लाइव टीवी
Elec-widget

RBI गवर्नर ने कहा- सरकारी बैंकों की सबसे बड़ी परेशानी डूबे कर्ज

News18Hindi
Updated: November 16, 2019, 3:44 PM IST
RBI गवर्नर ने कहा- सरकारी बैंकों की सबसे बड़ी परेशानी डूबे कर्ज
शक्तिकांत दास, गवर्नर, RBI

आरबीआई (RBI- Reserve Bank of India) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने सरकारी बैंकों के लिए एनपीए यानी डूबे हुए कर्ज को सबसे बड़ी परेशानी बताया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2019, 3:44 PM IST
  • Share this:
मुंबई. आरबीआई (RBI- Reserve Bank of India) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने सरकारी बैंकों के लिए एनपीए यानी डूबे हुए कर्ज (Non Performing Assests) को सबसे बड़ी परेशानी बताया है. उन्होंने कहा है कि हाल में 3 राज्यों ने बैंकों की ओर से की गई कर्ज माफी की रकम का भुगतान कर दिया है. साथ ही, पावर डिस्ट्रीब्यूशन (Power Distribution Companies) कंपनियों ने भी बैंकों का कर्ज सही समय पर लौट दिया है. आपको बता दें कि बढ़ते नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (NPA) का असर सरकारी बैंकों के मुनाफे पर भी साफ दिख रहा है. सरकारी बैंकों की ग्रोथ में 5 से 8 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिल रही है. वहीं प्राइवेट सैक्टर बैंक की ग्रोथ 14 फीसदी से 22 फीसदी हो गई है.

सरकार ला रही है कॉर्पोरेट बैंकों के लिए  नए नियम-सरकार को-ऑपरेटिव बैंकों को रेग्युलेट करने के लिए कदम उठाने जा रही है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने शुक्रवार को जानकारी दी.

वित्त मंत्री ने कहा, अगले सप्ताह बैंकों के साथ बैठक बुलाई गई है. सभी बैंकों से आंकड़े मंगवाये गये हैं. रिजर्व बैंक से भी इस बारे में जानकारी मांगी गई है. तभी इस संबंध में स्पष्ट तौर पर जानकारी प्राप्त हो सकेगी.



ये भी पढ़ें-घर बैठे ही खोल सकते हैं पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट, यहां ​जानिए पूरी डिटेल

वित्त मंत्री ने कहा हम नहीं चाहते कोई कंपनी अपना ऑपरेशन बंद करे. हम चाहते हैं कि कोई भी कंपनी हो वह आगे बढ़े. आपको बता दें कि दूरसंचार क्षेत्र की कंपनियों वोडाफोन आइडिया और एयरटेल ने दूसरी तिमाही के परिणाम में भारी घाटा दिखाया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 3:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com