत्म करेगी. हालांकि, इसपर कोई सरकारी बयान सामने नहीं आया है.

मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर को धक्का
सूत्रों से प्राप्त जानकारी में कहा गया है कि अधिकारी चालू वित्त वर्ष के लिए रेवेन्यू और व्यय पर करीबी नजर बनाए हुए हैं. देशभर में लॉकडाउन की वजह से बड़े स्तर पर मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर धक्का लगा है. रेलवे सेवा ठप होने से लेकर विमान सेवाओं को भी बंद कर दिया गया है.

यह भी पढ़ें: सरकार का बड़ा कदम, अब 50 करोड़ लोगों की मुफ्त में होगी कोरोना की जांच और इलाज

पहले भी RBI और केंद्र सरकार ने उठाए हैं कदम
एक अधिकारी के हवाले से इस रिपोर्ट में कहा गया है कि लगातार 3 सप्ताह तक आउटपुट एक्टिविटी बंद होने की वजह से पहली तिमाही में सरकारी रेवेन्यू पर बुरा असर पड़ने वाला है. वहीं, केंद्र सरकार ने 1.7 लाख करोड़ रुपये का पहले ही राहत पैकेज ऐलान कर दिया है. इसके अलावा भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने भी 3.7 लाख करोड़ रुपये के लिक्विडिटी बूस्ट का कदम उठाया है. ऐसे में एक और राहत पैकेज पर फैसला लेते समय केंद्र सरकार इस बात का भी ध्यान रखेगी.

सरकारी रेवेन्यू को लग सकता है बड़ा धक्का
इस महामारी की वजह से भारतीय व वैश्विक कैपिटल मार्केट पर भी असर पड़ा है, जबकि दुनियाभर की इंडस्ट्रीज के लिए परेशानियां खड़ी हो गई हैं. कैपिटल मार्केट धराशायी होने के बाद अब वित्त वर्ष 2021 के लिए केंद्र सरकार के विनिवेश प्रोग्राम पर खड़े हो सकते हैं. रेवेन्यू और राजकोषिय आंकड़े पर भी इसका असर देखने को मिलेगा. वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सरकार ने राजकोषिय घाटे का अनुमान 3.5 फीसदी रखा है. फरवरी के बाद से अब तक घरेलू स्टॉक मार्केट में 30 फीसदी से भी अधिक की गिरावट देखने को मिली है.

यह भी पढ़ें: Assocham ने वित्त मंत्री और RBI को दिया सुझाव, ऐसे बढ़ाएं डिजिटल लेनदेन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2020, 2:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading