Budget 2019: बजट में रेल के लिए कुछ ख़ास बातें

रेलवे के लिए सरकार ने बजट में कुछ खास घोषणा.
रेलवे के लिए सरकार ने बजट में कुछ खास घोषणा.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साल 2019-20 का बजट पेश कर दिया है. इस बजट में रेलवे से जुड़ी क्या रही हैं ख़ास बातें आइए उस पर नज़र डालते हैं... 

  • Share this:
इस बार के बजट में रेलवे के मद में 1,60175.64 करोड़ रुपये के कैपिटल एक्सपेंंडिचर रखा गया है. जो कि पिछले अंतरिम बजट से 1517.64 करोड़ रुपये ज़्यादा है.बजट में रेलवे को वित्त मंत्रालय की तरफ से 65,837 करोड़ रुपये का ग्रास बजटरी सपोर्ट (जीबीएस) दिया गया है. रेलवे को साल 2018 से साल 2030 तक बुनियादी ढांचे के विकास के लिए 50 लाख करोड़ रुपये की ज़रूरत. इसके लिए PPP मोड पर काम करने का प्रस्ताव बजट में  किया गया है.

यह भी पढ़े : आम बजट 2019: साल 2022 तक ये 5 बड़े काम निपटाएगी सरकार

साल 2019-20 के लिए 3750 किलोमीटर नई लाइनेंगेज कन्वर्ज़रडबलिंग और ट्रिपलिंग का लक्ष्य. 



2021 तक इस्टर्न और वेस्टर्न फ्रेट कॉरिडोर को पूरा करने के लिए ख़ास ध्यान देने पर जोर. 
साल 2023 तक यानि तय समय सीमा में बुलेट ट्रेन मुंबई- अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना को पूरा करने का लक्ष्य.  

नए सबअर्बन रेल नेटवर्क तैयार करने पर ज़ोर.  

यह भी पढ़े : चलाई जाएगी प्राइवेट ट्रेन, मल्टी-मॉडल ट्रांसपोर्ट हब बनेगा

golden quadrilateral और diagonal दिल्लीमुंबईकोलकाता और चेन्नई को आपस में जोड़ने वाली रेल लाइन पर  2568 ROB/RUB बनाने का लक्ष्य. इस पर भारतीय रेल साल 2024 तक 50000 करोड़ रुपये खर्च करने जा रहा है. 

रेल हादसोंं को रोकने के लिए ऑटोमेटिक ट्रेन प्रोटेक्शन सिस्टम (ATS) को विकसित करने की योजना.  

रेलवे स्टेशनों को आधुनिक बनाने की बड़ी योजना. 

स्टेशनों और ट्रेन में CCTV और WI FI की सुविधा. 

यह भी पढ़े : इस खासियत के साथ 1,2,5,10 और 20 रुपये के सिक्के होंगे जारी 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज