Home /News /business /

Indian Railways: स्‍क्रैप बेचकर NWR ने कमाए 80.33 करोड़, साल के आख‍िर तक जीरो स्क्रैप का टॉरगेट

Indian Railways: स्‍क्रैप बेचकर NWR ने कमाए 80.33 करोड़, साल के आख‍िर तक जीरो स्क्रैप का टॉरगेट

उत्तर पश्चिम रेलवे ने 6 माह में अनुपयोगी तथा व्यर्थ पड़े कबाड़ को बेचकर 80.33 करोड़ रुपए की आय अर्ज‍ित की है. (File Photo-Eastern Railway Twittter)

उत्तर पश्चिम रेलवे ने 6 माह में अनुपयोगी तथा व्यर्थ पड़े कबाड़ को बेचकर 80.33 करोड़ रुपए की आय अर्ज‍ित की है. (File Photo-Eastern Railway Twittter)

Indian Railways: भण्डार विभाग द्वारा वित्तीय वर्ष के सितम्बर माह तक उत्तर पश्चिम रेलवे पर 80.33 करोड़ रुपए के कबाड़ (स्क्रैप) का निस्तारण कर राजस्व प्राप्त किया जोकि वर्ष 2020-21 के सितम्बर माह के 48.39 करोड़ की तुलना में 66% अधिक है. उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा वर्ष 2021-22 के अंत तक जीरो स्क्रैप का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई द‍िल्‍ली. रेलवे (Railways) की ओर से कबाड़ (Scrap) का न‍िस्‍तारण हर जोन में बड़ी तेजी के साथ क‍िया जा रहा है. रेलवे इस कार्य से न केवल बड़ा राजस्‍व अर्ज‍ित कर रहा है बल्‍कि आए द‍िन नए-नए र‍िकॉर्ड भी स्‍थाप‍ित कर रहा है. साथ ही रेल कॉम्‍प्‍लेक्‍स को साफ और स्‍वच्‍छता के ल‍िहाज से भी अच्‍छा बनाया जा रहा है. उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के पहले 6 माह में अनुपयोगी तथा व्यर्थ पड़े कबाड़ को बेचकर 80.33 करोड़ रुपए की आय अर्ज‍ित की है.

    उत्तर पश्चिम रेलवे महाप्रबंधक विजय शर्मा का कहना है क‍ि एनडब्‍लूआर (NWR) ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के प्रथम 6 माह में अनुपयोगी तथा व्यर्थ पड़े कबाड (स्क्रैप) को बेचकर 80.33 करोड़ रुपए अर्ज‍ित क‍िए हैं जोक‍ि इस वर्ष कोरोना की दूसरी लहरी के कारण मई माह में स्क्रैप की कोई भी नीलामी नहीं होने के उपरान्त प्राप्त क‍िए है.

    ये भी पढ़ें: Railway ने कबाड़ बेचकर कमाए 35 हजार करोड़ रुपये, RTI में हुआ खुलासा

    मुख्य जनसंपर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण के अनुसार भण्डार विभाग द्वारा फील्ड यूनिट्स से पुराने कबाड़ को हटाने तथा बेचने के लिए अभियान के तहत कार्य किया जा रहा है. भण्डार विभाग द्वारा वित्तीय वर्ष के सितम्बर माह तक उत्तर पश्चिम रेलवे पर 80.33 करोड़ रुपए के कबाड़ (स्क्रैप) का निस्तारण कर राजस्व प्राप्त किया जोकि वर्ष 2020-21 के सितम्बर माह के 48.39 करोड़ की तुलना में 66% अधिक है.

    ये भी पढ़ें: एक्सक्लूसिवः जानिए आखिर पुराने इंजन और ट्रेन के डिब्बाें काे कितने में बेचता है रेलवे

    रेलवे के इन प्रयासों से जहाँ रेलवे परिसर की स्वच्छता में वृद्धि हुई है. वहीं दूसरी ओर रेलवे की सुरक्षा में भी वृद्धि हुई है. स्क्रैप के निस्तारण के लिए भण्डार विभाग द्वारा नई तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है जिनमें ट्रेक मैनेजमेंट सिस्टम व ड्रोन सर्वे शाम‍िल है. उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा वर्ष 2021-22 के अंत तक जीरो स्क्रैप का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

    Tags: Indian Railways, Railway News, Scrap, Scrapping Policy

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर