PM-किसान स्कीम: इसलिए सिर्फ 6.19 करोड़ किसानों को मिली योजना की सभी किश्त, बदलाव की उठी मांग!

योजना शुरू होने के 17 माह बाद भी 14.5 करोड़ लोगों को लाभ नहीं दे सकी है सरकार
योजना शुरू होने के 17 माह बाद भी 14.5 करोड़ लोगों को लाभ नहीं दे सकी है सरकार

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम के तहत नए किसानों को दिसंबर 2018 से मिले पैसे, ताकि अधिकारी किसानों का डाटा वेरिफिकेशन जल्दी करें, किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष पुष्पेंद्र सिंह की मांग

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में 6.20 करोड़ ऐसे किसान हैं जिन्हें प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme) की सभी चार किश्त मिल चुकी है. ये वो किसान हैं जिन्हें योजना की शुरुआत यानी दिसंबर 2018 के बाद से ही पैसे मिलने शुरू हो गए थे. सभी किश्त पाने वाले किसान इसलिए कम हैं क्योंकि जिस दिन आवेदनकर्ता का वेरीफिकेशन होता है उसी दिन से उसे स्कीम का पात्र माना जाता है. किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष पुष्पेन्द्र सिंह ने मांग की है कि जिन भी किसानों को इस स्कीम में शामिल किया जाए उन्हें दिसंबर 2018 से ही इसका लाभ दिया जाए. क्योंकि लाभार्थी किसान पहले भी था और अब भी है.

सिंह कहते हैं कि यह व्यवस्था होगी तो अधिकारी वेरिफिकेशन में तेजी दिखाएंगे. यह स्कीम सभी 14.5 करोड़ किसानों के लिए है. इस योजना के तहत 2019-20 में 75 हजार करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया था. लेकिन इतने लाभार्थियों का वेरीफिकेशन नहीं हुआ इसलिए सिर्फ 54 हजार करोड़ ही खर्च हुआ था. लॉकडाउन की वजह से किसानों को बहुत नुकसान हो चुका है. इसलिए सरकार को इस स्कीम के तहत सालाना मिलने वाली 6000 रुपये की रकम को बढ़ाकर 24 हजार रुपये कर देना चाहिए.

PM Kisan Samman Nidhi Scheme, पीएम-किसान सम्मान निधि स्कीम, PM-Kisan scheme, पीएम किसान योजना, PM-Kisan, पीएम-किसान, aadhaar card, ministry of agriculture, कृषि मंत्रालय, किसान हेल्प डेस्क, KISAN Help Desk, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, DBT, बैंक अकाउंट, bank account, farmers, किसान, covid-19 lockdown, कोविड-19 लॉकडाउन
पीएम किसान स्कीम के तहत सालाना 6000 रुपये की मदद मिलती है




कितने लाभार्थियों को कितना लाभ मिला
-स्कीम के तहत तीनों किश्त लेने वाले किसानों की संख्या 7,67,34,757 है.

-पीएम किसान योजना में 2 किश्त पाने वाले देश में 8,90,85,200 किसान हैं.

-एक किश्त पाने वाले किसानों की संख्या सर्वाधिक 9,41,70,467 है.

लॉकडाउन में सहयोगी बनी योजना

-कोविड-19 लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान पीएम-किसान योजना (PM-KISAN Scheme) के तहत 9.13 करोड़ किसानों को 18,253 करोड़ रुपये दिए गए. यह मोदी सरकार की सबसे अहम योजनाओं में से एक है. इस योजना के तहत सरकार किसानों के बैंक खातों में हर साल 6000 रुपये जमा करती है. यह राशि तीन बराबर किश्तों में किसानों के खाते में डाली जाती है.

PM-Kisan स्कीम में अपना नाम ऐसे रजिस्टर कराएं
केन्द्र सरकार ने नए वित्त वर्ष में किसानों के नाम जोड़ने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. नया वित्तीय वर्ष शुरू हो चुका है, इसलिए अब नई सूची जारी की जाएगी. इससे पहले किसानों को अपना नाम सूची में जांचने और नए नाम जोड़ने का अवसर दिया गया है.

लिस्ट में चेक करें अपना नाम
अगर आपने आवेदन किया है और यह जानना चाहते हैं कि आपका नाम 6000 सालाना पाने के लिए लिस्ट में है या नहीं, तो इस वेबसाइट पर जाकर अपना नाम चेक कर सकते हैं. जिन किसानों को इस योजना का लाभ सरकार की तरफ से दिया गया है,उनके भी नाम राज्य/जिलेवार/तहसील/गांव के हिसाब से देखे जा सकते हैं. इसमें सरकार ने सभी लाभार्थियों की पूरी सूची अपलोड कर दी है.

अगर आपने इस योजना को फायदा लेने के लिए आवेदन किया है और अब अपना नाम लाभार्थियों की सूची में देखना चाहते हैं तो आपके लिए सरकार ने अब यह सुविधा ऑनलाइन भी मुहैया करा दी है. पीएम किसान सम्मान निधि योजना 2020 की नई सूची को सरकारी वेबसाइट pmkisan.gov.in पर चेक कर सकते हैं.

PM Kisan Samman Nidhi 2020 Registration, PM-Kisan Application, PM Kisan Portal, PM-Kisan Helpline, Kisan Samman Nidhi scheme new farmer Registration, Aadhar Correction, Apply pm kisan samman yojana online, New Farmer Registration Form in PM Kisan, modi government, ministry of agriculture, पीएम किसान सम्मान निधि २०२० पंजीकरण, पीएम-किसान आवेदन, पीएम किसान पोर्टल, पीएम-किसान हेल्पलाइन, किसान सम्मान निधि योजना नए किसान पंजीकरण, आधार सुधार, पीएम किसान ऑनलाइन आवेदन करें, नया किसान पंजीकरण फॉर्म पीएम किसान, मोदी सरकार, कृषि मंत्रालय
किसानों के लिए बड़े काम की है यह स्कीम


लिस्ट ऑनलाइन देखने के लिए आसान स्टेप
>> वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं.
>> होम पेज पर मेन्यू बार देखें और यहां ‘फार्मर कार्नर’ पर जाएं.
>> यहां ‘लाभार्थी सूची’ के लिंक पर क्लिक करें.
>> इसके बाद अपना राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव विवरण दर्ज करें.
>> इतना भरने के बाद Get Report पर क्लिक करें और पाएं पूरी लिस्ट.

ये भी पढ़ें: Opinion: पहले मौसम अब कोरोना के दुष्चक्र में पिसे किसान, कैसे डबल होगी 'अन्नदाता' की आमदनी

PMFBY: किसान या कंपनी कौन काट रहा फसल बीमा स्कीम की असली ‘फसल’

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज