होम /न्यूज /व्यवसाय /

Indian Railways: रेलवे की कमाई में होगा और इजाफा, इस जोन में तैयार हो रहा 'गति शक्ति मल्टी मॉडल कार्गों टर्मिनल'

Indian Railways: रेलवे की कमाई में होगा और इजाफा, इस जोन में तैयार हो रहा 'गति शक्ति मल्टी मॉडल कार्गों टर्मिनल'

पीएम गति शक्ति योजना (Gati Shakti Yojana) के तहत मल्टी-मॉडल कार्गों टर्मिनल (Gati Shakti Multi Modal Cargo Terminal) भी तैयार क‍िए जा रहे हैं. (File Photo-Railway Twitter)

पीएम गति शक्ति योजना (Gati Shakti Yojana) के तहत मल्टी-मॉडल कार्गों टर्मिनल (Gati Shakti Multi Modal Cargo Terminal) भी तैयार क‍िए जा रहे हैं. (File Photo-Railway Twitter)

Indian Railways: यात्री ट्रेनों के साथ मालगाड़‍ियों की स्‍पीड में भी वृद्ध‍ि की जा रही है ज‍िसका फायदा जोनल रेलवे (Zonal Railways) को ज्‍यादा राजस्‍व अर्ज‍ित करने में हो रहा है. इतना ही नहीं ब‍िजनेस डेवल्‍पमेंट यून‍िट (BDU) को और मजबूत बनाने का काम भी जोर शोर से क‍िया जा रहा है. इस द‍िशा में 'गति शक्ति मल्टी मॉडल कार्गों टर्मिनल' भी तैयार क‍िए जा रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई द‍िल्‍ली. यात्र‍ियों की सुव‍िधा के साथ-साथ भारतीय रेलवे (Indian Railways) जोनल स्‍तर पर माल लदान (Goods Shipment) स‍िस्‍टम को भी मजबूत बनाने की हरसंभव कोश‍िश कर रही है. यात्री ट्रेनों के साथ मालगाड़‍ियों की स्‍पीड में भी वृद्ध‍ि की जा रही है ज‍िसका फायदा जोनल रेलवे (Zonal Railways) को ज्‍यादा राजस्‍व अर्ज‍ित करने में हो रहा है. इतना ही नहीं ब‍िजनेस डेवल्‍पमेंट यून‍िट (BDU) को और मजबूत बनाने का काम भी जोर शोर से क‍िया जा रहा है. इस द‍िशा में पीएम गति शक्ति योजना (Gati Shakti Yojana) के तहत मल्टी-मॉडल कार्गों टर्मिनल (Gati Shakti Multi Modal Cargo Terminal) भी तैयार क‍िए जा रहे हैं.

बताते चलें क‍ि रेल मंत्रालय की ओर से ‘गति शक्ति योजना’ के तहत अगले 4 से 5 सालों के दौरान 500 ‘मल्टी-मॉडल कार्गो टर्मिनल’ बनाने की योजना है. इस योजना पर केंद्र सरकार करीब 50 हजार करोड़ रुपए खर्च करेगी. रेलवे की ओर से इन मल्टी-मॉडल कार्गो टर्मिनल (बहु-स्तरीय मालवाहक टर्मिनल) ऐसी जगहों पर बनाए जाएंगे जहां ट्रांसपोर्ट के विभिन्न साधनों जैसे सड़क, जलमार्ग, वायुमार्ग या अन्य साधन- को रेलवे टर्मिनल के साथ एकीकृत किया जा सकेगा.

पूर्वोत्तर रेलवे की बात करें तो माल यातायात में वृद्धि हेतु उठाये गये प्रभावी कदमों से माल लदान में प‍िछले साल की तुलना में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. वर्ष 2022-23 में अप्रैल माह, 2022 में 0.5293 मीलियन टन माल का लदान हुआ जो गत वर्ष की इसी अवधि में हुए माल लदान 0.3904 मिलियन टन की तुलना में 35.57 फीसदी अधिक है, जो अप्रैल, 2022 हेतु निर्धारित लक्ष्य 0.3000 मीलियन टन से 76.43 फीसदी अधिक है.

ये भी पढ़ें: Indian Railways: अच्‍छी खबर, मुंबई सेंट्रल के ल‍िए यूपी के इस शहर से चलाई जा रही वीकली सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन

पूर्वोत्तर रेलवे के प्रवक्‍ता के मुताब‍िक अप्रैल माह में माल लदान का यह सर्वकालीन रिकार्ड है. मंडल, मुख्यालय तथा रेलवे बोर्ड स्तर पर लोडिंग/अनलोडिंग के विभिन्न आयामों पर त्वरित निर्णय हेतु बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट (BDU) का गठन किया गया है, जिनके प्रयासों से पूर्वोत्तर रेलवे पर नये माल यातायात को रेलवे पर लाने में सफलता मिली.

पूर्वोत्तर रेलवे पर मालगाड़ियों की औसत गति बढ़ गई है, जिससे सामान तीव्र गति से गन्तव्य स्थानों पर पहुंच जा रहा है तथा पुनः लोडिंग के लिए वैगन भी जल्दी उपलब्ध हो जा रहा है. माल यातायात में वृद्धि हेतु बिजनेस डेवलेपमेंट यूनिट (बी.डी.यू.) टीमों द्वारा व्यवसायियों एवं औद्योगिक संस्थानों से सम्पर्क किया गया तथा उनकी आवश्‍कतानुसार मालगोदामों में सुधार एवं विस्तार किया गया. पूर्वोत्तर रेलवे पर माल लदान में वृद्धि के लिये ‘गति शक्ति मल्टी मॉडल कार्गों टर्मिनल’ विकसित किये जा रहे हैं.

बताते चलें क‍ि प्रधानमंत्री के विजन गति शक्ति (Gati Shakti) के अनुरूप भारतीय रेल का पहला गति शक्ति कार्गो टर्मिनल (Gati Shakti Cargo Terminal-GCT) पूर्वी रेलवे के आसनसोल मंडल (Asansol Division) में शुरू किया गया है. दिसंबर 2021 में GCT नीति के लागू होने बाद से यह भारतीय रेलवे में इस तरह का पहला शक्ति कार्गो टर्मिनल है. इससे भारतीय रेलवे की कमाई में और इजाफा होने की उम्मीद जताई जा रही है. इस टर्मिनल और अन्य ऐसे टर्मिनल्स के चालू होने से देश की अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेंगे.

Tags: Goods trains, Indian Railways, Ministry of Railways, North east railway, Railway News

अगली ख़बर