अपना शहर चुनें

States

5,500 करोड़ रुपये की पूंजी के बदले सरकार काे तहरीजी शेयर जारी करेगा पंजाब एंड सिंध बैंक

बैंक के शेयरधारकों की एक असाधारण बैठक 25 मार्च 2021 को होनी है.
बैंक के शेयरधारकों की एक असाधारण बैठक 25 मार्च 2021 को होनी है.

सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में अतिरिक्त पूंजी डालने के लिये सितंबर 2020 में संसद से अनुपूरक अनुदान मांगों के तहत 20,000 करोड़ रुपये की पूंजी के लिये मंजूरी प्राप्त की थी. इसमें से 5,500 करोड़ रुपये की पूंजी पंजाब एण्ड सिंध बैंक में डाली जानी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2021, 9:25 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. पंजाब एंड सिंध बैंक (Punjab and Sindh bankअगले महीने सरकार को बैंक में 5,500 करोड़ रुपये की पूंजी डालने के बदले में तरजीही शेयर जारी करेगा. मंगलवार काे  बैंक ने नियामकीय सूचना में यह जानकारी दी है. जिसमें कहा गया कि बैंक के शेयरधारकों की एक असाधारण बैठक 25 मार्च 2021 को होनी है. इस बैठक में सरकार को 5,500 करोड़ रुपये तक के इक्विटी शेयरों की तरजीही आधार पर आवंटन को लेकर विचार किया जायेगा. बैंक ने कहा है कि यह बैठक वीडियो कन्फ्रेंसिंग और इसी प्रकार के अन्य माध्यमों के जरिए होगी.


मालूम हाे कि सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में अतिरिक्त पूंजी डालने के लिये सितंबर में संसद से अनुपूरक अनुदान मांगों के तहत 20,000 करोड़ रुपये की पूंजी के लिये मंजूरी प्राप्त की थी. इसमें से 5,500 करोड़ रुपये की पूंजी पंजाब एण्ड सिंध बैंक में डाली जानी है. शेष राशि को मौजूदा तिमाही के दौरान विभिनन बैंकों में निवेश किया जाएगा. 


ये भी पढ़े - स्‍टेट बैंक रिटायरमेंट के बाद की आर्थिक जरूरतों को SBI Pension Loan से करेगा पूरा, ब्‍याज दर समेत जानें इस बारे में सबकुछ



 क्या हाेतें है तरजीही शेयर

तरजीही शेयर काे अंग्रेजी में 'प्रेफरेंस शेयर भी कहते है. जिसे कोई कंपनी अपने चुनिंदा निवेशकों और प्रमोटरों को जारी करती है  प्रेफरेंस या तरजीही शेयर रखने वाले निवेशक इक्विटी शेयर होल्डर से अधिक सुरक्षित होते हैं. इसकी वजह है कि अगर कभी कंपनी दिवालिया होने के कगार पर हो तो इस प्रकार के शेयरधारकों को सामान्य इक्विटी शेयरधारकों के मुकाबले पूंजी के भुगतान में वरीयता दी जाती है. कंपनी को अगर कोई लाभ होता है तो उस लाभ पर भी सबसे पहले इन्हीं शेयरधारकों का अधिकार बनता है. इन्हें लाभांश या डिविडेंड देने के बाद जो पैसा बचता है, वह अन्य श्रेणी के शेयरधारकों में बांटा जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज