इस स्कीम पर मिलता है गारंटीड रिटर्न, ऐसे कर सकते हैं 59,400 की कमाई

इस स्कीम पर मिलता है गारंटीड रिटर्न, ऐसे कर सकते हैं 59,400 की कमाई
इस स्कीम पर 6.6 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है.

बिना किसी जोखिम के हर महीने गारंटी रिटर्न के लिए पोस्ट ऑफिस की मंथली गारंटी रिटर्न स्कीम (PO MIS) बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. जुलाई से सितंबर महीने के लिए ​केंद्र सरकार ने इस छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज में कोई बदलाव नहीं करने का फैसला लिया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामरी को लेकर अनिश्चितता बरकरार है. बढ़ते संक्रमण के साथ अब आम लोगों को भविष्य में वित्तीय स्तर पर चिंता सताने लगी है. इस दौरान लोगों के लिए सबसे बड़ी चिंता रेग्युलर इनकम के साथ बेहद कम जोखिम उठाने के विकल्पों को लेकर है. ऐसे में अगर आप भी किसी रेग्युलर इनकम के विकल्प की तलाश में है तो पोस्ट ऑफिस की गारंटीड रिटर्न (Post Office Guaranteed Return Scheme) देने वाली स्कीम आपकी मदद कर सकती है. इसमें पति और पत्नी मिलकर पैसा लगाते है तो यह स्कीम डबल फायदा दे सकती है.

आपको बता दें कि हाल में सरकार ने इस स्कीम पर मिलने वाले ब्याज में कोई बदलाव नहीं करने का फैसला लिया है. इसके पहले सरकार ने अप्रैल से जून तिमाही के लिए इस स्कीम के ब्याज में 1.40 फीसदी की कटौती करने का ऐलान किया था, जिसके बाद यह 6.6 फीसदी पर आ गया है.

क्या है पोस्ट ऑफिस की यह स्कीम?
मंथली इनकम स्कीम पोस्ट ऑफिस की ऐसी योजना है जो किसी व्यक्तिगत या ज्वॉइंट अकाउंट के तहत मंथली कमाई का मौका देती है. इसके तहत कोई भी भारत का नागरिक 1000 रुपये के शुरूआती निवेश से पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवा सकता है.
यह भी पढ़ें: कैश निकालने पर टैक्स देने से जुड़ा नियम हुआ लागू, जानिए इसके बारे में सबकुछ



क्या है इस स्कीम के फायदे
पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (POMIS) निवेश के सबसे अच्छे विकल्पों में से एक माना जाता है क्योंकि इसमें 4 बड़े फायदे हैं. कोई भी खोल सकता है और आपकी जमा पूंजी हमेशा बरकरार रहती है. बैंक एफडी या डेट इंस्ट्रूमेंट की तुलना में आपको बेहतर रिटर्न मिलता है.

इससे आपको हर महीने एक निश्चित आय होती रहती है और फिर स्कीम पूरी होने पर आपकी पूरी जमा पूंजी मिल जाती है, जिसे आप दोबारा इस योजना में निवेश कर मंथली आय का साधन बनाए रख सकते हैं.

कितना कर सकते हैं निवेश?
इस स्कीम में व्यक्तिगत अकांउट में कम से कम 1,500 रुपये और अधिकतम 4,50,000 रुपये तक का निवेश किया जा सकता है. वहीं अगर आपका अकाउंट ज्वॉइंट है तो इसमें अधिकतम 9 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं.एक शख्‍स एक से ज्यादा लेकिन पोस्ट ऑफिस द्वारा तय लिमिट के अनुसार अकाउंट खोल सकता है.

यह भी पढ़ें: यहां है राशन कार्ड से जुड़ी हर जानकारी!एप्लीकेशन से लेकर वेरिफिकेशन तक के नियम

कैसे होगी 59,4000 रुपये की कमाई?
>> दरअसल, पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (MIS) आपको हर महीने कमाई का मौका देती है. इसमें ज्वॉइंट अकाउंट भी खोलने की सुविधा है, जिसके जरिए आपका लाभ दोगुना हो सकता है. पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम के तहत मौजूदा समय में 6.6 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिल रहा है.

>> स्कीम के तहत आपकी कुल जमा पर सालाना ब्याज के हिसाब से रिटर्न की गणना की जाती है. कुल रिटर्न सालाना आधार पर होता है, इसलिए इसे हर महीने के हिसाब से 12 हिस्सों में बांट दिया जाता है.

>> यह एक हिस्सा आप हर महीने अपने खाते में मंगा सकते हैं. अगर आपको मंथली बेसिस पर इसकी जरूरत नहीं है तो मूलधन में यह रकम भी जोड़कर उसपर ब्याज मिलता है.

>> मान लिया की किसी पति-पत्नी ने इस स्कीम के तहत ज्वॉइंट खाते में 9 लाख रुपये निवेश किया है. 9 लाख की जमा पर 6.6 फीसदी ब्याज दर से सालाना रिटर्न 59,400 रुपये होगा.

>> इसे अगर हर महीने में बांट दिया जाए तो यह मंथली 4,950 रुपये होगा. यानी हर महीने 4,950 रुपये आपकी जेब में आएंगे. वहीं आपका मूलधन पूरी तरह से सुरक्षित पड़ा रहेगा. चाहें तो स्कीम को 5 साल बाद और 5-5 साल के लिए बढ़ा सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading