Post Office Saving Schemes: पोस्ट ऑफिस की ये 5 स्कीम है बेहद खास, मिलता है ज्यादा फायदा

 पोस्टटऑफिस की इन स्कीम में करें निवेश

पोस्टटऑफिस की इन स्कीम में करें निवेश

आज के समय में हर व्यक्ति भविष्य को सुरक्षित करने के लिए अपने पैसों को सही जगह निवेश करना चाहता है. आज हम आपको पोस्ट ऑफिस (Post Office Schemes) की कुछ ऐसी स्कीम के बारे में बता रहे हैं, जहां निवेश कर आप मोटी रिटर्न के साथ-साथ डबल फायदा भी पा सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 5:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पोस्ट ऑफिस (Post Office Schemes) की कई ऐसी स्कीम्स हैं जो छोटी बचत के लिहाज से बड़े काम की हैं. पोस्ट ऑफिस की इन छोटी बचत योजनाओं में निवेश करने से न सिर्फ सरकारी गारंटी मिलती है बल्कि, अच्छे रिटर्न के साथ टैक्स छूट का भी फायदा मिलता है. आयकर में सेक्शन 80C के तहत इसमें 1.5 लाख रुपये के प्रति वर्ष के निवेश पर टैक्स छूट मिलता है. ऐसे में आप इन योजनाओं का फायदा उठा ले सकते हैं. आइए जानते हैं इन स्कीमों के बारे में सबकुछ...

1. पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (POMIS)- अगर आप कम जोखिम के साथ निवेश करना चाहते हैं तो इसके लिए पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (Monthly Income Scheme) एक बेहतर विकल्प हो सकता है. मंथली इनकम स्कीम में आपको 6.6 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. ब्याज की रकम हर माह आपके बचत खाते में डाली जाती है. मंथली इनकम ​स्कीम (MIS) की अवधि स्कीम 5 साल की है, जिसे आगे भी 5-5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है. डाकघर की स्कीम होने के नाते यह पूरी तरह से रिस्क फ्री होती है. आप इस खाते में अधिकतम 4.5 लाख रुपये रख सकते हैं. हालांक, इस स्कीम में ज्वाइंट अकाउंट की भी सुविधा है. अगर आप ज्वाइंट अकाउंट खुलवाते हैं तो इसके लिए 9 लाख रुपये तक की लिमिट है.

ये भी पढ़ें: Canara Bank सस्ते में बेच रहा फ्लैट, आवासीय मकान, दुकान और भी बहुत कुछ, 26 मार्च को होगी नीलामी, चेक करें पूरी डिटेल

2. सीनियर सिटीजन सेविंग अकाउंट (SCSS)- पोस्ट ऑफिस में सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (Post Office Senior Citizen Saving Scheme) स्कीम है. मौजूदा समय में इस योजना पर 7.4 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है. इस पर मिलने वाला ब्याज तिमाही दर तिमाही आधार पर अकांउट में क्रेडिट किया जाता है. इस योजना की भी खास बात है कि इसपर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट की सुविधा भी मिलती है.
3. नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC)- पोस्ट ऑफिस की एक और स्कीम नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (National Saving Certificate) भी है. नेशनल सेविंट सर्टिफिकेट बिल्कुल फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposits) की तरह ही होती है. पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) की तरह इस स्कीम पर भी ब्याज पर कोई टैक्स नहीं लगता है. इस स्कीम पर आपको 6.8 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है, जिसकी गणना सालाना आधार पर होती है. लेकिन, इस पर मिलने वाले ब्याज की राशि स्कीम के मैच्योरिटी पर मिलती है. इस स्कीम में भी जमा राशि पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट मिलती है.

4. पोस्ट ऑफिस में टाइम डिपॉजिट- पोस्ट ऑफिस में टाइम डिपॉजिट नाम से भी एक योजना होती है, जिसकी मैच्योरिटी 5 साल के लिए होती है. इस योजना में न्यूनतम 200 रुपये से निवेश करना शुरू कर सकते हैं. इस योजना के लिए पहले ​3 साल के लिए 5.5 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है. वहीं, पांचवें साल में इसपर 6.7 फीसदी की दर से ब्याज मिलती है. इसपर मिलने वाला ब्याज सालाना तौर पर मिलता है. लेकिन, इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि इस योजना के तहत तिमाही आधार पर ब्याज मिलता है. इस योजना पर मिलने वाले ब्याज पर कोई टैक्स नहीं लगता है.

ये भी पढ़ें: LIC ने करोड़ो ग्राहकों को दी नई सुविधा! अब किसी भी ब्रांच में जमा कर सकते हैं मैच्योरिटी डॉक्यूमेंट



 5. किसान विकास पत्र (KVP)- छोटी बचत योजना में किसान विकास पत्र (KVP) आम लोगों में काफी हिट है. इसे आप अपने पड़ोस के डाकघर में जाकर खरीद सकते हैं. इसकी शुरुआत 1000 रुपये से होती है. यह एक तरह का प्रमाण पत्र होता है, जिसे आप पोस्ट ऑफिस से खरीद सकते है. इसे बॉन्‍ड की तरह प्रमाण पत्र रूप में जारी किया जाता है. इस पर सरकार की ओर से तय ब्याज मिलता है. सरकार हर तीन महीने के लिए ब्याज दरें तय करती हैं. 6.9 फीसदी की ब्याज दर के आधार पर इस स्कीम के तहत 9 साल और 2 महीने यानी 110 महीनों में आपका पैसा डबल हो जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज