• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • रेल टिकट बुकिंग के लिए इन डॉक्यूमेंट को लिंक करने की योजना बना रहा है रेलवे, जानिए डिटेल

रेल टिकट बुकिंग के लिए इन डॉक्यूमेंट को लिंक करने की योजना बना रहा है रेलवे, जानिए डिटेल

IRCTC

नई दिल्ली . रेलवे आईआरसीटीसी से टिकट बुकिंग में बड़ा बदलाव करने की योजना बना रहा है. आईआरसीटीसी पर टिकट बुकिंग के लिए रेलवे यात्रियों के लिए लॉगइन ब्योरे से आधारकार्ड, पैनकार्ड और पासपोर्ट जैसे पहचान पत्रों को लिंक करने की योजना बना रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली . रेलवे आईआरसीटीसी से टिकट बुकिंग में बड़ा बदलाव करने की योजना बना रहा है. रेलवे टिकट दलालों से छुटकारा पाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है. आईआऱसीटीसी पर टिकट बुकिंग के लिए रेलवे यात्रियों के लिए लॉगइन ब्योरे से आधारकार्ड, पैनकार्ड और पासपोर्ट जैसे पहचान पत्रों को लिंक करने की योजना बना रहा है.
    रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के महानिदेशक अरुण कुमार ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि पहले दलालों के खिलाफ कार्रवाई मानव खुफिया सूचना पर आधारित रहती थी, जिसका जमीनी स्तर पर बहुत कम या नहीं के बराबर असर होता था. हम उस कमी को दूर करने का प्रयास कर रहे हैं.

    टिकट में दलाली रोकने का प्रयास

    आगे हम इस योजना पर काम कर रहे है कि हम टिकट के वास्ते लॉगइन को किसी पहचान पत्र जैसे पैन या आधार कार्ड या किसी अन्य सबूत से जोड़ें. जिसके नंबर का इस्तेमाल यात्री लॉगइन करने के लिए इस्तेमाल कर सकता है ताकि दलाली पर हम पूर्ण विराम लगा सकें.

    यह भी पढ़ें- अच्छे संकेत: अमेरिका में 2004 के बाद पहली बार बिजनेस शुरू करने के लिए सबसे अधिक Application
    कुमार ने कहा कि दलालों के खिलाफ अक्टूबर-नवंबर, 2019 में कार्रवाई शुरू की गयी थी और उसी साल दिसंबर से अवैध सॉफ्टवेयर के विरुद्ध कार्रवाई की गयी. उनके अनुसार मई, 2021 तक 14257 दलाल गिरफ्तार किये गये और अबतक 28.34 करोड़ रुपये के टिकट जब्त किये गये.

    यात्री सुरक्षा के लिए एप भी 

    महानिदेशक ने कहा कि यात्रा के दौरान यात्रियों द्वारा सरकारी रेलवे पुलिस और आरपीएफ में सुरक्षा संबंधी शिकायत दर्ज कराने के लिए रेल सुरक्षा ऐप विकसित किया गया है. उन्होंने कहा, ‘‘ हम 6049 स्टेशनों एवं सभी यात्री ट्रेन डिब्बों में सीसीटीवी कवरेज के लिए निगरानी एवं जवाबी कार्रवाई प्रणाली तैयार कर रहे हैं.

    यह भी पढ़ें- कोरोना कवच और कोरोना रक्षक पॉलिसी क्या खरीदनी चाहिए? दोनों में कौन सी बेहतर है, यहां जानिए
    उन्होंने कहा कि आरपीएफ ने कोविड के चलते अनाथ हो गये बच्चों तक ‘पहुंचने, उन्हें सुरक्षित रखने एवं उनके पुनर्वास के लिए’ एक विशेष योजना बनायी है. उन्होंने कहा, ‘‘ आरपीएफ ने कोविड के चलते अनाथ हुए एवं मुश्किल स्थिति में स्टेशन, ट्रेनों या समीप के शहरों, गांवों, अस्पतालों में मिलने वाले बच्चों की पहचान के लिए विशेष अभियान चलाया है. कर्मियों को महामारी के फैलने से प्रभावित हुए ऐसे बच्चों पर विशेष ध्यान देने के लिए संवेदनशील बनाया गया है. बच्चे के मिलने से उसके पुनर्वास तक हर बच्चे के लिए एक नोडल आरपीएफ कर्मी जिम्मेदार हैं.’’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज