मुंबई में अस्पतालों के बेड फुल, काेविड-19 के खिलाफ लड़ाई में बीएमसी का साथ देगी इंडियन होटल्‍स

मुंबई में अस्पतालों के बेड फुल

मुंबई में अस्पतालों के बेड फुल

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते मरीजों को अस्पताल में जगह नहीं मिल पा रही है. आलम ये है कि कभी मरीज जमीन पर बैठने को मजबूर हैं तो कभी कुर्सी टेबल पर. ऐसे हालात के बीच आइ्रएचसीएल (IHCL) ने बीएमसी के साथ काम करने की बात कही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 12, 2021, 9:08 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. महाराष्ट्र में बढ़ते काेराेना (Covid-19) के मामले और चिंताजनक स्थिति के बीच इंडियन हाेटल्स कंपनी (IHCL) ने बड़ी घाेषणा की है. आईएचसीएल बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) काे आवास के मामले में मदद करने के लिए तैयार है. इंडियन हाेटल्स कंपनी के एमडी और सीईओ पुनीत छतवाल ने कहा IHCL के पास ताज, सेलेक्शंन, विवांता, द गेटवे, जिंजर, एक्सप्रेशंस और ताजसैट जैसे ब्रांड हाेटल्स हैं. सीएनबीसी टीवी 18 काे दिए इंटरव्यू में पुनीत ने कहा हम पिछले 14 महीनाें से बीएमसी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. बकाैल पुनीत मैंने कल रात बीएमसी कमिश्नर से बात की है कि हम कैसे बीएमसी और अस्पताल के साथ मिलकर काम कर सकते हैं, खासताैर से उस स्थिति में जब मरीज की रिपाेर्ट नेगेटिव हाे और उसे अस्पताल से बाहर रखा जा सकता हाे. ऐसे में हमारी संपत्तियाें में किसी तरह का आवास दिया जा सकता है.



बिजनेस में ग्राेथ नहीं है

व्यापार के बारे में बात करते हुए उन्हाेंने कहा कि व्यवसाय में वृद्धि बंद हाे गई है. हमने 15 नवंबर से 15 मार्च के बीच अच्छी अवधि देखी. उसके बाद से ग्राेथ नहीं है. जिसकी वजह काेविड के चलते ट्रेवल, कार्यक्रम, शादियां या अन्य कार्यक्रम रद्द रहना है. मालूम हाे काेविड के चलते मप्र में 9 दिन का टाेटल लॉकडाउन लगा दिया है. वहीं, महाराष्ट्र सरकार भी इस पर विचार कर रही है. 



ये भी पढ़ें - केंद्र सरकार का बड़ा फैसला! 2 घंटे से कम की घरेलू उड़ान में नहीं मिलेगा खाना, जानें क्‍यों लिया गया ये निर्णय


अस्पतालों के बेड फुल, ऑक्सीजन की किल्लत


महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते मरीजों को अस्पताल में जगह नहीं मिल पा रही है. आलम ये है कि कभी मरीज जमीन पर बैठने को मजबूर हैं तो कभी कुर्सी टेबल पर. ऐसे में महाराष्ट्र सरकार और रेलवे ने महाराष्ट्र के नंदुरबार में मरीजों के लिए ट्रेन में आइसोलेशन वार्ड की सुविधा मुहैया कराई है. कोरोना की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए महाराष्‍ट्र पर लॉकडाउन की तलवार लटक रही है. मुख्‍यमंत्र उद्धव ठाकरे ने रविवार को महाराष्‍ट्र टास्‍क फोर्स के साथ बैठक के दौरान राज्‍य में ऑक्‍सीजन की किल्‍लत, अस्‍पतालों में भरते जा रहे बेड्स और वेंटिलेटर पर भी चर्चा की. बता दें कि राज्‍य के कई जिलों को ऑक्‍सीजन और आईसीयू बेड्स की किल्‍लत का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में ताजा हालात को लेकर सरकार मंथन कर रही है.



ये भी पढ़ें - आम आदमी को झटका! मार्च 2021 में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 5.52 फीसदी हुई, फरवरी में थी 5.03 फीसदी





महाराष्‍ट्र पर लॉकडाउन की तलवार!

राज्‍य में बिगड़ती कोरोना की स्थिति पर उद्धव ठाकरे सरकार कभी भी लॉकडाउन पर बड़ा फैसला ले सकती है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य में तालाबंदी को लेकर सरकारी अधिकारियों, टास्क फोर्स, ट्रेडर्स और अन्य के साथ कई दौर की बैठक कर रहे हैं. कोरोना की स्थिति पर रविवार को हुई बैठक में मुख्‍यमंत्री 8 दिन का लॉकडाउन लगाने को राजी थे, लेकिन टास्‍क फोर्स का सुझाव था कि राज्‍य में 14 दिन का सख्‍त लॉकडाउन लगना चाहिए.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज