होम /न्यूज /व्यवसाय /आईपीओ लाने की तैयारी कर रही ओयो की निजी बाजार में वैल्यू गिरी, जानिए क्या है इसकी वजह

आईपीओ लाने की तैयारी कर रही ओयो की निजी बाजार में वैल्यू गिरी, जानिए क्या है इसकी वजह

ओयो का सबसे बड़ा निवेशक है सॉफ्टबैंक.

ओयो का सबसे बड़ा निवेशक है सॉफ्टबैंक.

ओयो के सबसे बड़े निवेशक सॉफ्टबैंक ने अपने बड़ीखाते में इसका वैल्युएशन 20 फीसदी घटा दिया था. निजी बाजार में इसके शेयरों ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

निजी बाजार में ओयो के शेयर की वैल्यू 81 रुपये तक लुढ़क गई है.
पिछले महीने कंपनी के वित्तीय आंकड़े आने के बाद ये 94 रुपये पर चली गई थी.
सॉफ्टबैंक ने ओयो होटल्स की वैल्युएशन घटाकर 2.7 अरब डॉलर कर दी है.

नई दिल्ली. इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (आईपीओ) लाने की तैयार कर रही ऑनलाइन होटल बुकिंग कंपनी ओयो (OYO) का निजी बाजार में मूल्यांकन गिरकर करीब 6.5 अरब डॉलर रह गया है. इस साल 30 सितंबर को समाप्त हुए हफ्ते में निजी बाजार में कंपनी के करीब 12.3 लाख शेयरों की बिक्री हुई जबकि इससे पहले के हफ्ते में 1.6 लाख से अधिक शेयर बिके थे.

खबरों के अनुसार, निवेशकों ने ओयो के शेयर तब बेचने शुरू कर दिए जब इसके सबसे बड़े निवेशक सॉफ्टबैंक ने अपने बहीखातों में ओयो होटल्स का मूल्यांक 20 फीसदी घटाकर 2.7 अरब डॉलर कर दिया. इससे पिछले महीने ओयो की वित्तीय रिपोर्ट आने के बाद निजी बाजार में कंपनी के शेयर का मूल्य बढ़कर 94 रुपये प्रति शेयर हो गया था. हालांकि सॉफ्टबैंक के ओयो का मूल्यांकन कम करने के बाद निवेशकों ने शेयर बेचना शुरू कर दिए. इससे शेयरों का मूल्यांकन करीब 13 फीसदी गिरकर 81 रुपये प्रति शेयर हो गया.

ये भी पढ़ें- 5 सालों में 3,938% बढ़ा यह मल्टीबैगर स्टॉक, बोर्ड ने स्टॉक स्प्लिट को दी मंजूरी- जानें फायदा होगा या नुकसान

कंपनी की आय बढ़ी
ओयो ने पिछले महीने बताया था कि वित्त वर्ष 2021-22 में उसकी परिचालन आय 4781 करोड़ रुपये रही जो इससे पिछले वित्त वर्ष की 3961 करोड़ रुपये की आय से 21 फीसदी अधिक थी. वहीं, वित्त वर्ष 2022-23 की पहली ही तिमाही में कंपनी को 1504 करोड़ रुपये की आय प्राप्त हुई. कंपनी ने बताया कि 2021-22 में उसका घाटा एक साल पहले के मुकाबले आधा घटकर 1892 करोड़ रुपये रह गया. जबकि 2020-21 में उसे 3382 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. वहीं, जारी वित्त वर्ष की पहली तिमाही में इसका घाटा 353 करोड़ रुपये रहा. कंपनी का कहना है कि उसका EBIDTA 10.57 करोड़ रुपये बढ़ा है.

आईपीओ लाने की योजना
कंपनी ने आईपीओ के लिए पिछले साल अक्टूबर में आईपीओ के लिए शुरुआत दस्तावेज (डीआरएचपी) जमा किए थे. कंपनी की शुरुआत में आईपीओ के लिए 10 अरब डॉलर की वैल्युएशन देख रही थी लेकिन बाद में इसे बदलकर 7-8 अरब डॉलर करने का फैसला किया गया. कंपनी द्वारा सेबी के पास जमा कराए पेपर के अनुसार, आईपीओ में 7000 करोड़ रुपये का फ्रेश इश्यू (नए शेयर) होगा. वहीं, 1430 करोड़ रुपये के शेयर ऑफर फोर सेल के जरिए पेश किए जाएंगे.

कंपनी के बारे में
ओयो की स्थापना 2012 में रितेश अग्रवाल ने की थी. इसका पुराना नाम ओरावेल स्टेस लिमिटेड था. कंपनी की मंशा 2023 तक आईपीओ लॉन्च करने की है. कंपनी भारत के अलावा तीन और क्षेत्रों में ध्यान केंद्रित कर रही है. ये क्षेत्र हैं- यूरोप, मलेशिया, और इंडोनेशिया. वहीं, यूएस और चीन में कंपनी ने अपना व्यापार घटा दिया है.

Tags: Business news in hindi, Hotel, IPO, Stocks, Valuation

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें