बेकार पड़ी जमीन से बढ़ेगी रेलवे की कमाई, लीज पर देगी 84 जगहों की जमीन

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

रेल लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी यानी आरएलडीए (Rail Land Development Authority) ने देशभर में 62 स्टेशनों के रिडेवलपमेंट का प्लान भी बनाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 4:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रेलवे ने राजस्थान के सवाई माधोपुर रेलवे स्टेशन के करीब एक जमीन के लिए टेंडर जारी किया है. यह रेलवे की जमीन है, जिसे निजी साझेदार को 45 साल के लिए लीज पर दिया जाएगा. फिर इस जमीन पर निजी साझेदार को कमर्शियल हब तैयार करना है. माना जा रहा है कि यहां निजी साझेदार एक विशाल मॉल तैयार कर सकता है.

जमीन का अतिक्रमण भी रुक सकेगा

इसके अलावा रेलवे ने चेन्नई के तीन अलग-अलग प्लॉट के लिए भी बोली (Bid) निकाली है. यह काम रेलवे की एक कंपनी रेल लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी यानी आरएलडीए (Rail Land Development Authority) कर रही है. आरएलडीए कुल मिलाकर देशभर में रेलवे की 84 जमीन को लीज पर देने वाला है. माना जा रहा है कि इससे रेलवे की बेकार पड़ी जमीन से कमाई का रास्ता भी खुलेगा और उसकी जमीन का अतिक्रमण भी रुक सकेगा.

ये भी पढ़ें- तैयार हो गया देश का पहला CNG ट्रैक्टर, कल होगा लॉन्च, किसानों की होगी 50 फीसदी तक बचत
62 स्टेशनों के रिडेवलपमेंट का प्लान 

आरएलडीए ने देशभर में 62 स्टेशनों के रिडेवलपमेंट का प्लान भी बनाया है. वहीं, आरएलडीए देशभर में 84 रेलवे कॉलोनी को भी रीडेवलप करने जा रहा है. यह काम भी निजी साझेदारों की मदद से पूरा किया जाएगा. इसके अलावा रेलवे की ही एक कंपनी इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कॉरपोरेशन यानी आईआरएसडीसी (Indian Railway Stations Development Corporation) भी 61 रेलवे स्टेशनों के रीडेवलपमेंट पर काम कर रहा है. इन स्टेशनों पर कमर्शियल हब, होटल, मॉल, रेस्टोरेंट, शॉपिंग कंप्लेक्स जैसी चीजें पीपीपी मोड पर तैयार की जाएंगी.

ये भी पढ़ें- PM Kisan: पीएम किसान की 8वीं किस्त चाहिए तो आज ही कर लें ये काम, वरना नहीं आएगा पैसा



इन स्टेशनों में गांधीनगर, हबीबगंज, नई दिल्ली, मुंबई वीटी, चंडीगढ़, तिरुपति, चारबाग़ जैसे स्टेशन शामिल हैं. गुजरात के गांधी नगर और भोपाल के हबीबगंज स्टेशन का काम भी लगभग पूरा हो चुका है. रेलवे का मकसद निजी साझेदारों की मदद से स्टेशन के रिडेवलपमेंट के साथ ही अपनी कमाई में बढ़ोत्तरी करने की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज