पॉवरग्रिड इनविट शेयर ने लिस्टिंग में दिया 4% का मुनाफा, 104 रुपए पर शेयर हुए लिस्ट

पावरग्रिड पहली सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट है जिसने IPO से फंड जुटाया है.

पावरग्रिड पहली सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट है जिसने IPO से फंड जुटाया है.

पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया देश की सबसे बड़ी पावर ट्रांसमिशन कंपनी है और पावर ग्रिड इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट (PowerGrid InvIT) की स्पॉन्सर कंपनी है

  • Share this:

नई दिल्ली. पावरग्रिड इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट (PowerGrid InvIT) की शुक्रवार को बीएसई (BSE) और एनएसई (NSE) पर लिस्टिंग 104 रुपए पर हुई है. कंपनी के आईपीओ का इश्यू प्राइस 100 रुपए था और इसकी लिस्टिंग 4 फीसदी प्रीमियम पर हुई है. यह पहली सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट है जिसने IPO से फंड जुटाया है.

बीएसई पर शुक्रवार सुबह 10.27 बजे पावरग्रिड इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट के शेयर 3.5 फीसदी ऊपर 103.50 रुपए पर ट्रेड कर रहे थे. उस वक्त BSE पर वॉल्यूम 10.27 लाख यूनिट था. जबकि एनएसई पर यह 3.45 फीसदी ऊपर 103.45 रुपए पर ट्रेड कर रहा था जबकि वॉल्यूम 2,64,17,100 यूनिट था. अभी तक के कारोबार के दौरान PowerGrid InvIT के शेयर BSE पर 104.97 रुपए के हाइएस्ट लेवल और 103.40 रुपए के निचले लेवल तक आया था.

यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो

पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया देश की सबसे बड़ी पावर ट्रांसमिशन कंपनी
पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया देश की सबसे बड़ी पावर ट्रांसमिशन कंपनी है और पावर ग्रिड इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट की स्पॉन्सर कंपनी है. ग्रॉस ब्लॉक और ट्रांसमिशन लाइन की लंबाई की आधार पर पावर ग्रिड कॉरपोरेशन देश की तीसरी सबसे बड़ी सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइज है. भारत के इंटर रीजनल पावर ट्रांसफर कैपासिटी में कंपनी की हिस्सेदारी 85 फीसदी है. पावर ग्रिड ऊंचाहार ट्रांसमिशन ( PowerGrid Unchahar Transmission) पावर ग्रिड कॉरपोरेशन की पूर्ण सहयोगी कंपनी और इनवेस्टमेंट ट्रस्ट कंपनी की इनवेस्टमेंट मैनेजर है.

यह भी पढ़ें :  ड्रीम कार खरीद रहे हैं तो इन पांच बातों का जरूर ध्यान रखें, कीमतों में होगा फायदा 

85 फीसदी हिस्सेदारी पब्लिक यूनिट होल्डर्स के पास होगी



इनवेस्टमेंट ट्रस्ट कंपनी की मेन स्पॉन्सर पावर ग्रिड कॉरपोरेशन है. लिहाजा कंपनी में इसे कम से कम 15 फीसदी हिस्सेदारी बनाए रखनी होगी. बाकी की 85 फीसदी हिस्सेदारी पब्लिक यूनिट होल्डर्स के पास होगी. इनवेस्टमेंट मैनेजर कंपनी में स्पॉन्सर यानी पावर ग्रिड कॉरपोरेशन की 100 फीसदी हिस्सेदारी है.

यह भी पढ़ें : FD रेट्स में इस बैंक ने किया बदलाव, आप भी ज्यादा ब्याज दर का उठा सकते हैं फायदा, जानें सबकुछ

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज