बड़ी खबर! देश में चलेंगी 44 नई वंदे भारत ट्रेनें, जानिए कितना होगा किराया और किस रूट पर चलेंगी

बड़ी खबर! देश में चलेंगी 44 नई वंदे भारत ट्रेनें, जानिए कितना होगा किराया और किस रूट पर चलेंगी
वंदे भारत एक्सप्रेस

भारतीय रेलवे (Indian Railway) 44 नई वंदे भारत ट्रेनों (Vande Bharat Trains) जल्द शुरू करेगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा, 44 नई वंदे भारत ट्रेनों के लिए जुलाई में टेंडर जारी होगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. अब दिल्ली से मुबंई और कोलकाता ओवरनाइट  यात्रा में पहुंचा जा सकेगा. भारतीय रेलवे (Indian Railway) 44 नई वंदे भारत ट्रेनों (Vande Bharat Trains) जल्द शुरू करेगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा, 44 नई वंदे भारत ट्रेनों के लिए जुलाई में टेंडर जारी होगा. उन्होंने कहा, दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-कोलकाता के बीच यात्रा को ओवरनाइट जर्नी में तब्दील करना चाहते हैं. इसलिए टेक्नेलॉजी के जरिए स्पीड बढ़ाने पर फोकस किया जा रहा है.

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने कहा, प्राइवेट कंपनियों को फिक्स्ड Haulage चार्ज देना होगा. साथ ही प्राइवेट कंपनी नीलामी के दौरान कुल कमाई में ज्यादा हिस्सा रेलवे को देगी. उसे प्राथमिकता दी जाएगी. 95 फीसदी पंक्चुअलिटी फॉलो न करने पर प्राइवेट कंपनी पर जुर्माना लगाया जाएगा. ड्राइवर्स और गार्ड्स भारतीय रेलवे के ही होंगे.

यह भी पढ़ें- महंगाई से बेहाल पाकिस्तान में अब सोने की कीमतों ने तोड़े सभी रिकॉर्ड, पहली बार 1 लाख के पार पहुंचे दाम




इन रूट्स पर चलेंगे प्राइवेट ट्रेन
प्राइवेट ट्रेनों के लिए 12 कलस्टर्स का चयन किया गया है. पूरे देश को कवर करने की कोशिश की गई है. पहले क्लस्टर्स में चंडीगढ़, बेंगलुरु, हावड़ा, मुम्बई और दूससे कलस्टर्स में पटना, प्रयागराज, सिकन्द्राबाद शामिल है. रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा, प्राइवेट ट्रेन संचालन अप्रैल 2023 तक शुरू होने की संभावना है, सभी कोच मेक इन इंडिया पॉलिसी के तहत खरीदे जाएंगे.

प्राइवेट ट्रेनों में किराया होगा प्रतिस्पर्धी
रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि अगले 6 से 8 महीने में फाइनेंशियल बिड्स आएंगी. 2023 में प्राइवेट कंपनिया ट्रेन चलाना शुरू कर देंगी. प्राइवेट ट्रेनों में किराया प्रतिस्पर्धी होगा. एयरलाइंस, बसों जैसे परिवहन के अन्य साधनों की कीमतों को ध्यान में रखा जाना चाहिए.

स्पीड बढ़ाने पर इतना खर्च करेगी रेलवे
रेलवे बोर्ड अध्यक्ष के मुताबिक, दिल्ली से मुबंई के बीच ट्रेन की स्पीड बढ़ाने के लिए रेलवे 15,000 करोड़ रुपए का खर्च करेगी. ट्रेन सेट को निजी ऑपरेटरों द्वारा लाया जाना चाहिए और उनके द्वारा बनाए रखा जाना चाहिए. यात्री ट्रेन परिचालन में निजी भागीदारी रेलवे के कुल परिचालन का केवल 5 प्रतिशत होगी. (दिपाली नंदा, CNBC आवाज़)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज