लाइव टीवी

घाटे में चल रही है रेलवे के लिए सबसे ज्यादा कमाई कर रही है ये दो ट्रेन! जानिए कैसे

भाषा
Updated: December 4, 2019, 12:21 PM IST
घाटे में चल रही है रेलवे के लिए सबसे ज्यादा कमाई कर रही है ये दो ट्रेन! जानिए कैसे
वंदे भारत एक्सप्रेस और तेजस एक्सप्रेस से हो रही है कमाई

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (Comptroller and Auditor General of India) की रिपोर्ट में कहा है, ‘ट्रेन सेवाओं की सभी श्रेणियां 2016-17 में घाटे में रहीं, सिर्फ एसी थ्री टायर और एसी चेयर कार सेवाएं अपवाद रहीं जो अपनी संचालन लागत निकाल पायीं और मुनाफा कमायीं.’

  • Share this:
नई दिल्ली. कैग (CAG) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पारंपरिक लाभकारी एसी थ्री टायर श्रेणी के अलावा वातानुकूलित चेयर कार सेवा भारतीय रेलवे (Indian Railway) की एकमात्र मुनाफेवाली सेवा के रूप में उभरी है. जीएजी ने वंदे भारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express) और तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) जैसे एसी चेयर कार ट्रेनें शुरू करने को सही ठहराया है जिनमें शयनयान श्रेणी सेवाएं नहीं हैं.

आपको बता दें कि भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) ने अक्टूबर में कुल 3.70 करोड़ रुपये की कमाई की है.वहीं, इस दौरान ट्रेन को कुल 70 लाख रुपये का मुनाफा हुआ है. IRCTC की ओर से जारी आंकड़ों में बताया गया है कि दिल्ली-लखनऊ के बीच 5 से 28 अक्टूबर तक यानी 21 दिन ट्रेन को चलाया गया.

इस दौरान ट्रेन पर रोजना करीब 14 लाख रुपये का खर्च आया . वहीं, यात्रियों के जरिए 17.5 लाख रुपये/रोजाना की कमाई हुई. आपको बता दें कि तेजस ट्रेन का संचालन IRCTC करती हैं. भारतीय रेलवे का प्राइवेट ट्रेन को लेकर नया प्लान- रेलवे का 50 वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन विकसित कर देश में 150 प्राइवेट सवारी गाड़ियां चलाने का लक्ष्य है.

>> केंद्र सरकार ने पिछले महीने ही सचिवों की विशेष टास्क फोर्स बनाकर इन कामों को तेजी देने की पहल की है. इस टास्क फोर्स की पहली बैठक अभी नहीं हुई है

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ने सोमवार को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कहा है, ‘ट्रेन सेवाओं की सभी श्रेणियां 2016-17 में घाटे में रहीं, सिर्फ एसी थ्री टायर और एसी चेयर कार सेवाएं अपवाद रहीं जो अपनी संचालन लागत निकाल पाई और मुनाफा कमाई.’

गौरतलब है कि भारतीय रेल को लेकर  नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट में कई जानकारी सामने आई है. रिपोर्ट में रेलवे का परिचालन अनुपात वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 प्रतिशत दर्ज किया गया, जो पिछले 10 वर्षो में सबसे खराब है. रेलवे में इस परिचालन अनुपात का तात्पर्य यह है कि रेलवे ने 100 रूपये कमाने के लिये 98.44 रूपये व्यय किये.

ये भी पढ़ें: अगर नहीं दिए ये डॉक्युमेंट तो कट जाएगी आपकी सैलरी, जानिए क्यों?रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय रेल का परिचालन अनुपात वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 प्रतिशत रहने का मुख्य कारण पिछले वर्ष 7.63 प्रतिशत संचालन व्यय की तुलना में उच्च वृद्धि दर का 10.29 प्रतिशत होना है. कैग की रिपोर्ट में सिफारिश की गई है कि रेलवे को आंतरिक राजस्व बढ़ाने के लिए उपाय करने चाहिए ताकि सकल और अतिरिक्त बजटीय संसाधनों पर निर्भरता रोकी जा सके.

वहीं कैग की रिपोर्ट के हवाले से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मोदी सरकार पर बड़ा हमला किया है. उन्होंने कहा है कि बीजेपी (BJP) सरकार ने भारतीय रेल को बुरी स्थिति में ला दिया है और अब वह इसे बेचने की कवायद शुरू कर देगी. प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, 'भारतीय रेल देश की जीवन रेखा है. अब भाजपा सरकार ने भारतीय रेल को भी सबसे बुरी हालत में लाकर खड़ा कर दिया है.'

ये भी पढ़ें: 15 दिसंबर से इस बैंक में बदल जाएंगे पैसों के लेनदेन के नियम, जान लें नहीं तो..

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 11:40 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर