प्रणब मुखर्जी का IIT ग्रेजुएट्स को लेकर बड़ा बयान, डिटर्जेंट बेचने का काम नहीं करें आईआईटीएन

इंडियन मैनेजमेंट कॉनक्लेव में मुखर्जी ने कहा था कि हमने बेहतर काम के लिए IIT ग्रेजुएट की जरूरत है. बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियों में डिटर्जेंट बेचने का काम कोई भी कर सकता है. निश्चित तौर पर इसके लिए IIT ग्रेजुएट की जरूरत नहीं है.

hindi.moneycontrol.com
Updated: August 6, 2019, 12:45 PM IST
प्रणब मुखर्जी का IIT ग्रेजुएट्स को लेकर बड़ा बयान, डिटर्जेंट बेचने का काम नहीं करें आईआईटीएन
प्रणब मुखर्जी (फाइल फोटो)
hindi.moneycontrol.com
Updated: August 6, 2019, 12:45 PM IST
दिल्ली में इंडियन मैनेजमेंट कान्क्लेव के 10वें संस्करण को संबोधित करते हुए. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने हाल ही में कहा कि IIT से ग्रेजुएट होने वाले छात्रों को बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियों से जुड़कर डिटर्जेंट बेचने के बजाय किसी बड़े मकसद के लिए काम करना चाहिए. IIT जैसे देश के प्रतिष्ठित संस्थानों से ग्रेजुएट होने वाले छात्रों का मकसद बड़ा होना चाहिए.

IIM में दाखिला लेने वाले 75 फीसदी छात्र इंजीनियर
इंडियन मैनेजमेंट कॉनक्लेव में मुखर्जी ने कहा था कि हमने बेहतर काम के लिए IIT ग्रेजुएट की जरूरत है. बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियों में डिटर्जेंट बेचने का काम कोई भी कर सकता है. निश्चित तौर पर इसके लिए IIT ग्रेजुएट की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि देश में बेसिक रिसर्च को बढ़ावा देने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें: आपका टिकट चेक नहीं कर सकती रेलवे पुलिस, जानें सभी नियम

पिछले एकेडमिक ईयर में IIM में दाखिला लेने वाले 75 फीसदी छात्र इंजीनियर थे. पिछले कई साल से यह ट्रेंड चल रहा कि इंजीनियरिंग करने के बाद छात्र IIM में दाखिला ले लेते हैं. सेल्स और मार्केटिंग की कंपनियां ऐसे छात्रों को हाथोहाथ लेती हैं.

इसलिए IIT के छात्र लेते हैं आईआईएम में एडमिशन
2017 में गूगल के CEO सुंदर पिचई ने भी खड़गपुर कैंपस में इस मामले में हैरानी जताई थी. उन्होंने कहा था कि इंडिया में करियर को लेकर हमेशा दबाव बना रहता है. जब आप हाई स्कूल में होते हैं तो कॉलेज के बारे में सोचते हैं. मुझे बहुत हैरानी होती है कि IIT में एडमिशन लेने के तुरंत बाद वो IIM में दाखिला लेने के बारे में सोचने लगते हैं. ज्यादा जरूरी यह है कि आप असल दुनिया का अनुभव लें.
Loading...

सामान्य तौर पर इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स अपने करियर की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए MBA कर लेते हैं. जहां एक IIT ग्रेजुएट की शुरुआती सैलरी सालाना 8 लाख रुपए होती है, वहीं टॉप मैनेजमेंट स्कूल से निकलने के बाद यह डबल हो जाती है.

ये भी पढ़ें: दुकानदारों को मोदी सरकार देगी बड़ा तोहफा! तैयारी पूरी

(मनीकंट्रोल)
First published: August 6, 2019, 9:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...