जानिए पोस्ट आफिस ने कैसे आम-संतरा, और पशु चारे से कमाए करोड़ों रुपये

पोस्ट आफिस (Post Office) ने बीते 6 महीने में करोड़ों रुपये की कमाई की है.
पोस्ट आफिस (Post Office) ने बीते 6 महीने में करोड़ों रुपये की कमाई की है.

जब ट्रकों (Truck) के पहिए थमे हुए थे तब पोस्ट आफिस की गाड़ियां ऐसे कई ज़रूरी सामान को देश के 75 शहरों में पहुंचा रहीं थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 2:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना (Corona) और लॉकडाउन (Lockdown) के वक्त जब सभी काम-धंधे एकदम से बंद थे या ज़रूरी सामान थोड़ा बहुत सप्लाई किया जा रहा था, ऐसे वक्त में साइड लाइन समझे जाने वाले पोस्ट आफिस (Post Office) ने बीते 6 महीने में करोड़ों रुपये की कमाई की है. वो भी आम (Mango)-संतरा और लीची-कॉफी से.अब आप कहेंगे कि चिठ्ठियां (Latter) इधर से उधर करने वाले पोस्ट आफिस का आम-संतरे से क्या लेना-देना. तो आपको बता देते हैं कि जब ट्रकों (Truck) के पहिए थमे हुए थे तब पोस्ट आफिस की गाड़ियां ऐसे कई ज़रूरी सामान को देश के 75 शहरों में पहुंचा रहीं थी.

लॉकडाउन में 25 हज़ार किमी तक दौड़ीं पोस्ट आफिस की गाड़ियां -लोकसभा में एक सवाल के जवाब में जानकारी देते हुए संचार राज्यमंत्री संजय धोत्रे ने बताया, “कोरोना और लॉकडाउन के दौरान पोस्ट आफिस को जरूरी सामान की सप्लाई की ज़िम्मेदारी दी गई थी. जिसे देखते हुए पोस्ट आफिस ने 24 अप्रैल से देश के 75 महत्वपूर्ण शहरों को जोड़ने वाले 56 नेशनल हाइवे पर एक नेटवर्क तैयार कर प्लान बनाया गया. इस प्लान में राज्यों के भी 266 मुख्य मार्गों को जोड़ा गया. इस नेटवर्क पर पोस्ट आफिस की गाड़ियां करीब 25 हज़ार किमी तक दौड़ीं.”
यह भी पढ़ें- आने वाले दिनों में अब तक का सबसे महंगा अंडा खाने के लिए रहें तैयार, जानिए क्यों

20 हज़ार थैलों में सप्लाई होता था 93 टन माल
संचार राज्यमंत्री संजय धोत्रे ने यह भी बताया, पोस्ट आफिस चूंकि अपने तरीके से माल की सप्लाई एक जगह से दूसरी जगह करता है. माल की सप्लाई देने का उसका अपना तरीका है. इसलिए जिस माल की भी सप्लाई की गई वो पोस्ट आफिस के 20 थैलों में भरा जाता था. हर रोज़ का यही नियम था. एक दिन में 93 टन तक माल ढोया जाता था. इस लिहाज़ से पोस्ट आफिस ने लॉकडाउन के दौरान 3500 टन माल की सप्लाई एक जगह से दूसरी जगह तक की.



पोस्ट आफिस ने घर-दुकान और खेत तक पहुंचाया यह माल-आम, संतरा, लीची जैसे मौसम के फल किसान के बाग में खराब न हो जाएं. बिकने से न रह जाएं और आम इंसान लॉकडाउन में भी इन फलों का मज़ा ले सके, इसके लिए पोस्ट आफिस ने अपना नेटवर्क तैयार किया था. इसके साथ ही कोको पाउडर, पशु चारा, सब्जियों के बीज, ड्रिप सिंचाई के पाइप समेत खेती-किसानी का हर ज़रूरी सामान किसान के खेत तक पहुंचाया. पॉर्सल के साथ ही और दूसरी सर्विस देकर पोस्ट आफिस ने 5 हज़ार करोड़ से ज़्यादा कमाए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज