होम /न्यूज /व्यवसाय /महंगाई के दबाव में सुस्‍त हो गई विकास दर! रिजर्व बैंक ने 2022-23 का अनुमान घटाया

महंगाई के दबाव में सुस्‍त हो गई विकास दर! रिजर्व बैंक ने 2022-23 का अनुमान घटाया

GDP वृद्धि के अनुमान में RBI ने की कटौती. (फोटो- मनीकंट्रोल)

GDP वृद्धि के अनुमान में RBI ने की कटौती. (फोटो- मनीकंट्रोल)

GDP Forecast: RBI ने भारत के विकास दर के अनुमान को 7 फीसदी से घटाकर 6.8 फीसदी कर दिया है. वहीं, वित्त वर्ष 2023-24 में ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आरबीआई ने 2022-23 के लिए जीडीपी वृद्धि का अनुमान 6.8 फीसदी किया.
इससे पहले मंगलवार को विश्व बैंक ने भारत की विकास दर का अनुमान बढ़ाया था.
आरबीआई ने रेपो रेट में लगातार 5वीं बार बढ़ोतरी करते हुए इसे 6.25% किया.

नई दिल्ली. आरबीआई ने वित्त वर्ष 23 के लिए जीडीपी वृद्धि दर के अनुमान को 7 फीसदी से घटाकर 6.8 फीसदी कर दिया है. आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत बनी हुई है. आरबीआई ने कहा है कि तीसरी तिमाही में 4.4 फीसदी और चौथी तिमाही में 4.2 फीसदी रहने का अनुमान है. दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में भारत की जीडीपी विकास दर 6.3 फीसदी रही थी.

वहीं, अगले वित्त वर्ष यानी 2023-24 में भारत की विकास दर 7.1 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. आपको बता दें कि मंगलवार को विश्व बैंक ने भारत के विकास दर के अनुमान को 6.5 से बढ़ाकर 6.9 फीसदी किया था. गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि जीडीपी विकास दर के अनुमान में कटौती के बावजूद बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेजी से बढ़ती इकोनॉमी बना रहेगा.

ये भी पढ़ें- RBI ने की घोषणा, इस सरकारी बॉन्ड में निवेश करने पर मिलेगा 7.69 फीसदी ब्याज

महंगाई दर में बदलाव नहीं
आरबीआई ने महंगाई दर के अनुमान में कोई बदलाव नहीं किया है. आरबीआई ने खुदरा महंगाई दर के अनुमान को 6.7 फीसदी पर बरकरार रखा है. गौरतलब है कि ये आरबीआई के संतोषजनक दायरे (2-6 फीसदी) के ऊपर है. अक्टूबर में खुदरा महंगाई दर तीन माह के निचले स्तर 6.77 फीसदी पर पहुंच गई थी. हालांकि, इस गिरावट के बावजूद मौजूदा कैलेंडर ईयर की शुरुआत से अब तक महंगाई दर 6 फीसदी से नीचे नहीं आई है. सितंबर में इसने अपना 5 महीने का उच्चतम स्तर देखा था. सितंबर में देश की खुदरा महंगाई दर 7.41 फीसदी पर पहुंच गई थी.

रेपो रेट में फिर से हुआ इजाफा
आरबीआई ने एक बार फिर नीतिगत ब्याज दर यानी रेपो रेट में बढ़ोतरी की है. मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक में हुए फैसले की बुधवार को घोषणा की गई जिसमें आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि रेपो रेट को 0.35 फीसदी बढ़ाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ऐसा महंगाई के दबाव को देखते हुए किया जा रहा है. आरबीआई ने करीब 2 साल बाद इसी साल मई में रेपो रेट बढ़ाना शुरू किया था और अब तक 5 बार ब्याज दर बढ़ाई जा चुकी है. इस बढ़ोतरी से पहले रेपो रेट में 1.90 फीसदी का इजाफा करते हुए इसे 5.90 फीसदी तक पहुंचा दिया गया था. वहीं, अब रिजर्व बैंक की प्रभावी रेपो रेट 6.25 फीसदी हो जाएगी. आरबीआई ने मई से अब तक रेपो रेट में 2.25 फीसदी का इजाफा कर दिया है. इससे आने वाले समय में हर तरह के लोन महंगे हो जाएंगे.

Tags: Business news, Business news in hindi, GDP, India GDP

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें