रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, RailTel ने 4 हजार रेलवे स्टेशनों पर शुरू की प्रीपेड Wi-Fi सर्विस, जानिए क्या हैं प्लान

रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने बताया कि कोविड-19 से पहले हर महीने करीब तीन करोड़ लोग इस योजना का उपयोग कर रहे थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने बताया कि कोविड-19 से पहले हर महीने करीब तीन करोड़ लोग इस योजना का उपयोग कर रहे थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई प्रीपेड योजना के तहत यूजर्स रोजाना अधिकतम 30 मिनट के लिए 1 एमबीपीएस की स्पीड पर इंटरनेट का उपयोग कर सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. रेलवे पीएसयू रेलटेल (RailTel) ने गुरुवार से अपनी प्रीपेड प्रीपेड वाई-फाई (Wi-Fi) सर्विस शुरू कर दी. इसके तहत फिलहाल देश के 4 हजार रेलवे स्टेशनों पर यात्री पहले पेमेंट करके हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा का उपयोग कर सकेंगे.

पहले 30 मिनट तक इंटरनेट फ्री
रेलटेल पहले से ही देश के 5,950 स्टेशनों को मुफ्त वाई-फाई सेवा दे रहा है जिसका उपयोग कोई भी स्मार्टफोन धारक कर सकता है. इसके लिए यूजर्स को ओटीपी आधारित वेरिफिकेशन कराना पड़ता है. नई प्रीपेड योजना के तहत यूजर्स रोजाना अधिकतम 30 मिनट के लिए 1 एमबीपीएस की स्पीड पर इंटरनेट का उपयोग कर सकता है. इसके बाद 34 एमबीपीएस स्पीड तक के लिए उपयोक्ता को बेहद कम शुल्क का पेमेंट करना होगा.

ये हैं Wi-Fi रिचार्ज प्लान
- एक दिन की वैलिडिटी के साथ 10 रुपये में 5 GB डेटा


- एक दिन की वैलिडिटी के साथ 10 रुपये में 10 GB डेटा
- 5 दिन की वैलिडिटी के साथ 20 रुपये में 10 GB डेटा
- 5 दिन की वैलिडिटी के साथ 30 रुपये में 20 GB डेटा
- 10 दिन की वैलिडिटी के साथ 40 रुपये में 20 GB डेटा
- 10 दिन की वैलिडिटी के साथ 50 रुपये में 30 GB डेटा
- 30 दिनों की वैलिडिटी के साथ 70 रुपये में 60 GB डेटा

सभी स्टेशनों को वाईफाई से जोड़ने की योजना
रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने कहा, ''हमने उत्तर प्रदेश के 20 स्टेशनों पर प्रीपेड वाईफाई का परीक्षण किया और उससे मिली प्रतिक्रिया तथा विस्तृत परीक्षण के साथ हम इस योजना को भारत में 4 हजार से ज्यादा स्टेशनों पर शुरू कर रहे हैं. हमारी योजना सभी स्टेशनों को रेलवायर वाईफाई से जोड़ने की है.''

ये भी पढ़ें- रेल यात्रियों को बड़ी राहत! जल्द शुरू होगी रेलवे की एक और सेवा, जानिए कहां और कैसे होगी बुकिंग

नेट-बैंकिंग, ई-वॉलेट और क्रेडिट कार्ड से कर सकते हैं पेमेंट
उन्होंने कहा कि डेटा योजना इस तरह से बनाई गई है कि कोई भी यूजर्स अपनी जरुरत के हिसाब से चुन सकता है. प्रीपेड पेमेंट के लिए नेट-बैंकिंग, ई-वॉलेट और क्रेडिट कार्ड किसी का भी उपयोग किया जा सकता है. इसे ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है. चावला ने बताया कि कोविड-19 से पहले हर महीने करीब तीन करोड़ लोग इस योजना का उपयोग कर रहे थे. उन्होंने कहा कि हालात सामान्य होने और यात्रियों की संख्या पहले की तरह होने पर प्रीपेड वाईफाई सेवा से 10-15 करोड़ रूपये वार्षिक राजस्व प्राप्त होने का अनुमान है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज