लाइव टीवी

RBI गवर्नर: बाजार में नकदी की दिक्कत होने पर कदम उठाएंगे

भाषा
Updated: January 7, 2019, 4:20 PM IST

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कर्ज देने के लिए बैंकों की नकद धन की आवश्यकताओं को फिलहाल पूरा किया जा चुका है और यदि अर्थव्यवस्था में तरलता की दिक्कत हुई तो केंद्रीय बैंक आवश्यक और कदम उठाएगा.

  • Share this:
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कर्ज देने के लिए बैंकों की नकद धन की आवश्यकताओं को फिलहाल पूरा किया जा चुका है और यदि अर्थव्यवस्था में तरलता की दिक्कत हुई तो केंद्रीय बैंक आवश्यक और कदम उठाएगा. RBI गवर्नर ने आज दिल्ली में छोटे एवं मझोले उपक्रमों (MSME) के संघों के साथ बैठक की.  (ये भी पढ़ें:  SBI ने ग्राहकों को किया अलर्ट! किसी भी बैंक से आए कॉल, तो ऐसे दें जबाव)

NBFC के साथ कल होगी बैठक
उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि मंगलवार को मुंबई में गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) के साथ उनकी स्थिति पर बातचीत की जाएगी. उन्होंने कहा कि बैंकों को एमएसएमई क्षेत्र के वसूली में अटके लोन के पुनर्गठन के व्यक्तिगत प्रस्तावों पर गौर करते समय संबंधित इकाई के कारोबार की मजबूती को ध्यान में रखने को कहा गया है.

ये भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस में लावारिस पड़ा है 9000 करोड़ रुपये से ज्यादा, कहीं आपका भी तो नहीं है पैसा

तरलता की दिक्कतें हुई तो RBI उठाएगा कदम
दास ने तरलता पर कहा, हम लगातार इसकी निगरानी कर रहे हैं. हमारा मानना है कि कुल मिला कर तरलता (धन) की जरूरतें पूरी हो रही है. उन्होंने कहा कि यदि तरलता की दिक्कतें हुई तो रिजर्व बैंक कदम उठाएगा.

उन्होंने पर्याप्त तरलता बनाए रखने की प्रतिबद्धता जताते हुए कहा कि बाजार की जरूरतों के हिसाब से ही तरलता की मात्रा बढ़ायी जाएगी. एमएसएमई के साथ बैठक के बारे में दास ने कहा कि बैंकों को लोन के पुनर्गठन से पहले एमएसएमई की वहनीयता परखने के लिये कहा गया है.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2019, 3:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...