LIC ने इस स्कीम में किया बदलाव, हर महीने मिलेंगे करीब 10 हजार रुपये, जानिए कैसे

केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के कारण कुछ फाइनेशियल डेडलाइन 30 जून 2020 तक बढ़ा दी थीं.
केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के कारण कुछ फाइनेशियल डेडलाइन 30 जून 2020 तक बढ़ा दी थीं.

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने प्रधानमंत्री व्यय वंदना योजना (PMVVY) में बदलाव कर दिया है. हाल ही में वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने इस स्कीम की अवधि को बढ़ाकर 31 मार्च 2023 तक कर दिया है. इस स्कीम के तहत 7.40 फीसदी सालाना दर से ब्याज मिलता है.

  • Share this:
नई ​दिल्ली. केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री व्यय वंदना योजना (PMVVY) को भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) द्वारा संचालित किया जाता है. 60 साल या इससे अधिक उम्र के बुजुर्गों के लिए केंद्र सरकार द्वारा सब्सिडि युक्त यह नॉन-लिंक्ड और नॉन पार्टिसिपेटिंग स्कीम है. हाल में वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने इसकी अवधि को तीन साल के लिए बढ़ाकर 31 मार्च 2023 तक कर दिया है. वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान इस योजना के तहत 7.40 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इस पेंशन स्कीम के तहत 10 साल तक करीब 10 हजार रुपये प्रति महीने पेंशन की गारंटी मिलती है.

दूसरी बार सरकार ने इस स्कीम की अवधि बढ़ाई है
शुरुआत में केंद्र सरकार ने इस स्कीम को कम अवधि के लिए खोला था, जिसके बाद इसे 31 मार्च 2020 तक के लिए बढ़ा दिया था. अब एक बार फिर इस स्कीम की अवधि बढ़ाकर 31 मार्च 2020 तक कर दिया गया है.  एलआईसी ने इस स्कीम को लेकर कहा कि अगले दो वित्त वर्षों तक, साल के शुरुआत में वित्त मंत्रालय ब्याज दर (Interest Rate on PMVVY) का रिव्यू करेगा और इसे तय करेगा.

यह भी पढ़ें: पीएम किसान स्कीम: लॉकडाउन में किसानों को मिले 19,350 करोड़ रुपए, ऐसे चेक करें अपना नाम
क्या हैं इस स्कीम के फायदे?


इस स्कीम की अवधि 10 साल के लिए होगी. अगर आप 10 साल पूरा होने के बाद भी इस स्कीम का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको दोबारा इस स्कीम को खरीदना होगा. अगर पेंशनधारक इस स्कीम के 10 साल तक ​जीवित रहता है तो, जो भी पेंशन अवधि चुना गया है, उसके अंत में एरियर दिया जाएगा.

डेथ बेनिफिट का भी लाभ
इस स्कीम की अवधि पूरा होने से पहले ही अगर पेंशनधारक की मौत हो जाती है तो लाभार्थी को खरीद की रकम वापस कर दी जाएगी. वहीं, इस पॉलिसी टर्म को पूरा होने के बाद तक पेंशनधारक जीवित रहता है तो इसके लिए उन्हें इस पॉलिसी की खरीद रकम के साथ अंतिम पेंशन इन्सटॉलमेंट तक दिया जाएगा.

क्या है योग्यता?
केंद्र सरकार की इस स्कीम का लाभ 60 साल व इससे अधिक उम्र का कोई भी वरिष्ठ नाग​रिक ले सकता है. इस स्कीम के लिए अधिकतम उम्र की कोई सीमा नहीं है.

यह भी पढ़ें: मजदूरों को राहत देने के लिए ये बदलाव कर सकती है सरकार, मिलेगी पेंशन-इंश्योरेंस

>> इस स्कीम को LIC से ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीदा जा सकता है.

>> चालू वित्त वर्ष में इस स्कीम पर 7.40 फीसदी सालाना दर से ब्याज मिलेगा. ऐसे में अगर आप इस साल निवेश करते हैं तो आपको हर साल 7.40 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा.

>> इसमें आपको मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना आधार पर पेंशन प्राप्त करने का विकल्प होगा. आप अपनी जरूरत के हिसाब से सही विकल्प चुन सकते हैं.

>> इस स्कीम में निवेश की गई रकम के आधार पर वरिष्ठ नागरिक हर महीने से कम से कम 1 हजार रुपये पेंशन प्राप्त कर सकते हैं. हालां​कि, आपको यह भी ध्यान देना होगा कि इस स्कीम के तहत प्रति महीने अधिकतम पेंशन 9,250 रुपये की होगी.

लोन की भी सुविधा मिलती है
इस स्कीम में कुछ खास मामलों में प्रीमैच्योर विड्रॉल की भी सुविधा मिलती है. इस योजना का लाभ ले रहे व्यक्ति या उनके पती/पत्नी को किसी गंभीर बीमारी के लिए यह सुविधा मिलती है. हालांकि, इस तरह के मामलों में पर्चेज प्राइस का केवल 98 फीसदी सरेंडर वैल्यू ही वापस किया जाता है. इस स्कीम की खास बात है कि तीन साल बाद से लोन की भी सुविधा मिलती है. लोन की रकम पर्चेज प्राइस के 75 फीसदी से अधिक नहीं हो सकती है.

यह भी पढ़ें: सरकार ने इस स्कीम में किया बदलाव, मिलता है एफडी से ज्यादा मुनाफा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज