15 अगस्त के मौके पर सरकार के लिए आई खुशखबरी! RBI जल्द सरकार के खाते में ट्रांसफर करेगा 57,128 करोड़ रुपये!

15 अगस्त के मौके पर सरकार के लिए आई खुशखबरी! RBI जल्द सरकार के खाते में ट्रांसफर करेगा 57,128 करोड़ रुपये!
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया गवर्नर शक्तिकांत दास (RBI-Reserve Bank of India)

RBI के बोर्ड से Rs 57,128 करोड़ रुपये के डिविडेंड को मंजूरी दी. RBI ने आज बोर्ड बैठक में ये फैसला लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 14, 2020, 8:28 PM IST
  • Share this:
मुंबई. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी आरबीआई (RBI-Reserve Bank of India) की आमदनी कैसे होती है? वो क्यों सरकार को डिविडेंड (Dividend) के तौर पर पैसा देता है? शायद ये सवाल आपके मन में भी आया हो तो बता दें कि आरबीआई की आमदनी का मुख्य जरिया सरकारी बॉन्ड (Government Bonds), गोल्ड पर किया गया इन्वेस्टमेंट और विदेशी मार्केट में फोरेक्स और बॉन्ड ट्रेडिंग होता है. इनके जरिए उसकी मोटी कमाई होती है. RBI अपनी जरूरतें पूरी करने के बाद जो सरप्लस बचता है उसे सरकार को ट्रांसफर करना होता है. आइए जानें इससे जुड़ी सभी बातें...

सरकार को RBI से मिलेगा डिविडेंड- RBI के बोर्ड से Rs 57,128 करोड़ रुपये के डिविडेंड को मंजूरी दी. RBI ने आज बोर्ड बैठक में ये फैसला लिया है. Contingency Risk Buffer 5.5% रखने का फैसला भी हुआ है.

क्यों RBI सरकार को पैसा देती है-आरबीआई की स्थापना सन 1934 में हुई थी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक्ट 1934 के चैप्टर 4 सैक्शन 47 के मुताबिक, आरबीआई का अपने ऑपरेशंस के जरिये कमाए मुनाफे में से सरप्लस फंड को केंद्र सरकार को भेजना जरूरी है.



क्या होता है डिविडेंड- कुछ कंपनियां अपने होने वाले प्रॉफिट में से समय-समय पर शेयरहोल्डर्स (शेयरधारकों) को कुछ हिस्सा देती हैं. मुनाफे का यह हिस्सा वे शेयरहोल्डर्स (शेयरधारकों) को डिविडेंड के रूप में देती हैं. इसी तरह आरबीआई भी अपने मुनाफे के हिस्से में से कुछ हिस्सा सरकार को देता है.



आरबीआई के पास कितना पैसा है? रिज़र्व बैंक के पास 4 तरह के खाते होते हैं. RBI के 2017-18 के आंकड़ों के मुताबिक उसके पास करीब 9 लाख 60 हजार करोड़ रुपये का रिज़र्व है. ये चार खाते हैं.

(1) करेंसी एंड गोल्ड रिजर्वः RBI के पास करीब 6.95 लाख करोड़ रुपये का मुद्रा और गोल्ड स्टॉक है. मतलब इतने रुपये के मूल्य का सोना और नोट-सिक्के आरबीआई के पास हैं.

(2) एसेट डेवलपमेंट फंडः इस खाते में आरबीआई के पास 22,811 करोड़ रुपये हैं.

(3) निवेश खाताः इस अकाउंट में 13,285 करोड़ रुपये हैं.

(4) कंटिंजेंसी फंडः इस खाते को आकस्मिक निधि अकाउंट बोला जाता है. ये सबसे अहम अकाउंट है. सारा बवंडर इसी को लेकर है. रिज़र्व बैंक अपने कामकाज से जो लाभ कमाता है. उसका एक हिस्सा कंटिंजेंसी फंड में आता है. RBI की कमाई का दूसरा हिस्सा सरकार को लाभांश यानी डिविडेंड के रूप में दिया जाता है. करेंसी एंड गोल्ड रिजर्व के बाद इसी खाते में सबसे ज्यादा पैसा है. इस वक्त RBI के इस खाते में करीब 2.32 लाख करोड़ रुपये हैं. यानी मिलाजुलाकर आरबीआई के पास 10 लाख करोड़ रुपये हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज