केंद्र सरकार को पता नहीं किसानों के खाते से क्यों वापस हो रहा पैसा, PMKSY के CEO ने दिया ये जवाब!

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा, एक बार किसी के अकाउंट में रकम चली गई तो अपने आप वापस नहीं हो सकती

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: March 8, 2019, 10:30 AM IST
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: March 8, 2019, 10:30 AM IST
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme) के तहत 2,000 रुपये की पहली किस्त पा चुके कुछ किसानों के पैसे उनके बैंक अकाउंट से वापस होने का दावा किया जा रहा है. यूपी के जौनपुर और ऊना (हिमाचल) के बंगाणा में ऐसे मामले सामने आए हैं. जहां कुछ किसानों के खाते में आई रकम अचानक वापस चली गई. वे अब परेशान हैं. लेकिन इस योजना के सीईओ विवेक अग्रवाल का कहना है कि उन्हें ऐसे किसी मामले की जानकारी नहीं है.

ऐसे मामलों के सामने आने के बाद हमने अग्रवाल से संपर्क किया. अग्रवाल ने कहा कि असली किसानों के खाते में आया पैसा क्यों वापस हो रहा है इसकी जानकारी संबंधित राज्य ही दे पाएंगे. क्योंकि योजना का पैसा केंद्र सरकार के खाते से सीधे नहीं जा रहा. केंद्र सरकार राज्यों के अकाउंट में पैसा भेजती है फिर उस अकाउंट से किसानों तक पैसा पहुंचता है. (ये भी पढ़ें: इन 'किसानों' से वापस ली जाएगी 2000 रुपये की सहायता, कहीं आप तो नहीं हैं इनमें? )



 farmer, kisan, DBT, Bank, direct benefit transfer scheme, aadhaar, pradhanmantri kisan samman nidhi scheme, bjp, narendra modi, PM-Kisan, benefit, ministry of agriculture, farm loan, किसान, डीबीटी, बैंक, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, आधार, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, बीजेपी, नरेंद्र मोदी, पीएम-किसान, कृषि मंत्रालय, कृषि ऋण, लोकसभा चुनाव, loksabha election 2019, gajendra singh shekhawat, गजेंद्र सिंह शेखावत, Uttar Pradesh, Himachal Pradesh, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश          किसान  (file photo)

हालांकि, इस बारे में हमने केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से भी बात की. उन्होंने किसानों के अकाउंट में आई रकम वापस होने पर हैरानी जाहिर की. कहा कि एक बार किसी के अकाउंट में रकम चली गई तो अपने आप वापस नहीं हो सकती. ऐसा कोई मामला मेरे संज्ञान में नहीं है.

यहां से सामने आए पैसा वापस होने के मामले

जौनपुर की किसान निर्मला देवी का कहना है कि 24 फरवरी को खाते में 2000 रुपए जमा होने का मैसेज आया. जब बैंक में निकालने गए तो पता चला कि पैसा वापस चला गया है. सिर्फ निर्मला देवी ही नहीं बताया जा रहा है कि जिले के लगभग 5000 हजार किसानों के साथ ऐसा हुआ है.

बताया गया है कि यूनियन बैंक की शाखा, बरईपार से 300 किसानों के खाते से निधि का पैसा वापस चला गया है. किसानों को पैसा आने का मैसेज भी आया था. लेकिन जब वापसी का मैसेज हुआ तो उन्हें बड़ा झटका लगा. लोग बैंक जा रहे हैं. लेकिन कर्मचारी कुछ भी बताने से इनकार कर रहे हैं. जौनपुर के जिलाधिकारी अरविंद मलप्पा ने बताया कि जितने किसानों के खातों से रुपये वापस हुए हैं, ये सभी किसान पात्र हैं. पात्रों के नाम में डिजिटल अन्तर के चलते रुपए वापस चले गए हैं. इस विषय में मुख्यालय से जानकारी लेकर डिजिटल गलती को सुधारकर किसानों के खातों में जल्द ही सेकेंड फेज में रुपये भेजे जाएंगे. (ये भी पढ़ें:  सिर्फ तीन डॉक्यूमेंट दीजिए, खेती-किसानी के लिए 3 लाख रुपये का लोन लीजिए! )
Loading...

farmer,किसान, नरेंद्र मोदी, pradhanmantri kisan samman nidhi, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम, narendra modi,बीजेपी, BJP, 2019 लोकसभा चुनाव, lok sabha elections 2019, गन्ना किसान, sugarcane farmers, उत्तर प्रदेश, uttar pradesh, भारतीय जनता पार्टी, bharatiya janata party, उत्तर प्रदेश, Uttar Pradesh, योगी आदित्यनाथ, yogi adityanath, farmers welfare, former income, किसानों की आय, किसान कल्याण, गोरखपुर, gorakhpur,kisan        किसानों को पीएम मोदी का ये संदेश मिला था

ऊना (हिमाचल) के बंगाणा में भी कुछ किसानों के साथ ऐसा हुआ है. खाते में दो हजार रुपये तो आए लेकिन वापस भी हो गए. जब वे लोग बैंक पहुंचे बताया गया कि योजना के तहत आए पैसे उसी दिन या उससे दूसरे दिन वापस हो गए थे. ऐसा क्यों हुआ, यह न तो बैंक प्रबंधन और न प्रशासनिक अफसर बता पा रहे हैं. बैंक अधिकारियों का कहना है कि इसमें बैंक की भूमिका नहीं है. पैसा सरकार ने भेजा था, वहीं वापस गया है.

ये भी पढ़ें-

किसान सम्मान निधि का किसे मिलेगा लाभ, कहीं छूट तो नहीं गए आप?

किसानों को सालाना 6000 रुपये देने जा रही मोदी सरकार ने कर्जमाफी पर क्या कहा?

वह किसान जिसे नहीं चाहिए कर्जमाफी का फायदा!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार