सेबी की जांच के घेरे में आई PNB हाउसिंग फाइनेंस और कार्लाइल की डील! जानिए पूरा मामला

4000 करोड़ रुपये की डील पर खड़े हुए सवाल

4000 करोड़ रुपये की डील पर खड़े हुए सवाल

प्रॉक्सी एडवाइजरी फर्म स्टेकहोल्डर्स एम्पावरमेंट सर्विसेज (SES) ने इस डील पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस डील में पंजाब नेशनल बैंक और पंजाब नेशनल बैंक हाउसिंग फाइनेंस कंपनी के निवेशकों के हितों की अनदेखी की गई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. पहले एक प्रॉक्सी एडवाइजरी कंपनी ने पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (PNB Housing Finance Limited) और कार्लाइल ग्रुप (Carlyle Group) के बीच हो रही 4000 करोड़ रुपए की डील पर सवाल खड़े किए और अब खबर यह है कि यह डील सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया यानी सेबी (SEBI) की नजर में भी आ गई है.

नाम जाहिर ना करने की शर्त पर इस मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया, "फाइनेंस मिनिस्ट्री भी इस डील पर नजर बनाए हुए है.'' प्रॉक्सी एडवाइजरी फर्म स्टेकहोल्डर्स एम्पावरमेंट सर्विसेज (SES) ने इस डील पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस डील में पंजाब नेशनल बैंक और पंजाब नेशनल बैंक हाउसिंग फाइनेंस कंपनी के निवेशकों के हितों की अनदेखी की गई है. एडवाइजरी फर्म का कहना है कि इस डील की वैल्यू PNB ने कम रखी है. SES के मुताबिक, पंजाब नेशनल बैंक ने बिना वाजिब कीमत लिए कार्लाइल को PNB हाउसिंग फाइनेंस कंपनी में अपनी हिस्सेदारी दे दी. SES का मानना है कि यह डील कंपनी के AoA के प्रावधान के मुताबिक नहीं हुआ है. यह डील Ultra Vires के तहत किया गया है.

AoA ने प्रस्तावित रेज्योलूशन का उल्लंघन किया!

कंपनी के रजिस्टर्ड वैल्यू के मुताबिक जो वैल्यूएशन तय किया गया है या मार्केट रेगुलेटर सेबी ने जो वैल्यू तय की है, दोनों में से जो भी ज्यादा हो वह मिनिमम इश्यू प्राइस होना चाहिए. हालांकि कंपनी ने यह डिस्क्लोजर दिया है कि शेयरों की प्राइसिंग SEBI ICDR के मुताबिक ही है. हालांकि यह कहीं नहीं बताया गया है कि शेयर की कीमत वैल्यूअर या वैल्यूएशन रिपोर्ट से ली गई है. लिहाजा यह माना जा रहा है कि AoA ने प्रस्तावित रेज्योलूशन का उल्लंघन किया है.
PNB अपनी कंपनी PNB HF पर अपना कंट्रोल नहीं छोड़ रहा है

SES ने इस बात पर भी सवाल उठाया है कि कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के पास चंद्रशेखरन रामाकृष्णन और नीलेश एस विकमसे को दूसरे टर्म के लिए इंडिपेंडेंट डायरेक्टर के तौर पर नियुक्त करने का अधिकार नहीं था. PNB अपनी कंपनी PNB HF पर अपना कंट्रोल नहीं छोड़ रहा है. अगर कंपनी में बैंक की हिस्सेदारी 26 फीसदी से कम हो जाती है तो भी उसके पास PNB HFC के बोर्ड में दो डायेरक्टर नियुक्त करने का अधिकार होगा. कंपनी का AoA इस मामले में जरूरी संशोधन कर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज