हर महीने फिक्स कमाई चाहिए तो जानें पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम के बारे में, बन जाएंगे आपके सारे काम

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम के तहत हर महीने एक तय रकम मिलती है.

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम के तहत हर महीने एक तय रकम मिलती है.

Post Office Scheme: पोस्ट ऑफिस की इस खास स्कीम पर निवेश की सुरक्षा के साथ ही हर महीने एक तय इनकम का प्रबंध किया जा सकता हैं. इस स्कीम में निवेश करने के कई फायदे भी होते हैं. आमतौर पर पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम पर बैंक एफडी या डेट इंस्ट्रूमेंट की तुलना में बेहतर रिटर्न मिलता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2021, 6:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए निवेश भी सुरक्षित जगह करना जरूरी होता है. ऐसा नहीं करने पर आपके द्वारा जमा किया गया पैसा डूब सकता है. इसलिए आज हम आपको ऐसी स्कीम के बारे में बता रहे हैं, जहां निवेश करने से आपको दूसरे विकल्पों के मुकाबले बेहतर मुनाफा मिलेगा. हम बात कर रहे हैं पोस्ट ऑफिस (Post Office) की मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (POMIS) की. ये स्कीम आपकी जमा पूंजी को सुरक्षित रखती है. साथ ही, उस पर आप हर महीने अच्छी आमदनी भी कराती है. आइए आपको इस स्कीम के बारे में पूरी जानकारी देते हैं. पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (POMIS) निवेश के सबसे अच्छे विकल्पों में से एक माना जाता है क्योंकि इसमें 4 बड़े फायदे हैं. कोई भी खोल सकता है और आपकी जमा पूंजी हमेशा बरकरार रहती है. बैंक एफडी या डेट इंस्ट्रूमेंट (Debt Instrument) की तुलना में आपको बेहतर रिटर्न मिलता है. इससे आपको हर महीने एक निश्चित आय होती रहती है और फिर स्कीम पूरी होने पर आपकी पूरी जमा पूंजी मिल जाती है, जिसे आप दोबारा इस योजना में निवेश कर मंथली आय का साधन बनाए रख सकते हैं.

कौन खोल सकता है खाता?

आप अपने बच्चे के नाम से भी अकाउंट खोल सकते हैं. अगर बच्चा 10 साल से कम उम्र का है तो उसके नाम पर उसके माता-पिता या लीगल गार्जियन की ओर से अकाउंट खोला जा सकता है. बच्चे की उम्र 10 साल होने पर वह खुद भी अकाउंट के संचालन का अधिकार पा सकता है. वहीं, एडल्ट होने पर उसे खुद जिम्मेदारी मिल जाती है.

कितना लगाना होगा पैसा?
मंथली इन्वेस्टमेंट स्कीम अकाउंट कोई भी खोल सकता है. अगर आप का अकाउंट सिंगल है तो आप इसमें 4.5 लाख रुपये तक अधिकतम जमा कर सकते हैं. इसमें कम से कम 1,000 रुपये की राशि जमा की जा सकती है. वहीं अगर आपका अकाउंट ज्वॉइंट है तो इसमें अधिकतम 9 लाख रुपये जमा किए जा सकते हैं.एक शख्‍स एक से ज्यादा लेकिन पोस्ट ऑफिस द्वारा तय लिमिट के अनुसार अकाउंट खोल सकता है. इसमें जमा की जाने वाली रकम पर और उससे आपको मिलने वाली ब्याज पर किसी तरह की टैक्स छूट का लाभ नहीं मिलता है. हालांकि इससे आपको होने वाली कमाई पर डाकघर किसी तरह का TDS नहीं कटता, लेकिन जो ब्याज आपको मंथली मिलती है, उसके एनुअल टोटल पर आपकी टैक्सेबल इनकम में शामिल किया जाता है.

यह भी पढ़ेंः  FM निर्मला सीतारमण ने कहा-केंद्र क्रिप्‍टोकरेंसी पर पाबंदी को लेकर अडिग, सिर्फ सरकारी ई-करेंसी को दी जा सकती है छूट

हर महीने कितनी होगी आमदनी?



हर महीने के इनकम स्कीम के तहत 6.6 फीसदी सालाना ब्याज मिलता है. इस सालाना ब्याज को 12 महीनों में बांट दिया जाता है, जो आपको मंथली बेसिस पर मिलता रहता है. अगर आपने 9 लाख रुपये जमा किए हैं तो आपका सालाना ब्याज करीब 59,400 रुपये होगा. इस लिहाज से आपको हर महीने करीब 4,950 रुपये की आय होगी. 4,950 रुपये आपको हर महीने मिलेंगे, वहीं आपका 9 लाख रुपये मेच्योरिटी पीरियड के बाद कुछ और बोनस जोड़कर वापस मिल जाएगा. हर महीने नहीं निकाले पैसा तो- अगर आप हर महीने पैसा न निकालें तो वह आपके पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट में रहेगी और मूलधन के साथ इस धन को भी जोड़कर आपको आगे ब्याज मिलेगा.

कितने साल में होगी पूरी?

स्कीम के लिए मेच्योरिटी पीरियड 5 साल है. 5 साल बाद आप अपनी पूंजी को फिर इस योजना में निवेश कर सकते हैं.

कैसे खुलेगा खाता?

आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर अकाउंट खुलवा सकते हैं. इसके लिए आपको आधार कार्ड, वोटर आईडी, पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस में से किसी एक की फोटो कॉपी जमा करनी होगी. इसके अलावा एड्रेस प्रूफ जमा करना होगा, जिसमें आपका पहचान पत्र भी काम आ सकता है. इसके अलावा आपको 2 पासपोर्ट साइज के फोटोग्राफ जमा करने होंगे.

यह भी पढ़ेंः बैंक ग्राहकों के लिए बड़ी खबर, मार्च में शुरू होगी हड़ताल! जानें बैंक के कर्मचारियों-अधिकारियों ने क्‍यों लिया ये फैसला

मेच्योरिटी के पहले पैसा निकालें तो?

अगर किसी जरूरत पर आपको मेच्योरिटी से पहले ही पूरा पैसा निकालना पड़ गया तो यह सुविधा आपको अकाउंट के 1 साल पूरा होने पर मिल जाती है. अकाउंट खोलने की तारीख से 1 साल से 3 साल तक पुराने अकाउंट होने पर, उसमें जमा रकम में से 2% काटकर बाकी रकम आपको वापस मिलती है. 3 साल से ज्यादा पुराना अकाउंट होने पर, उसमें जमा रकम में से 1 फीसदी काटकर बाकी रकम आपको वापस मिलती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज