कंगाल पाकिस्तान में गरीबी से बुरा हाल! 40 फीसदी लोगों के घरों में खाने की कमी, वर्ल्ड बैंक ने जारी की रिपोर्ट

पाकिस्तान (Pakistan)

पाकिस्तान (Pakistan) में गरीबी बढ़ती जा रही है. 2 करोड़ लोग गरीबी रेखा से नीचे पहुंच गए हैं. वर्ल्ड बैंक के मुताबिक, 2020-21 में गरीबी 78.4 फीसदी थी और 2021-22 में यह 78.3 फीसदी पर पहुंच जाएगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली: पाकिस्तान (Pakistan) के हालात खराब है. अर्थव्यवस्था बिगड़ रही साथ ही गरीबी (poverty in pakistan) भी बढ़ती जा रही है. देश में खाने और रोजगार का संकट भी गहराता जा रहा है. विश्व बैंक की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है. विश्व बैंक (World Bank) का मानना है कि पाकिस्तान में 40 प्रतिशत ऐसे घर हैं जो खाने की कमी से जूझ रहे हैं. लोगों को खाने के लिए परेशान होना पड़ रहा है. यहां पर मजदूरी करने वालों लोगों पर इसकी सबसे ज्यादा मार देखने को मिल रही है.

    विश्व बैंक (World Bank) का मानना है कि पाकिस्तान में साल 2020 में 4.4 फीसदी से लेकर 5.4 फीसदी तक गरीबी बढ़ी है. यहां लगभग 20 लाख से ज्यादा लोग गरीबी रेखा (Poverty Line) के नीचे चले गए हैं. पाकिस्तान इस समय कंगाली के दौर से गुजर रहा है और देश चलाने के लिए इमरान सरकार ने IMF के अलावा कई देशों से भी कर्ज लिया हुआ है. अब IMF के दबाव के चलते पाकिस्तान ने अपने ही लोगों की कमर तोड़नी शुरू कर दी है.

    यह भी पढ़ें : 1 रुपये का नोट आपको बनाएगा मालामाल, मिलेंगे पूरे एक लाख रुपये, जानें कैसे

    रिपोर्ट में हुआ खुलासा
    द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट बताती है कि निम्न-मध्यम-आय गरीबी दर का उपयोग करते हुए वर्ल्ड बैंक ने अनुमान लगाया है कि साल 2020-21 में पाकिस्तान में गरीबी का अनुपात 39.3 फीसदी है और 2021-22 में यह 39.2 रह सकता है. जबकि 2022-23 में यही अनुपात 37.9 हो सकता है.

    78.3 फीसदी तक पहुंच सकती है गरीबी
    वर्ल्ड बैंक के मुताबिक, 2020-21 में गरीबी 78.4 फीसदी थी और 2021-22 में यह 78.3 फीसदी पर पहुंच जाएगी. साल 2022-23 में यह नीचे आकर 77.5 फीसदी तक हो सकती है.

    यह भी पढ़ें: Cryptocurrency price today: बिटकॉइन में आई दो हफ्ते की सबसे बड़ी गिरावट, चेक करें किस भाव पर कर रहा ट्रेड

    कोरोना संकट में बिगड़े हालात
    वर्ल्ड बैंक का कहना है कि दुनियाभर में फैले कोरोना संकट की वजह से पाकिस्तान के हालात और भी ज्यादा खराब हुए हैं. इस दौरान काम करने वाले लोगों की आय में कमी देखी गई है. इसके अलावा अनौपचारिक और मजदूर वर्ग में रोजगार की सबसे ज्यादा कमी देखी गई है. पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में हर साल प्रति व्यक्ति होने वाली वृद्धि औसतन केवल दो प्रतिशत है. यह आंकड़ा दक्षिण एशिया के औसत के आधे से भी कम है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.