Home /News /business /

ppf senior citizen savings scheme sukanya samriddhi interest rates may hike soon arnod

छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ सकती है ब्याज दर, PPF, NSC, सुकन्या समृद्धि के निवेशकों को होगा फायदा

रिजर्व बैंक ने इसी महीने रेपो रेट में अचानक से 40 बेसिस प्वाइंट की वृद्धि की है.

रिजर्व बैंक ने इसी महीने रेपो रेट में अचानक से 40 बेसिस प्वाइंट की वृद्धि की है.

इन योजनाओं के निवेशकों को अगले महीने अच्छी खबर मिल सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार इन योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी पर विचार कर रही है. छोटी बचत योजनाओं में नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी), सुकन्या समृद्धि योजना, वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) जैसी योजनाएं शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. पोस्ट ऑफिस की छोटी बचत योजनाओं में निवेशकों की दिलचस्पी लंबे अरसे से रही है. ये न सिर्फ कम जोखिम वाली निवेश योजनाएं होती हैं बल्कि इन योजनाओं में बैंकों की तुलना में ब्याज भी ज्यादा मिलता है. इसके अलावा इसे सरकार का भी समर्थन हासिल होता है. लेकिन लंबे समय से इन बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं हुई है.

    इन योजनाओं के निवेशकों को अगले महीने अच्छी खबर मिल सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार इन योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी पर विचार कर रही है. छोटी बचत योजनाओं में नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी), सुकन्या समृद्धि योजना, वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) जैसी योजनाएं शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें- एक तरफ महंगाई तो दूसरी ओर बच्‍चों की पढ़ाई, कैसे भविष्‍य के लिए बनाएं प्‍लान और कहां-कितने निवेश में चल जाएगा काम

    लंबे समय से नहीं बढ़ी है ब्याज दर
    केंद्र सरकार हर तीन महीने पर छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों की समीक्षा करती है. काफी समय से इनकी दरों में परिवर्तन नहीं हुआ है. मार्च में हुई समीक्षा में भी दरें अपरिवर्तित रखी गई थी. अब अगली समीक्षा जून में होगी. ऐसे में आप कह सकते हैं कि आगे भी सरकार दरों को स्थिर रख सकती है. लेकिन इसके बढ़ने की संभावना कुछ वजहों से संभव है.

    ये भी पढ़ें- बढ़ती महंगाई पर अंकुश लगाने के लिए सरकार एक्शन में, और सख्त कदम उठाने की जरूरत

    इस वजह से बढ़ सकती है दरें
    रिजर्व बैंक ने इसी महीने रेपो रेट में अचानक से 40 बेसिस प्वाइंट की वृद्धि की है. महंगाई को नियंत्रित करने के लिए यह कदम उठाया गया है. इस वजह से सभी तरह का कर्ज महंगा हो गया है. दूसरी ओर, निवेशकों को इससे ज्यादा रिटर्न मिलने लगा है. तमाम सरकारी और निजी बैंकों ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) और रेकरिंग डिपॉजिट (RD) की ब्याज दरें बढ़ा दी हैं. इससे सरकार पर छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी का दबाव बन गया है. सरकार इन योजनाओं में की गई निवेश राशि का इस्तेमाल बुनियादी ढांचा क्षेत्र की विभिन्न योजनाओं में करती है. अगर बैंकों की ब्याज दर छोटी बचत योजनाओं से ज्यादा हो गई तो निवेशक इनसे हाथ खींच कर बैंकों के एफडी और आरडी में निवेश करने लगेंगे. इससे सरकार को पूंजी की कमी हो सकती है. इसलिए भी छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी की संभावना बन रही है.

    विभिन्न बचत योजनाओं की मौजूदा दर
    पीपीएफ- 7.1 फीसदी
    राष्ट्रीय बचत पत्र (एनएससी)- 6.8 फीसदी
    सुकन्या समृद्धि योजना- 7.6 फीसदी
    किसान विकास पत्र- 6.9 फीसदी
    डाक घर बचत खाता- 4 फीसदी
    1-3 साल तक का टर्म डिपॉजिट- 5.5 फीसदी
    5 साल तक का टर्म डिपॉजिट- 6.7 फीसदी
    5 साल तक की आरडी – 5.8 फीसदी
    वरिष्ठ नागरिक बचत योजना- 7.4 फीसदी
    5 साल तक मासिक आय योजना- 6.6 फीसदी

    Tags: PPF, Small Saving Schemes, Small Savings Schemes, Sukanya samriddhi scheme

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर