लाइव टीवी

प्रधानमंत्री उजाला योजना: सरकार को हुई 18716 करोड़ रुपये की बचत, आप भी उठा सकते हैं इसका फायदा

News18Hindi
Updated: October 5, 2019, 11:07 PM IST
प्रधानमंत्री उजाला योजना: सरकार को हुई 18716 करोड़ रुपये की बचत, आप भी उठा सकते हैं इसका फायदा
प्रधानमंत्री उजाला योजना: सरकार को हुई 18716 करोड़ रुपये की बचत

प्रधानमंत्री उजाला योजना (Pradhan Mantri Ujala Yojna) के तहत देशभर में 36.02 करोड़ LED बल्ब वितरित किए जा चुके हैं. इतनी बड़ी संख्या में एलईडी बल्ब वितरण से सरकार को 18716 करोड़ रुपये की बचत हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2019, 11:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. किसी भी देश (Country) की तरक्की इस बात पर निर्भर करती है कि उसके पास संसाधन कितने हैं और वो उनका इस्तेमाल कैसे करते हैं. इन्हीं शब्दों के साथ पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 2015 में उजाला योजना (Pradhan Mantri Ujala Yojna) के तहत एलईडी (LED) बल्ब वितरण की शुरुआत की थी. योजना का मकसद देश में बिजली (electricity) की खपत को कम कर राष्ट्र निर्माण में योगदान देना था. 4 साल बाद पीएम मोदी की इसी योजना की अब एक बड़ी खबर आई है. योजना के तहत अब तक देशभर में 36.02 करोड़ बल्ब वितरित किए जा चुके हैं. इससे एक ओर जहां हजारों करोड़ रुपये की बचत हुई है, वहीं वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड (Co2) जैसी हानिकारकर गैस का उत्ससर्जन कम हो गया है.

4 साल में मिली बड़ी कामयाबी- मंत्रालय ने आंकड़े जारी करते हुए का है कि 2015 से अब तक देशभर में 36.02 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किए जा चुके हैं. इतनी बड़ी संख्या में एलईडी बल्ब वितरण से सरकार को 18716 करोड़ रुपये की बचत हुई है. दूसरी ओर सालाना 46790 एमएन (केडब्ल्यूएच) ऊर्जा की बचत हुई. अगर रुपये में बात करें तो 20 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत की ऊर्जा बचाई गई है.

योजना की विशेषताएं सरकार इस योजना के तहत सस्ती एलईडी लाइट बल्ब दे रही है. इस योजना का उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा भी है.

केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए सबसे अच्छा और सबसे मजबूत उपायों में से एक है. इस योजना के तहत आवेदक को सब्सिडी वाले दामों पर एलईडी लाइट बल्ब दिया जाएगा. जिससे एलईडी लाइट बल्ब आपको बाजार मूल्य से 40 प्रतिशत से कम दाम में प्रदान किया जाएगा.

कैसे मिलेगा LED बल्ब: इस योजना का लाभ लेने के लिए आप अपने क्षेत्र के पावर हाउस से संपर्क कर सकते हैं. जरुरी दस्तावेज आधार कार्ड मतदाता पहचान पत्र पासपोर्ट अपने पते की जानकारी देने के लिए, आपको बिजली या फोन का बिल दे सकते हैं.

3.78 करोड़ टन हर साल कम हुई कार्बन डाइऑक्साइड-मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों को मानें तो 36 करोड़ एलईडी बल्ब का वितरण होने के बाद से वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन की मात्रा में कमी आई है. आंकड़ों की मानें तो अब हर साल वातावरण में 3.78 करोड़ टन कार्बन डाइऑक्साइड का कम उत्सर्जन हो रहा है. खास बात ये है कि जब पीएम मोदी ने इस योजना की शुरुआत की थी तो ये ऐलान किया था कि इस योजना से वर्ष 2030 के बीच तक कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में 33 से 35 प्रतिशत की कटौती आ जाएगी.

ऊर्जा बचत के रूप में स्वीकार की गई उजाला योजना  -सार्वजनिक क्षेत्र की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) ने उजाला कार्यक्रम के तहत 36 करोड़ से अधिक एलईडी बल्ब वितरित कर रही है. यह दुनिया का सबसे बड़ा एलईडी वितरण कार्यक्रम है. बिजली मंत्रालय के अधीन आने वाली एनटीपीसी, पीएफसी, आरईसी और पावरग्रिड की संयुक्त उद्यम ईईएसएल ने एक बयान में कहा कि उजाला योजना ऊर्जा संरक्षण के लिहाज से सरकार के इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम को वैश्विक स्तर पर ऊर्जा बचत के रूप में इसकी भूमिका स्वीकार की गयी है.
Loading...

ये भी पढ़ें- 

चलती ट्रेन की सील बंद बोगी से गायब हो गई बाइक

यह कैसी मजबूरी: यूपी में सिर्फ 3 फीट चौड़े सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं बच्चे, देखें Video

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 6:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...