होम /न्यूज /व्यवसाय /सरकार के इस स्कीम में फायदे ही फायदे, नहीं होगी पैसों की किल्लत!

सरकार के इस स्कीम में फायदे ही फायदे, नहीं होगी पैसों की किल्लत!

महाराष्ट्र के ठाणे जिले में 51 वर्षीय महिला के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है.

महाराष्ट्र के ठाणे जिले में 51 वर्षीय महिला के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है.

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) छोटे निवेशकों के लिए एक सरकारी स्कीम है, जिसमें एक वित्ती वर्ष के दौरान 1.5 रुपये से अधिक न ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. लंबी अवधि में निवेश पर टैक्स छूट (Tax Exemption) के लिहाज से पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Providen Fund) के सबसे बेहतर निवेश टूल माना जाता है. लोगों के बीच में यह काफी पॉपुलर भी है. इसमें न केवल जमा की गई रकम पर टैक्स छूट मिलता है, ​बल्कि ब्याज पर भी टैक्स छूट का लाभ मिलता है.

    सरकारी स्कीम होने से मिलता है डबल फायदा
    यह सरकारी योजना छोटे निवेशकों के लिए बेहतर विकल्प होता है, जिसमें वे एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक जमा कर सकते हैं. PPF अकाउंट की मैच्योरिट अवधि (PPF Maturity Period) 15 साल तक के लिए होती है. आज हम आपको इससे जुड़े 5 ऐसी चीजें बताने जा रहे हैं, जिसे आपने पीपीएफ अकाउंट के मैच्योरिटी के समय में आपको जरूर ध्यान रखना चाहिए.

    ये भी पढ़ें: नौकरीपेशा लोगों के लिए बड़ी खबर, पेंशन पाने के लिए जरूरी होगा ये सर्टिफिकेट, नहीं तो होगा बड़ा नुकसान


    >> 15 साल की मैच्योरिटी ​अवधि पूरा होने के बाद आप चाहें तो निवेश की गई रकम और इसपर मिलने वाला ब्याज निकालकर इस अकाउंट को बंद कर सकते हैं. इसके लिए आपको बैंक या पोस्ट ऑफिस (Post Office) से फॉर्म सी लेकर भरना होगा. इसके बाद आपके अकाउंट सेटलमेंट की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

    >> अगर आप अपने पीपीएफ अकाउंट (PPF Account) को मैच्योरिटी अवधि पूरा होने के बाद भी नहीं बंद करना चाहते हैं तो इससे आप पांच-पांच साल के ब्लॉक में आगे बढ़ा सकते हैं. इसके लिए आपको बैंक या पोस्ट ऑफिस में फॉर्म एच भरना अनिवार्य होगा.

    >> PPF अकाउंट को लेकर कई वित्तीय सलाहकारों का कहना है कि इसमें एक वित्तीय वर्ष के दौरान 1.5 लाख रुपये तक की अधिकतम सीमा में निवेश करना सबसे अधिक फायदेमंद होता है. इससे निवेशक को टैक्स छूट के पूर्ण लाभ मिलने के साथ ही ब्याज भी अधिक मिलता है, क्योंकि ब्याज की रकम पर भी टैक्स छूट मिलता है.

    ये भी पढ़ें: यहां FD पर मिल रहा है सबसे ज्यादा मुनाफा! 9 फीसदी की दर से मिलेगा ब्याज

    >> पीपीएफ स्कीम वित्तीय वर्ष (Financial Year) के अधार पर होता है जोकि अप्रैल से लेकर मार्च तक का होता है. ऐसे में अगर आपने 31 मार्च को भी पीपीएफ अकाउंट खोला है तो अगले दिन आपका 1 साल पूरा हो जाएगा. आपको पास 1 अप्रैल से केवल 14 साल ही बचे होंगे.

    >> 15 साल की मैच्योरिटी से पहले आप पीपीएफ अकाउंट से पूरी रकम की निकासी नहीं कर सकते हैं. हालांकि, गंभरी ​बीमारी या उच्च शिक्षा के समय में विशेष छूट मिलती है. मैच्योरिटी अवधि पूरा होने से पहले आप रकम का कुछ हिस्सा जरूर निकाल सकते हैं. इसके लिए नियम यह है निकासी की रकम पिछले वित्त वर्ष के अंत में जो रकम होगी उसका 50 फीसदी ही निकाल सकते हैं.

    ये भी पढ़ें: किसानों की आमदनी दोगुनी करने में मदद करता है सरकार का ये कार्ड, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें

    Tags: Business news in hindi, Provident fund savings, Small Savings Schemes, Tax saving, Tax saving options

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें