RBI ने क्रिप्‍टोकरेंसी के निवेशकों को दी राहत! कहा-SC खारिज कर चुका है डिजिटल करेंसी में लेनदेन नहीं करने का उसका आदेश

RBI ने क्रिप्‍टोकरेंसी की खरीद फरोख्‍त करने वाले भारतीय निवेशकों को बड़ी राहत दी है.

RBI ने क्रिप्‍टोकरेंसी की खरीद फरोख्‍त करने वाले भारतीय निवेशकों को बड़ी राहत दी है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने कहा कि देश के बड़े बैंक अपने ग्राहकों को क्रिप्‍टोकरेंसी (Cryptocurrency) की खरीद-फरोख्‍त से दूर रहने की चेतावनी दे रहे हैं. इसके लिए रिजर्व बैंक के 6 अप्रैल 2018 के सर्कुलर का हवाला दिया जा रहा है. आरबीआई ने साफ किया कि उसके दिशानिर्देशों को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) खारिज कर चुका है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देश के सबसे बड़े सरकारी कर्जदाता स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) और सबसे बड़े निजी क्षेत्र के बैंक एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) समेत कई बैंकों की ओर से अपने ग्राहकों को बिटक्‍वाइन व डॉगक्‍वाइन (Bitcoin/Dogecoin) जैसी क्रिप्‍टोकरेंसी की खरीद-फरोख्‍त से दूर रहने की चेतावनी भरे ई-मेल भेजे गए हैं. साथ ही आगाह किया है कि चेतावनी नहीं मानने पर उनके बैंक कार्ड्स रद्द किए जा सकते हैं. इस पर रिजर्व बैंक ने स्थिति साफ करते हुए क्रिप्‍टोकरेंसी (Cryptocurrency) में निवेश करने वालों को राहत दी है. केंद्रीय बैंक ने कहा कि बैंक इस चेतावनी के लिए उसके जिस सर्कुलर का हवाला दे रहे हैं, उसे सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने खारिज कर दिया है.

RBI के 2018 के सर्कुलर को SC ने 2020 में ठहराया गलत

रिजर्व बैंक ने कहा, 'मीडिया रिपोर्ट्स के जरिये पता चला कि कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को क्रिप्‍टोकरेंसीज की खरीद-फरोख्‍त से दूर रहने की चेतावनी का ई-मेल भेजा है. साथ ही कहा है कि चेतावनी नहीं मानने पर उनके कार्ड्स रद्द किए जा सकते हैं. इसके लिए आरबीआई के 6 अप्रैल 2018 के सर्कुलर का हवाला दिया जा रहा है.' आरबीाई ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट 4 मार्च 2020 को ही इस सर्कुलर को खारिज कर चुका है. इसलिए अब इस सर्कुलर की कोई वैधता नहीं रह गई है. इसके हवाले से बैंक अपने ग्राहकों को डिजिटल करेंसी का लेनदेन नहीं करने की चेतावनी नहीं दे सकते हैं.

ये भी पढ़ें- मोतीलाल ओसवाल का अनुमान! Sensex अगले 10 साल में पार कर जाएगा 2 लाख अंक का जादुई स्‍तर
बैंकों को केवाईसी का सख्‍ती से पालन करने की दी हिदायत

आरबीआई ने बैंकों और दूसरी संस्थाओं से केवाईसी नियमों, एंटी मनी लॉड्रिंग और दूसरे नियमों का सख्ती से पालन करने को कहा है. आरबीआई के 2018 के सर्कुलर का हवाला देकर देश के कई सरकारी व निजी बैंकों ने ग्राहकों को डिजिटल करेंसीज में डीलिंग से दूर रहने की हिदायत दी है. साथ ही कुछ क्रिप्‍टोकरेंसी एक्सचेंज की सर्विसेज देने से भी इनकार किया है. देश के सबसे बड़े क्रिप्‍टोकरेंसी एक्सचेंज वजीर-एक्‍स (WazirX) को पूरे महीने अपने बैंकिंग पार्टनर्स के साथ कस्टमर फंड्स को डिपॉजिट और विद्ड्रॉ करने में परेशानी का सामना करना पड़ा. इससे पहले कई रिपोर्ट में कहा गया कि एचडीएफसी बैंक, स्टेट बैंक समेत कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को क्रिप्‍ओकरेंसी में डील करने पर अकाउंट सस्पेंड करने की चेतावनी दी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज