RBI का ऐलान: अब नहीं मिलेगा 2000 रुपये का नोट, नोटबंदी के बाद मार्केट में आई थी ये करेंसी

नोटबंदी के ऐलान के बाद साल 2016 में 2000 रुपये का नोट लाया गया था

बहुत जल्द आपको मार्केट से 2000 के नोट (2,000 currency notes) नहीं दिखेंगे. ऐसा इसलिए क्योंकि अब दो हजार के नोट छपने बंद हो गए हैं. दरअसल, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 2000 रुपये के नोटों को सिस्टम से धीरे धीरे वापस लेना शुरू कर दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. बहुत जल्द आपको मार्केट से 2000 के नोट (2,000 currency notes) नहीं दिखेंगे. ऐसा इसलिए क्योंकि अब दो हजार के नोट छपने बंद हो गए हैं. दरअसल, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 2000 रुपये के नोटों को सिस्टम से धीरे धीरे वापस लेना शुरू कर दिया है. RBI ने ऐलान किया है कि वित्त वर्ष 2021-2022 में 2000 रुपये के नए नोट नहीं छापे जाएंगे. पिछले साल भी RBI ने 2000 रुपए के नए नोट नहीं छापे थे. RBI ने अपनी एनुअल रिपोर्ट में यह जानकारी दी है. यह रिपोर्ट 26 मई 2021 को जारी की गई थी.

    नोटबंदी के बाद लाया गया था ये नोट
    बता दें कि नोटबंदी के ऐलान (Demonetization in India) के बाद साल 2016 में 2000 रुपये का नोट लाया गया था, लेकिन बड़ी वैल्यू् का नोट होने की वजह से इसके फेक करेंसी मार्केट में जाने का खतरा भी ज्यादा रहता है. RBI की एनुअल रिपोर्ट में बताया गया है कि फिस्कल ईयर 2021 में कुल पेपर कैश 0.3 फीसदी घटकर 2,23,301 लाख यूनिट रहे. वैल्यू के रूप में देखें तो मार्च 2021 में 4.9 लाख करोड़ रुपये के 2000 के नोट सिस्टम में थे, जबकि मार्च 2020 में इसकी वैल्यू 5.48 लाख करोड़ रुपये थी.

    ये भी पढ़ें- खुशखबरी: किसानों को मिलेंगे 4000 रुपये! 30 जून से पहले यहां करना होगा आवेदन, जानिए पूरी डिटेल

    3 साल में 2000 के नोट काफी कम हुए
    RBI की रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2018 में 2000 के सिस्टम में 336.3 करोड़ नोट मौजूद थे, लेकिन मार्च 31, 2021 में इनकी संख्या घटकर 245.1 करोड़ रह गई है. यानी इन तीन सालों में 91.2 करोड़ नोटों को सिस्टम से बाहर कर दिया गया है.

    ये भी पढ़ें- दिल्ली, मुंबई और अहमदाबाद के ये तीन युवा क्रिप्टोकरेंसी से बन गए अरबपति, पहले करते थे साधारण नौकरी..पढ़ें कैसे?

    500 रुपये अधिक चलन में है
    रिपोर्ट के मुताबिक, 31 मार्च, 2021 तक चलन में मौजूद कुल बैंक नोटों में 500 और 2,000 रुपये के नोटों का हिस्सा 85.7 प्रतिशत था. जबकि 31 मार्च, 2020 के अंत तक यह आंकड़ा 83.4 प्रतिशत था. इसमें भी मात्रा के हिसाब से 31 मार्च, 2021 तक चलन में मौजूद नोटों में 500 रुपए के नोट का हिस्सा सबसे ज्यादा 31.1 प्रतिशत था.