पोस्ट ऑफिस की गारंटीड मुनाफा वाली स्कीम, हर महीने होगी 5100 रुपये की आमदनी

मंथली इनकम स्कीम पोस्ट ऑफिस (Post Office Monthly Income Scheme)
मंथली इनकम स्कीम पोस्ट ऑफिस (Post Office Monthly Income Scheme)

हम आपको आज पोस्ट ऑफिस (Post Office Scheme) की खास स्कीम के बारे में जानकारी दे रहे हैं कि कैसे पति पत्नी घर बैठे इससे जुड़कर 61,200 रुपये की सालाना कमाई कर सकते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप किसी रेगुलर आमदनी (Regular Income) के ऑप्शन को तलाश रहे हैं तो आपके लिए पोस्ट ऑफिस की गारंटीड रिटर्न (Post Office Guaranteed Returns Scheme) देने वाली स्कीम मदद कर सकती है. वहीं, इसमें पति और पत्नी मिलकर पैसा लगाते है तो यह स्कीम डबल फायदा दे सकती है. आपको बता दें कि सरकार ने छोटी बचत योजनाओं (Small Savings Schemes) पर ब्याज दरों में 1.40 फीसदी तक कटौती की है. इन योजनाओं में पोस्ट ऑफिस में मंथली सेविंग स्कीम भी शामिल है. इस योजना के तहत पहले 7.6 ब्याज दर के हिसाब में ब्याज दिया जाता था. लेकिन इसे घटाकर 6.6 कर दिया गया है.

जी हां हम मंथली इनकम स्कीम (MIS) की बात कर रहे हैं ...

करें 61200 रुपये की सालाना कमाई -असल में पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (MIS) आपको हर महीने कमाई का मौका देती है. इसमें ज्वॉइंट अकाउंट भी खोलने की सुविधा है, जिसके जरिए आपका लाभ दोगुना हो सकता है. पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम के तहत मौजूदा समय में 6.6 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिल रहा है.



स्कीम के तहत आपकी कुल जमा पर सालाना ब्याज के हिसाब से रिटर्न की गणना की जाती है. कुल रिटर्न सालाना आधार पर होता है, इसलिए इसे हर महीने के हिसाब से 12 हिस्सों में बांट दिया जाता है.
यह एक हिस्सा आप हर महीने अपने खाते में मंगा सकते हैं. अगर आपको मंथली बेसिस पर इसकी जरूरत नहीं है तो मूलधन में यह रकम भी जोड़कर उसपर ब्याज मिलता है.

मान लिया की किसी पति-पत्नी ने इस स्कीम के तहत ज्वॉइंट खाते में 9 लाख रुपये निवेश किया है. 9 लाख की जमा पर 6.6 फीसदी ब्याज दर से सालाना रिटर्न 61,200 रुपये होगा.

इसे अगर हर महीने में बांट दिया जाए तो यह मंथली 5100 रुपये होगा. यानी हर महीने 5100 रुपये आपकी जेब में आएंगे. वहीं आपका मूलधन पूरी तरह से सुरक्षित पड़ा रहेगा. चाहें तो स्कीम को 5 साल बाद और 5-5 साल के लिए बढ़ा सकते हैं.

क्या है MIS स्कीम - मंथली इनकम स्कीम पोस्ट ऑफिस की ऐसी योजना है जो किसी इनडिविजुअल या ज्वॉइंट अकाउंट के तहत मंथली कमाई का मौका देती है. इसके तहत कोई भी भारत का नागरिक 1000 रुपये के शुरूआती निवेश से पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवा सकता है. अगर कोई सिंगल अकाउंट खोलता है तो इसमें अधिकतम निवेश 4.5 लाख करना होता है. ज्वॉइंट अकाउंट के तहत अधिकतम निवेश 9 लाख रुपये कर सकते हैं.

मिलते हैं 4 बड़े फायदे-पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (POMIS) निवेश के सबसे अच्छे विकल्पों में से एक माना जाता है क्योंकि इसमें 4 बड़े फायदे हैं. कोई भी खोल सकता है और आपकी जमा पूंजी हमेशा बरकरार रहती है. बैंक एफडी या डेट इंस्ट्रूमेंट की तुलना में आपको बेहतर रिटर्न मिलता है. इससे आपको हर महीने एक निश्चित आय होती रहती है और फिर स्कीम पूरी होने पर आपकी पूरी जमा पूंजी मिल जाती है, जिसे आप दोबारा इस योजना में निवेश कर मंथली आय का साधन बनाए रख सकते हैं.

ये भी पढ़ें-8 करोड़ लोगों को फ्री गैस सिलेंडर देने के लिए सरकार ने उठाया एक और बड़ा कदम
कौन खोल सकता है खाता-आप अपने बच्चे के नाम से भी अकाउंट खोल सकते हैं. अगर बच्चा 10 साल से कम उम्र का है तो उसके नाम पर उसके माता-पिता या लीगल गार्जियन की ओर से अकाउंट खोला जा सकता है. बच्चे की उम्र 10 साल होने पर वह खुद भी अकाउंट के संचालन का अधिकार पा सकता है. वहीं, एडल्ट होने पर उसे खुद जिम्मेदारी मिल जाती है.


कितना लगाना होगा पैसा-मंथली इन्वेस्टमेंट स्कीम अकाउंट कोई भी खोल सकता है. अगर आप का अकाउंट सिंगल है तो आप इसमें 4.5 लाख रुपए तक अधिकतम जमा कर सकते हैं. इसमें कम से कम 1500 रुपए की राशि जमा की जा सकती है. वहीं अगर आपका अकाउंट ज्वॉइंट है तो इसमें अधिकतम 9 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं.एक शख्‍स एक से ज्यादा लेकिन पोस्ट ऑफिस द्वारा तय लिमिट के अनुसार अकाउंट खोल सकता है.



इसमें जमा की जाने वाली रकम पर और उससे आपको मिलने वाली ब्याज पर किसी तरह की टैक्स छूट का लाभ नहीं मिलता है. हालांकि इससे आपको होने वाली कमाई पर डाकघर किसी तरह का TDS नहीं कटता, लेकिन जो ब्याज आपको मंथली मिलती है, उसके एनुअल टोटल पर आपकी टैक्सेबल इनकम में शामिल किया जाता है.

कैसे खुलेगा खाता?
आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर अकाउंट खुलवा सकते हैं. इसके लिए आपको आधार कार्ड, वोटर आईडी, पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस में से किसी एक की फोटो कॉपी जमा करनी होगी. इसके अलावा एड्रेस प्रूफ जमा करना होगा, जिसमें आपका पहचान पत्र भी काम आ सकता है. इसके अलावा आपको 2 पासपोर्ट साइज के फोटोग्राफ जमा करने होंगे.

मेच्योरिटी के पहले पैसा निकालें तो
अगर किसी जरूरत पर आपको मेच्योरिटी से पहले ही पूरा पैसा निकालना पड़ गया तो यह सुविधा आपको अकाउंट के 1 साल पूरा होने पर मिल जाती है. अकाउंट खोलने की तारीख से 1 साल से 3 साल तक पुराने अकाउंट होने पर, उसमें जमा रकम में से 2% काटकर बाकी रकम आपको वापस मिलती है. 3 साल से ज्यादा पुराना अकाउंट होने पर, उसमें जमा रकम में से 1 फीसदी काटकर बाकी रकम आपको वापस मिलती है.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी: सरकार ने 5 लाख रुपये तक के इनकम टैक्स रिफंड तुरंत खाते में जारी करने का आदेश दिया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज