RBI गवर्नर ने कहा, भारत में बैंकिंग सेक्टर के सामने चुनौतियां, ग्रोथ हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता

News18Hindi
Updated: August 19, 2019, 1:21 PM IST

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर (Governor) शक्तिकांत दास ने कहा कि केंद्रीय बैंक ने इकोनॉमिक ग्रोथ (Economic Growth) के लिए कई कदम उठाए हैं. इकोनॉमिक ग्रोथ इस समय हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2019, 1:21 PM IST
  • Share this:
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर (Governor) शक्तिकांत दास ने देश की आर्थिक रफ्तार (Economic Growth) को लेकर उभर रही चिंताओं को दूर करने पर  के लिए कई कदम उठाए जाने का ऐलान किया. दास ने कहा, 'इकोनॉमिक ग्रोथ इस समय हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है. हर नीति-निर्माता इसे लेकर चिंतित है.' उन्‍होंने कहा कि वित्तीय स्थिरता (Financial Stability) के मुद्दों पर फोकस अहम है, क्योंकि लॉन्ग टर्म ग्रोथ सिर्फ वित्तीय स्थिरता पर निर्भर है. इसलिए फाइनेंशियल सेक्टर में वित्तीय स्थिरता जरूरी है.

बैंकों की मदद करेगा IBC में संशोधन
रिजर्व बैंक के गवर्नर ने यह भी कहा कि दिवाला एवं ऋण शोधन अक्षमता संहिता (IBC) में संशोधन सार्वजनिक बैंकों की मदद करेगा. बैंक सरकार पर निर्भर होने के बजाए बाजार से पूंजी लेने में सक्षम होंगे. दास ने कहा कि रिजर्व बैंक कुछ नियमों की समीक्षा कर रहा है. राष्ट्रीय आवास बैंक (NHB) की ओर से पेश सभी नियम आवास वित्त कंपनियों के लिए जारी रहेंगे.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार की इस स्कीम के नियम बदले, अब आपको ऐसे मिलेगा फायदा

बैंकिंग सेक्टर के सामने चुनौतियां
आरबीआई गवर्नर ने कहा कि भारत में इस समय बैंकिंग सेक्टर के सामने चुनौतियां हैं. उम्मीद से कम ग्रोथ बड़ी इकोनॉमी में स्लोडाउन का संकेत है. जो ग्लोबल फाइनेंशियल वित्तीय स्थिरता के लिए जोखिम भरा है.

बैंक रेपो रेट से लिंक करे लोन और डिपॉजिट
Loading...

SBI समेत आधे दर्ज से ज्यादा सरकारी बैंक ने अपने लोन और डिपॉजिट को रेपो रेट से लिंक किया है. शक्तिकांत दास ने जोर देकर कहा कि पूरे सिस्टम को इस मॉडल पर शिफ्ट होने की जरूरत है. उन्होंने कहा, इससे मॉनेटरी ट्रांसमिशन प्रोसेस को गति मिलेगी. बता दें कि SBI मई में अपने लोन और डिपॉजिट्स को रेपो रेट से लिंक करने वाला पहला बैंक है और जुलाई में होम लोन को रेपो रेट से लिंक किया था. पिछले हफ्ते छह अन्य बैकों जैसे बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक और कैनरा बैंक ने रेपो रेट से लिंक करने की घोषणा की थी.

शक्तिकांत दास ने जताई ये उम्मीद
इसके साथ ही आरबीआई के गवर्नर ने सार्वजनिक बैंकों में कंपनी संचालन की तत्काल समीक्षा का आह्वान किया और ज्यादा से ज्यादा बैकों के रेपो आधारित ऋण की ओर बढ़ने की उम्मीद जताई.

ये भी पढ़ें: छोटे कर्जदारों को मोदी सरकार देगी बड़ा तोहफा, लोन करेगी माफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 12:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...