PNB में 3 छोटे बैंकों का हो सकता है विलय, आप पर होगा ये असर

देश के तीसरे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में जल्द ही तीन छोटे बैंकों को विलय होगा. सूत्रों के मुताबिक, पीएनबी अगले तीन महीने में 3 छोटे सरकारी बैंकों का विलय कर सकता है.

News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 4:22 PM IST
PNB में 3 छोटे बैंकों का हो सकता है विलय, आप पर होगा ये असर
देश के तीसरे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में जल्द ही तीन छोटे बैंकों को विलय होगा. सूत्रों के मुताबिक, पीएनबी अगले तीन महीने में 3 छोटे सरकारी बैंकों का विलय कर सकता है.
News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 4:22 PM IST
देश के तीसरे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में जल्द ही तीन छोटे बैंकों को विलय होगा. सूत्रों के मुताबिक, पीएनबी अगले तीन महीने में 3 छोटे सरकारी बैंकों का विलय कर सकता है. इन बैंकों में ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC), आंध्रा बैंक (Andhra Bank) और इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) शामिल है.

बता दें कि इससे पहले, बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक और देना बैंक का विलय हुआ था. विजया बैंक और देना बैंक के विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बन गया है. ये भी पढ़ें: देश के सबसे बड़े निवेशक ने कहा- NDA को मिलेंगी 300 सीटें, लेकिन...



 


Loading...

ग्राहकों पर होगा ये असर
इलाहाबाद बैंक, OBC, और आंध्र बैंक का पीएनबी में विलय से खाताधारकों पर कोई असर नहीं होगा. इलाहाबाद बैंक, OBC, और आंध्र बैंक के खाताधारकों को इस मर्जर प्रक्रिया से कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. बैंक जो भी फैसले लेगा उसके बारे में ग्राहकों को पहले सूचित किया जाएगा. हालांकि, खाताधारकों के लिए थोड़ा कागजी काम जरूर बढ़ जाएगा. पीएनबी में विलय के बाद इलाहाबाद बैंक, OBC, और आंध्र बैंक के खाताधारकों को नए चेकबुक, पासबुक बनवाने होंगे. इसके लिए बैंक पर्याप्त समय देगा और खाताधारकों की पूरी मदद करेगा.

एटीएम और पासबुक होगी अपडेट
इस तरह के मर्ज होने से उस बैंक के ग्राहकों का थोड़ा पेपरवर्क बढ़ जाता है. इसके लिए केवाईसी का प्रॉसेस फिर से करना होता है. वहीं, आपका एटीएम और पासबुक नए सिरे से अपडेट होता है. तो इसके लिए हल्का पेपरवर्क करना पड़ सकता है. हालांकि इसमें कुछ वक्त भी लग सकता है.

आपके लोन पर पहले की तरह रहेगा ब्याज दर
बैंकों के विलय से आपके लोन पर कोई असर नहीं होगा और आपको पहले की तरह उस पर ब्याज देना होगा. जब कोई बैंक किसी दूसरे बैंक में मर्ज होता है तो लोन अमाउंट उस बैंक में ट्रांसफर हो जाता है और मौजूदा ब्याज दर ही उस पर अप्लाई होती है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...