कोरोना संकट के बीच रेलवे ने की रिकॉर्ड माल ढुलाई, सबसे ज्यादा इसकी हो रही है लोडिंग

कोरोना संकट के बीच रेलवे ने की रिकॉर्ड माल ढुलाई, सबसे ज्यादा इसकी हो रही है लोडिंग
अगस्त 2020 में रेल ने इन सामानों की मालढुलाई की

भारतीय रेलवे ने अगस्त 2020 में कुल 94.33 मिलियन टन की लोडिंग की. रेलवे ने सबसे अधिक 40.49 मिलियन टन कोयले की लोडिंग की.12.46 मिलियन टन लौह अयस्क,6.24 मिलियन टन खाद्यान्न,5.32 मिलियन टन उवर्रक,4.63 मिलियन टन सीमेंट और 3.2 मिलियन टन मिनरल ऑयल की लोडिंग की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2020, 4:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड 19 महामारी (COVID-19 Pandemic) की वजह से सीमित पैसेंजर ट्रेनें चल रही है. 30 राजधानी स्तर की ट्रेने और 200 स्पेशल एक्सप्रेस या मेल पैसेंजर ट्रेनें भारतीय रेलवे चला रही है. इससे रेलवे की कमाई पर भी खासा असर पड़ा है. अपनी कमाई बढ़ाने और सामानों की आवाजाही सुगम बनाने की दिशा में रेलवे लगातार काम कर रही है. कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे ने अगस्त 2020 में अगस्त 2019 के मुकाबले 3.31 मिलियन टन अधिक सामानों की मालढुलाई की.अगस्त 2019 में भारतीय रेलवे ने 91.02 मिलियन टन सामानों को एक जगह से दूसरे जगह तक पहुंचाया था. वहीं अगस्त 2020 में रेल ने 94.33 मिलियन टन सामानों की लोडिंग की.

अगस्त 2020 में रेल ने इन सामानों की मालढुलाई की
भारतीय रेलवे ने अगस्त 2020 में कुल 94.33 मिलियन टन की लोडिंग की. रेलवे ने सबसे अधिक 40.49 मिलियन टन कोयले की लोडिंग की.12.46 मिलियन टन लौह अयस्क,6.24 मिलियन टन खाद्यान्न,5.32 मिलियन टन उवर्रक,4.63 मिलियन टन सीमेंट और 3.2 मिलियन टन मिनरल ऑयल की लोडिंग की.

यह भी पढ़ें- बड़ी खबर! अनलॉक 4 के तहत 100 नई स्पेशल ट्रेनें चलाने की तैयारी में रेलवे
फ्रेट के जरिए कमाई बढ़ाने के लिए रेलवे उठा रही है ये कदम


मालढुलाई के लिए रेलवे ने कई आकर्षक छूट देने की भी घोषणा की है.सामानों को समयबद्ध सिस्टम से गंतव्य तक पहुंचाने के लिए रेलवे माल ट्रेन,पार्सल ट्रेन और किसान ट्रेने चला रही है. माल ट्रेनों की गति बढ़ाने के लिए भी डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर तैयार किया जा रहा है. यहीं नहीं रेलवे जीरो बेस टाइम टेबल भी तैयार करने में जुटा हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज