RBI ने किया Bhagyodaya Friends अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक का लाइसेंस रद्द, जानिए पूरा मामला

भारतीय रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक

आरबीआई (RBI) ने बताया कि उसने भाग्‍योदय फ्रेंड्स अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड का लाइसेंस रद्द कर दिया है।

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 22, 2021, 8:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई (Reserve Bank of India) ने महाराष्ट्र स्थित भाग्योदय फ्रेंड्स अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड (Bhagyodaya Friends Urban Co-operative Bank Limited) का लाइसेंस रद्द कर दिया है. केंद्रीय बैंक ने एक आदेश में कहा है कि रिजर्व बैंक ने भाग्योदय फ्रेंड्स अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड का लाइसेंस रद्द कर दिया है, क्योंकि उसके पास पर्याप्त पूंजी और कमाई की संभावना नहीं है. आरबीआई (RBI) ने कहा कि बैंक आवश्यकताओं का पालन करने में विफल रहा है और बैंक की निरंतरता उसके जमाकर्ताओं के हितों के लिए प्रतिकूल है.

खाताधारकों को मिलेगा 5 लाख के डिपॉजिट बीमा का लाभ

गौरतलब है कि बैंकों में 5 लाख रुपये तक की जमा सुरक्षित होने की गारंटी डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन की ओर से ​होती है. डीआईसीजीसी, भारतीय रिजर्व बैंक के स्वामित्व वाली सब्सिडियरी है, जो बैंक जमा पर इंश्योरेंस कवर उपलब्ध कराती है. 5 लाख के डिपॉजिट बीमा के प्रावधानों के मुताबिक, बैंक के दिवालिया होने या उसका लाइसेंस रद्द होने पर 5 लाख रुपये तक की धनराशि का भुगतान जमाकर्ता को किया जाता है, फिर चाहे बैंक में उसका कितना ही पैसा जमा क्यों न हो.

ये भी पढ़ें- SBI का हो जाएगा सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड का कारोबार? जानें ग्राहकों पर क्या होगा असर
संबंध फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड पर भी लाइसेंस रद्द होने का खतरा 

इसके अलावा घोटाले के आरोपों से घिरे माइक्रो फाइनेंस कंपनी संबंध फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड (Sambandh Finserve Pvt Ltd) पर भी लाइसेंस कैंसिल होने का खतरा मंडरा रहा है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने संबंध फिनसर्व का लाइसेंस रद्द करने से पहले माइक्रो फाइनेंस कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

आरबीआई ने संबंध फिनसर्व से पूछा है कि कंपनी के नेटवर्थ में इतनी बड़ी गिरावट आने के बाद क्यों न उसका लाइसेंस रद्द कर दिया जाए. दरअसल, आरबीआई के नियमों के तहत, नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी के लिए टियर-1 और टियर-2 के तौर पर एक निश्चत कैपिटल बनाए रखना अनिवार्य होता है. साथ ही यह अमाउंट उनके कुल जोखिम का कम से कम 15 फीसदी होना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज