ई-कॉमर्स: अब ऑफलाइन स्टोर्स भी खोलेंगे पोर्टल

फ्लिपकार्ट, अमेजन और स्नैपडील जैसी ऑनलाइन मार्केटप्लेस के लिए मुकाबला और कड़ा होने वाला है। ना सिर्फ ऑफलाइन रिटेलर्स बल्कि...

फ्लिपकार्ट, अमेजन और स्नैपडील जैसी ऑनलाइन मार्केटप्लेस के लिए मुकाबला और कड़ा होने वाला है। ना सिर्फ ऑफलाइन रिटेलर्स बल्कि...

फ्लिपकार्ट, अमेजन और स्नैपडील जैसी ऑनलाइन मार्केटप्लेस के लिए मुकाबला और कड़ा होने वाला है। ना सिर्फ ऑफलाइन रिटेलर्स बल्कि...

  • Share this:
नई दिल्ली। फ्लिपकार्ट, अमेजन और स्नैपडील जैसी ऑनलाइन मार्केटप्लेस के लिए मुकाबला और कड़ा होने वाला है। ना सिर्फ ऑफलाइन रिटेलर्स बल्कि कई एफएमसीजी ब्रैंड भी अपने ई-कॉमर्स पोर्टल ला रहे हैं। इसमें ताजा एंट्री है मशहूर फ्रेंच ब्रैंड लॉकोस्ट इंडिया की।



अब तक आप लॉकोस्ट इंडिया के प्रॉडक्ट्स फ्लिपकार्ट, अमेजॉन या स्नैपडील जैसी ई-कॉमर्स वेबसाइट्स से खरीदते थे लेकिन अब लॉकोस्ट के प्रॉडक्ट्स उसकी अपनी वेबसाइट पर भी बिकेंगे। कंपनी को भरोसा है कि इससे उनकी पहुंच तो बढ़ेगी ही मार्केट शेयर भी बढ़ेगा।



सिर्फ लॉकोस्ट ही नहीं ई-कॉमर्स में बढ़ता स्कोप देखते हुए फॉरएवर 21 और मैंगो जैसी कंपनियां और देशी कंपनियों में डॉबर जैसे ब्रैंड भी इसमें उतर आए हैं। जानकारों के मुताबिक यंगस्टर्स को टार्गेट करने के लिए ब्रैंड्स की ये स्ट्रैटेजी काम कर सकती है।





ग्लोबस, लाइफ स्टाइल, शॉपर्स स्टॉप जैसी रिटेल कंपनियां भी खुद का वेब पोर्टल खोल चुकी हैं और अब बिग बाजार भी ई-कॉमर्स में उतरने जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक साल 2020 तक ई-कॉमर्स सेक्टर में ग्रॉस मर्चेंडाइज वैल्यू करीब 6000 करोड़ डॉलर पहुंच जाएगी। ऐसे में इस बढ़ते बाजार में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए एक के बाद एक सभी कंपनियां अपने लिए मौके तलाश रही हैं।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज