Home /News /business /

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा-भारतीय अर्थव्यवस्था के फंडामेंटल मज़बूत, जल्द आर्थिक ग्रोथ में तेजी आएगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा-भारतीय अर्थव्यवस्था के फंडामेंटल मज़बूत, जल्द आर्थिक ग्रोथ में तेजी आएगी

पीएम ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था के फंडामेंटल मज़बूत है.

पीएम ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था के फंडामेंटल मज़बूत है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने अर्थशास्त्रियों , विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों और सफल युवा उद्यमियों के साथ विचार विमर्श किया और भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में मिलकर प्रयास करने को कहा है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट 2020 से पहले बृहस्पतिवार को यहां अर्थशास्त्रियों , विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों और सफल युवा उद्यमियों के साथ विचार विमर्श किया और भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में मिलकर प्रयास करने को कहा.  पीएम ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) के फंडामेंटल मज़बूत है. देश जल्द आर्थिक ग्रोथ की पटरी पर लौटेगा. विशेषज्ञों के सुझावों की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह नीति निर्माताओं और विभिन्न हितधारकों के बीच तालमेल बढ़ाने का प्रयास करेंगे. ये बैठक ढाई घंटे तक चली.

    वित्त वर्ष 2020-21 के आम बजट से पहले आयोजित इस बैठक के दौरान विशेषज्ञों ने आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिए कई सुझाव दिए. चालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर के गिरकर पिछले 11 साल के निम्नस्तर पांच प्रतिशत रह जाने का अनुमान है.

    एक आधिकारिक बयान में कहा गया है , " प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का विचार अचानक से नहीं आया है. यह देश की ताकत की गहरी समझ पर आधारित है.

    ये भी पढ़ें-अर्थशास्त्रियों के साथ हुई बैठक में PM मोदी की अपील- सरकार की खामियां बताएं, हम सुधार करेंगे 



    उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था के उतार - चढ़ाव झेलने की ताकत अर्थव्यवस्था के बुनियादी कारकों की मजबूती और उसके फिर से पटरी पर लौटने की क्षमता को दर्शाती है.

    बयान के मुताबिक , मोदी ने कहा कि पर्यटन , शहरी विकास , बुनियादी ढांचा और कृषि आधारित उद्योग जैसे क्षेत्रों में अर्थव्यवस्था को आगे ले जाने और रोजगार सृजित करने की क्षमता है.

    प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत असीमित संभावनाओं की धरती है. उन्होंने जोर दिया कि सभी हितधारकों को हकीकत और विचार के बीच की खाई पाटने के लिए काम करना है.

    उन्होंने कहा , " हम सभी को मिलकर काम करना चाहिए और एक राष्ट्र की तरह सोचना शुरू करना चाहिए. "

    सूत्रों के मुताबिक , बैठक में शामिल विशेषज्ञों ने सरकार से कर्ज वृद्धि , निर्यात वृद्धि , सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के संचालन , उपभोग और रोजगार बढ़ाने पर ध्यान देने का आग्रह किया. बैठक में करीब 40 विशेषज्ञों और अर्थशास्त्रियों ने भाग लिया.

    प्रधानमंत्री ने उन्हें भरोसा दिया कि वह उन सुझावों पर काम करेंगे , जिन्हें जल्द लागू किए जाने की जरूरत है. साथ ही दीर्घकालिक अवधि में लागू होने वाले सुझावों पर भी विचार किया जाएगा क्योंकि यह बुनियादी सुधारों के लिए जरूरी है.

    ये भी पढ़ें-बुजुर्गों के लिए मोदी सरकार की खास योजना! इन इनकम पर नहीं लगेगा कोई Tax

    नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने अपने ट्वीट में कहा , " प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थशास्त्रियों और उद्योग विशेषज्ञों के साथ आज नीति आयोग में चर्चा की. इसमें आर्थिक वृद्धि , स्टार्टअप और नवाचार से जुड़े कई मुद्दों पर विचार - विमर्श हुआ. "

    इस उच्चस्तरीय बैठक में गृह मंत्री अमित शाह , सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी , वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अलावा नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार , मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया.

    प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के चेयरमैन विवेक देवरॉय भी बैठक में मौजूद रहे.

    सरकार 2020-21 के लिए बजट प्रस्ताव तैयार करने में जुटी है. ऐसे में यह बैठक अहम है. सरकार का ध्यान आर्थिक वृद्धि को फिर से रफ्तार देने पर है . अनुमान लगाया है कि चालू वित्त वर्ष में जीडीपी की वृद्धि दर 11 साल के निचले स्तर पांच प्रतिशत रह सकती है.

    Tags: Budget 2020, Business news in hindi, Modi Government Budget, Priem minister

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर