राष्ट्र के नाम संबोधन में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन लोगों के लिए कर सकते हैं बड़ा ऐलान, होगा सीधा असर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister of India)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister of India)

PM Narendra Modi To Address Nation: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 6 बजे राष्ट्र के नाम संदेश देंगे. पीएम मोदी ने मंगलवार दोपहर को ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी और लोगों से जुड़ने की अपील की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 4:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (मंगलवार) शाम को 6 बजे एक और राहत पैकेज (Stimulus Package in India) के बारे में जानकारी दे सकते हैं. CNBC आवाज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कोरोना के इस संकट में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए पीएम मोदी आज एक और राहत पैकेज के रोड मैप की जानकारी दे सकते हैं. इससे पहले मंगलवार को वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister of India Nirmala Sitharaman) ने कहा था कि तीसरे प्रोत्‍साहन पैकेज (Stimulus Package) का विकल्‍प पूरी तरह से खुला है. उन्‍होंने बताया कि देश के सकल घरेलू उत्‍पाद में गिरावट (GDP Contraction) का आकलन शुरू कर दिया गया है. वहीं, वित्‍त मंत्री ने बड़ी पीएसयू कंपनियों को सख्‍त हिदायत दी है कि तय पूंजीगत खर्च के 75 फीसदी हिस्‍से का दिसंबर 2020 तक इस्‍तेमाल कर लें.

कोरोना संकट से देश की अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए जब पहले राहत पैकेज का ऐलान हुआ था तब भी पीएम मोदी ने इसी तरह देश के नाम संबोधन में इसकी जानकारी दी थी. इसके बाद वित्त मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की डिटेल जानकारी दी.


राहत पैकेज में क्या होगा खास-सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, राहत पैकेज के लिए जरूरी जानकारी जुटाई जा रही है कि आखिर किस सेक्टर को सबसे ज्यादा सपोर्ट की जरूरत है. माना जा रहा है कि फूड, ट्रैवल और टूरिज्म सेक्टर के लिए बड़े राहत पैकेज का ऐलान किया जा सकता है. महामारी से इन्हीं पर सबसे ज्यादा मार पड़ी है.



एक तरफ लॉकडाउन के बाद अन्य सेक्टर्स में रिकवरी देखने को मिल रही है, लेकिन ट्रैवल करने और बाहर खाने के मामले में लोग अभी भी संकोच कर रहे हैं. यह भी उम्मीद की जा रही है कि नए पैकेज में रोजगार (Employment) के अवसर पैदा करने पर भी जोर दिया जाएगा. इसके अतिरिक्त, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (MSME) पर भी सरकार का फोकस होगा

बीते हफ्ते गुरुवार को News18 से खास बातचीत में नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत (Amitabh Kant) ने फेस्टिव सीजन में सेल्स को लेकर उम्मीद जताई है. उन्होंने कहा, 'अगर आप पर्चेजिंग मैनेजर इंडेक्स पर नजर डालेंगे तो पाएंगे कि यह 56.8 है.

सितंबर महीने में यह बीते 8 साल के उच्चतम स्तर पर है. यह आशावाद की वजह से है. ऑटोमोबाइल्स ही सबसे प्रमुख है और इस महीने यह बेहतर रहा है.'

उन्होंने आगे कहा, 'हमने रेलवे, एविएशन, नए रेलवे स्टेशनों, एयरपोर्ट्स को मोनेटाइजेशन में शामिल किया है. इसके साथ ही वित्त मंत्री द्वारा 78,000 करोड़ रुपये के एलटीसी ऐलान का भी लाभ मिलेगा. इस ऐलान से उम्मीद बढ़ी है कि केंद्रीय कर्मचारी अब कुछ खर्च करेंगे.

कांत ने मिडिल क्लास के खर्च को लेकर भी उम्मीद जताते हुए कहा, 'मेरा अनुमान है कि मध्यम वर्ग ने बीते 5 से 6 महीने कोई खर्च नहीं किया है, लेकिन अब वो बहुत ज्यादा खर्च करने पर जोर देंगे. इसका फायदा होगा. दिवाली में हममें से बहुत लोग खरीदारी करेंगे.'

बीते हफ्ते सरकार नए किए ये 4 बड़े ऐलान

(1) कंज्यूमर डिमांड बढ़ाने के लिए 68,000 करोड़ रुपये का पैकेज - केंद्रीय कर्मचारियों 10,000 रुपये का वन टाइम स्पेशल फेस्टिवल लोन : बाजार में 12,000 करोड़ रुपये की मांग बढ़ सकती है. एलटीसी कैश वाउचर स्कीम के तहत 12 फीसदी या इससे ज्यादा टैक्स वाले किसी भी सामान की खरीदारी और टैक्स में भी छूट: 56,000 करोड़ रुपये की मांग बढ़ सकती है.

(2) वन टाइम स्पेशल फेस्टिवल लोन- केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों को 10,000 रुपये का वन टाइम ब्याज मुक्त लोन मिलेगा. एक करोड़ केंद्रीय कर्मचारियों को लाभ मिलेगा. राज्य सरकारें लागू करेंगी, तो और भी ज्यादा लोग फायदे में रहेंगे.

(3) राज्यों सरकारों को मिलेगा 50 साल के लिए ब्याज लोन- राज्य सरकारों को अगले 50 साल के लिए 12,000 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त लोन मिलेगा. पूर्वोत्तर के 8 राज्यों में से हर एक को 200 करोड़ रुपये. उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश को 450 करोड़ रुपये. वित्त आयोग के डिवॉल्यूश शेयर के मुताबिक, बाकी राज्यों को कुल 7,500 करोड़ रुपये. आत्मनिर्भर पैकेज में बताए गए 4 में से 3 सुधारों को लागू करने वाले राज्यों को 2,000 करोड़ रुपये अतिरिक्त दिए जाएंगे.
(4) केंद्र सरकार के कैपेक्स बजट में 25,000 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी- केंद्र सरकार के 4.13 लाख करोड़ रुपये के कैपिटल एक्सपेंडीचर बजट में 25,000 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी की है. यह रकम सड़क, रक्षा, पानी की सप्लाई, शहरी विकास और देश में बने कैपिटल इक्विपमेंट पर खर्च होगी. आर्थिक विकास होगा. डोमेस्टिक मैन्यूफैक्चरिंग को बढ़ावा मिलेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज