• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • सरकारी बैंकों की बड़ी उपलब्धि! कोरोना संकट के बीच वित्‍त वर्ष 2020-21 में बाजार से जुटाए 58,700 करोड़ रुपये

सरकारी बैंकों की बड़ी उपलब्धि! कोरोना संकट के बीच वित्‍त वर्ष 2020-21 में बाजार से जुटाए 58,700 करोड़ रुपये

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने कोरोना संकट के बीच बाजार से तगड़ा फंड जुटाया.

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने कोरोना संकट के बीच बाजार से तगड़ा फंड जुटाया.

केंद्र सरकार की ओर से किए गए उपायों के कारण सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (PSBs) की स्थिति सुधरी है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (NPAs) 31 मार्च 2019 तक 7,39,541 करोड़ रुपये थे, जो 31 मार्च 2020 तक घटकर 6,78,317 करोड़ रुपये पर आ गए.

  • Share this:

    नई दिल्ली. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने कोरोना संकट के बीच वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान बड़ी उपलब्धि हासिल की है. इस दौरान सरकारी बैंकों ने बाजार से रिकॉर्ड 58,700 करोड़ रुपये का फंड (PSBs Raised Fund) जुटाया है. बैंकों ने यह फंड लोन और इक्विटी (Loan & Equity) के तौर पर अपने पूंजी आधार को मजबूत करने के लिए जुटाई है. इस राशि में मुंबई के बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) की ओर से पात्र संस्थागत नियोजन (QIP) के जरिये जुटाई गई 4,500 करोड़ रुपये की राशि शामिल है. पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने निजी नियोजन के आधार पर शेयर बिक्री से 3,788 करोड़ रुपये जुटाए.

    ‘निवेशकों का भरोसा सरकारी बैंकों पर है बरकरार’
    बेंगलुरु के केनरा बैंक (Canara Bank) ने वित्‍त वर्ष 2020-21 के दौरान क्यूआईपी से 2,000 करोड़ रुपये की राशि जुटाई. शेयर बाजारों (Share Markets) को भेजी गई सूचना के आधार पर ये आंकड़े जुटाए गए हैं. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि क्यूआईपी की सफल श्रृंखला से पता चलता है कि घरेलू और वैश्विक निवेशकों (Domestic & Foreign Investors) का सरकारी बैंकों तथा उनकी क्षमता पर भरोसा बरकरार है. इसके अलावा 12 सरकारी बैंकों ने टियर-1 और टियर-2 बांड से धन जुटाया. इस तरह बैंकों की बाजार से जुटाई गई राशि का आंकड़ा 58,697 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

    ये भी पढ़ें- Gold Price: गोल्‍ड हुआ 1132 रुपये महंगा, चांदी 2380 रुपये घटी, जानें अगस्‍त 2021 में कैसा रहेगा रुख

    सरकारी बैंकों के एनपीए में हुई गिरावट, मुनाफा बढ़ा
    सरकार की ओर से किए गए विभिन्न उपायों से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की स्थिति सुधरी है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (NPAs) 31 मार्च 2019 तक 7,39,541 करोड़ रुपये थे, जो 31 मार्च 2020 तक घटकर 6,78,317 करोड़ रुपये पर आ गए. इसके बाद 31 मार्च 2021 तक एनपीए घटकर 6,16,616 करोड़ रुपये पर आ गया. इसके चलते सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने 2020-21 में 31,816 करोड़ रुपये का मुनाफा (Profit of PSBs) दर्ज किया. यह पांच साल में सबसे अधिक है. हालांकि, इस दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में 7.3 फीसदी की गिरावट आई.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज