वैक्‍सीन के लिए सर्विस चार्ज पर कैपिंग, सोसायटीज और पब्लिक प्‍लेस पर जाकर वैक्‍सीनेशन नहीं कर पाएंगे निजी अस्‍पताल

उत्तर प्रदेश: 14 जून से फल-सब्जी, रेहड़ी-पटरी वालों को अभियान चलाकर लगाएं वैक्सीन, सीएम योगी ने दिए निर्देश.

पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के वैक्‍सीन के लिए सर्विस चार्ज तय करने के बाद निजी अस्‍पताल सोसायटियों और पब्लिक प्‍लेस पर जाकर वैक्‍सीन नहीं लगा पाएंगे. अस्‍पतालों का कहना है कि 150 रुपये में लाजिस्टिक का खर्च नहीं निकलेगा. इसलिए केवल अस्‍पताल में ही वैक्‍सीन लगाना संभव होगा.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) के लिए सर्विस चार्ज (Service Charge) पर कैपिंग (Capping) लगाने से निजी अस्‍पतालों के लिए ऑन साइट डिमांड पर वैक्‍सीनेशन मुश्किल होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्‍सीन के लिए तय कीमत के अतिरिक्‍त केवल 150 रुपये सर्विस चार्ज लेने की घोषणा की है. यानी निजी अस्‍पताल (Private Hospital) कोविशील्‍ड के लिए 600 रुपये वैक्‍सीन की तय कीमत पर अतिरिक्‍त 150 रुपये ही सर्विस चार्ज ले सकते हैं, इस पर निजी अस्‍पतालों का कहना है कि 750 रुपये में सोसायटी या पब्लिक प्‍लेस में वैक्‍सीन लगा पाना मुश्किल होगा.

लोगों को निजी अस्‍पताल जाकर ही लगवानी होगी वैक्‍सीन
प्रधानमंत्री मोदी ने निजी अस्‍पतालों पर कोरोना वैक्‍सीन के लिए सर्विस चार्ज पर कैपिंग लगाते हुए 150 रुपये तय कर दिए हैं. यानी 21 जून 2021 के बाद निजी अस्‍पतालों में कोविशील्‍ड लगवाने पर कुल 750 रुपये ही देने होंगे. इसमें 600 रुपये वैक्‍सीन की कीमत और 150 रुपये सर्विस चार्ज शामिल होगा. इस फैसले के बाद निजी अस्‍पतालों का कहना है कि सोसायटियों या पब्लिक प्‍लेस पर जाकर वैक्‍सीन लगाना मुश्किल होगा. 150 रुपये में लाजिस्टिक व अन्‍य खर्च नहीं निकल पाएगा. साफ है कि लोगों को निजी अस्‍पतालों में जाकर ही वैक्‍सीन लगवानी होगी.

ये भी पढ़ें- Amazon के संस्‍थापक जेफ बेजोस 20 जुलाई को जाएंगे अंतरिक्ष, जानें ब्‍लू ओरिजिन के स्‍पेसक्राफ्ट की खूबियां

अभी रजिस्‍ट्रेशन के बाद स्‍लॉट लेने की नहीं है जरूरत
मौजूदा समय में तमाम निजी अस्‍पताल आरडब्‍लयूए व प्रशासन के सहयोग से और डिमांड पर सोसायटियों या पब्लिक प्‍लेस पर सेंटर बनाकर वैक्‍सीन लगा रहे हैं. यहां पर लोग वॉक इन वैक्‍सीन लगवा रहे हैं यानी रजिस्‍ट्रेशन करने के बाद स्‍लॉट लेने की कोई जरूरत नहीं है. लोग सीधे जाकर वैक्‍सीन लगवा सकते हैं. इस संबंध में मैक्‍स अस्‍पताल वैशाली के प्रवक्‍ता का कहना है, '21 जून 2021 के बाद हो सकता है कि इस तरह के सेंटर बनाने की जरूरत न हो. ज्‍यादातर लोगों को वैक्‍सीनेशन का पहला डोज लग जाए. 150 रुपये में अस्‍पताल के बाहर सेंटर बनाना मुश्किल होगा.'