दिल्ली, एनसीआर और हरियाणा में IT विभाग की बड़ी कार्रवाई, 38 ठिकानों पर हुई छापेमारी

इनकम टैक्स विभाग (प्रतीकात्मक तस्वीर)
इनकम टैक्स विभाग (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, एनसीआर और हरियाणा में 38 ठिकानों पर छापेमारी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2020, 11:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, एनसीआर और हरियाणा में 38 ठिकानों पर छापेमारी की है. इनकम टैक्स विभाग ने व्यावसायिक मध्यस्थता और वैकल्पिक विवाद समाधान के क्षेत्र में प्रैक्टिस कर रहे एक वरिष्ठ वकील के घर पर छापेमारी की. इनकम टैक्स विभाग को अंदेशा था कि वकील विवादों को निपटान कराने के लिए अपने क्लाइंट से पर्याप्त मात्रा कैश लेता है.

करोड़ों रुपये किए गए जब्त
इनकम टैक्स विभाग ने दिल्ली, एनसीआर और हरियाणा में 38 परिसरोंं में छापेमारी कर वकील के पास से 5.5 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की है. इसके अलावा विभाग के अधिकारियों ने 10 लॉकरों को अपने नियंत्रण में रखा है. छापेमारी में विभाग ने बेहिसाब नकद लेन-देन और निवेश से जुड़े दस्तावेज भी जब्त किए हैं. इसके अलावा कई डिजिटल बेहिसाब ट्रांजैक्शन से जुड़े डेटा भी अधिकारियों के हाथ लगे हैं.

वकील ने लिए 117 करोड़, रिकॉर्ड में महज 21 करोड़
38 ठिकानों पर की गई छापेमारी में आयकर अधिकारियों को एक अहम जानकारी हाथ लगी है. वकील ने एक ग्राहक से 117 करोड़ रुपये कैश लिए जबकि रिकॉर्ड में महज 21 करोड़ रुपये ही दिखाया. वकील ने यह 21 करोड़ रुपये की प्राप्ति चेक के जरिए लिया था. एक दूसरे मामले में वकील ने इंफ्रास्ट्रक्चर और इंजीनियरिंग कंपनी से 100 करोड़ रुपये कैश लिया था. वकील ने पीएसयू के साथ आर्बिट्रेशन प्रोसिडिंग के लिए लिया था.





छापेमारी में यह बात भी सामने आई
छापेमारी के दौरान इनकम टैक्स विभाग को पता चला कि वकील ने अपने बेहिसाब धन का निवेश रेसिडेंशियल और कमर्शियल संपत्ति लेने के लिए किया था. यह भी जानकारी सामने आई है कि पिछले दो सालों में वकील ने 100 करोड़ रुपये से अधिक रुपये रिहायशी इलाकों में निवेश किया था. इसके अलावा वकील और उनके सहयोगियों ने स्कूलों और संपत्तियों की खरीद की थी. इसके अलावा कई आवास और संपत्तियां भी आरोपी ने खरीदी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज