Home /News /business /

रेल मंत्री ने ट्रेन एक्‍सीडेंट में घायल के घर पहले डाकिया भेजा, फिर मस्जिद से हुआ अनाउंस, जानें पूरा मामला

रेल मंत्री ने ट्रेन एक्‍सीडेंट में घायल के घर पहले डाकिया भेजा, फिर मस्जिद से हुआ अनाउंस, जानें पूरा मामला

अस्‍पताल में घायलों का हालचाल लेते रेल मंत्री अश्चिनी वैष्‍णव  .

अस्‍पताल में घायलों का हालचाल लेते रेल मंत्री अश्चिनी वैष्‍णव .

Guwahati-Bikaner Express Train accident: गुवाहाटी-बीकानेर रेल हादसे (Guwahati-Bikaner Rail Accident) में घायल के घर सूचना पहुंचाने के लिए रेल मंत्री ने पहले उसके गांव डाकिये को भेजा. जब परिजनों का पता नहीं चला तो मस्जिद से अनाउंस कराया गया. तब जाकर परिजनों से संपर्क हो पाया और परिजन घायल के पास पहुंचने के लिए गांव से निकले.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. गुवाहाटी- बीकानेर रेल हादसे (Guwahati-Bikaner Rail Accident) में घायल के घर सूचना पहुंचाने के लिए रेल मंत्री ने पहले उसके गांव डाकिये को भेजा. जब परिजनों का पता नहीं चला तो मस्जिद से अनाउंस कराया गया. तब जाकर परिजनों से संपर्क हो पाया और परिजन घायल के पास पहुंचने के लिए गांव से निकले चुके हैं. हालां‍कि मोबाइल के दौर में डाकिया और मस्जिद की बात बड़ी अजीब लग रही है, लेकिन ट्रेन हादसे में ऐसा ही हुआ है. मामले में स्‍वयं रेल मंत्री अश्विनी वैष्‍णव (Railway Minister Ashwini Vaishnav) ने हस्‍तक्षेप किया, जिसके बाद सूचना पहुंची.

गुवाहाटी ट्रेन हादसे के बाद शुक्रवार सुबह घटना स्‍थल पर रेल मंत्री अश्विनी वैष्‍णव (Railway Minister Ashwini Vaishnav) पहुंचे. घटना स्‍थल का निरीक्षण करने के बाद वे घायलों को देखने अस्‍पताल पहुंचे. 36 घायलों का इलाज विभिन्‍न अस्‍पतालों में चल रहा है, जिसमें 23 घायलों का इलाज जलपाईगुड़ी के सरकारी अस्‍पताल में चल रहा है, जब‍कि छह का नार्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज में और 7 का मैनागुड़ी के अस्‍पताल में इलाज चल रहा है. जब वे घायलों का हाल चाल पूछ रहे थे, तभी एक घायल ने कहा कि वे जयपुर से गुवाहाटी जा रहा था.  हादसे में उसका मोबाइल खो गया है और उसे अपने घर का मोबाइल नंबर भी याद नहीं है. परिजन चिंतित होंगे, इसलिए उसके परिजनों को सूचना पहुंचा दी जाए. उसने अपने गांव और जिले का नाम बताया.

चूंकि अश्विनी वैष्‍णव रेल मंत्री के साथ साथ इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री भी हैं. इसलिए तत्‍काल अधिकारियों को निर्देश दिया कि डाक विभाग की मदद से उसके घर तक सूचना पहुंचाई जाए. डाक विभाग तत्‍काल हरकत में आया और संबंधित पोस्‍ट आफिस से उसके घर एक डाकिये को भेजा गया. डाकिया भी उसके मुहल्‍ले गया, लेकिन परिजनों को ढूंढ़ नहीं पाया. वापस आकर जानकारी अधिकारियों को दी. उस समय जुमे की नमाज का समय हो रहा था, अधिकारियों ने उस मुहल्‍ले की मस्जिद से अनाउंस कराया. सूचना घायल के पड़ोसियों ने सुनी और परिजनों को बताया. इसके बाद परिजनों के पास डाक विभाग के अधिकारी पहुंचे और परिजनों को घटना की सूचना दी. अधिकारियों के अनुसार परिजन घायल के पास अस्‍पताल पहुंच रहे हैं.

मृतकों और घायलों को मुआवजा दिया
ट्रेन हादसे में मृतकों और घायलों को रेलवे ने मुआवजा दिया है. मंत्रालय के एडीजी पीआईबी राजीव जैन ने बताया कि मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायल 10 को 1-1 लाख रुपये और घायलों को 25-25 हजार रुपये रेलवे मंत्रालय दे रहा है. रेलवे जल्‍द से जल्‍द पीड़ितों को मुआवजा देने की व्‍यवस्‍था कर रहा है.

Tags: Indian Railway news, Indian Railways

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर