RBI ने कमर्शियल बैंकों को कुछ शर्तों के साथ 50% लाभांश भुगतान करने की दी अनुमति

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने वाणिज्यिक बैंकों (Commercial Banks) को वित्त वर्ष 2020-21 के लिए कुछ शर्तों और सीमा के साथ लाभांश का भुगतान करने की अनुमति दे दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 8:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने वाणिज्यिक बैंकों (Commercial Banks) को वित्त वर्ष 2020-21 के लिए कुछ शर्तों और सीमा के साथ लाभांश का भुगतान करने की अनुमति दे दी है. RBI ने 22 अप्रैल को कहा कि वाणिज्यिक बैंक 31 मार्च, 2021 को समाप्त वित्तीय वर्ष के लिए मुनाफे से इक्विटी शेयरों पर पूर्व-COVID का 50 प्रतिशत तक भुगतान कर सकते हैं.

रिजर्व बैंक के संशोधित परिपत्र के अनुसार वाणिज्यिक बैंक कोविड-पूर्व के स्तर की तुलना में 50 प्रतिशत लाभांश का भुगतान कर सकते हैं. सहकारी बैंकों के मामले में लाभांश पर सभी प्रकार के अंकुश हटा दिए गए हैं. FY20 के लिए, RBI ने बैंकों से COVID-19 के कारण बढ़ रही अनिश्चितता को देखते हुए मुनाफे से इक्विटी शेयरों पर कोई लाभांश भुगतान नहीं करने के लिए कहा था. बैंक ने सभी बैंकों के 2019-20 के लिए किसी प्रकार के लाभांश की घोषणा पर रोक लगा दी थी.

ये भी पढ़ें: Citibank के बाद अब ये बैंक समेटेगा भारत से अपना कारोबार, 12 साल पहले आया था अस्तित्व में 

सहकारी बैंकों को मिली अनुमति
4 मई, 2005 के परिपत्र में निहित निर्देशों के आंशिक संशोधन में, बैंक 31 मार्च को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष के लिए मुनाफे से इक्विटी शेयरों पर लाभांश का भुगतान कर सकते हैं. RBI ने कहा कि 31 मार्च, 2021 को समाप्त हुए निर्देशों के अनुसार, सहकारी बैंकों को इक्विटी शेयरों पर लाभांश का भुगतान करने की अनुमति है.

कोविड-19 के कारण लगाई थी रोक

कोविड-19 के कारण बढ़ी अनिश्चितता के माहौल में बैंकों द्वारा पूंजी का संरक्षण किया जाना महत्वपूर्ण है ताकि अर्थव्यवस्था का समर्थन करने की उनकी क्षमता को बरकरार रखी जा सके और घाटे को अवशोषित किया जा सके. कोई भी बैंक 31 मार्च 2020 को समाप्त वित्तीय वर्ष से संबंधित लाभ से आगे आदेश तक लाभांश का भुगतान नहीं करेगा. बैंकों की 30 सितंबर 2020 को समाप्त होने वाली तिमाही के वित्तीय परिणाम के आधार पर रिज़र्व बैंक द्वारा इस प्रतिबंध का पुनर्मूल्यांकन किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज