Home /News /business /

rbi governor shaktikanta das says inflation to not go beyond 6 percent indian economy arnod

RBI को भरोसा! अंतरराष्ट्रीय कीमतों में उछाल के बावजूद 6% से ज्‍यादा नहीं होगी महंगाई, बेहतर स्थिति में अर्थव्‍यवस्‍था

आरबीआई गर्वनर का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय संकट के बावजूद भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था संकट से निपटने के लिए तैयार है.

आरबीआई गर्वनर का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय संकट के बावजूद भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था संकट से निपटने के लिए तैयार है.

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने भरोसा दिलाया है कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था को मजबूती देने के लिए केंद्रीय बैंक बाजार में पर्याप्त लिक्विडिटी बनाए रखेगा. पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार और चालू खाते का घाटा कम रहने की वजह से इकोनॉमी किसी भी चुनौती से निपटने को तैयार है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्लीः रूस-यूक्रेन ( Russia-Ukraine) युद्ध के चलते अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल सहित कुछ अन्य कमोडिटी के दामों में तेज उछाल (Crude Oil Price Hike) के बावजूद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को उम्मीद है कि आने वाले महीनों में घरेलू महंगाई दर (Inflation Rate) 6 फीसदी से ऊपर नहीं जाएगी. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास (Shakti kanta Das) ने कहा कि रूस-यूक्रेन संकट की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) कई चुनौतियों का सामना कर रही है, लेकिन इनसे निपटने में कोई दिक्कत नहीं होगी. विदेशी मुद्रा के पर्याप्त भंडार और चालू खाते का घाटा कम रहने की वजह से देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति अच्छी है.

कम ग्रोथ, अधिक महंगाई में नहीं फंसेगी अर्थव्यवस्था
शक्तिकांत दास ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक अर्थव्यवस्था को मजबूती देने और महंगाई को कम रखने के लिए बाजार में पूंजी की पर्याप्त उपलब्धता को सुनिश्चित करना जारी रखेगा. कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (CII) के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि इंडियन इकोनॉमी के कम ग्रोथ, अधिक महंगाई दर और गतिहीन महंगाई के भंवर में फंसने की कोई आशंका नहीं है. गतिहीन महंगाई में कीमतें काफी बढ़ जाती हैं और अर्थव्यवस्था सुस्त हो जाती है. इसके अलावा बेरोजगारी दर भी अधिक रहती है.

ये भी पढ़ें- जल्द होगा IDBI Bank का प्राइवेटाइजेशन, निवेशकों के लिए केंद्र आयोजित करेगा रोड-शो

और घटेगी खुदरा महंगाई
आरबीआई गवर्नर ने खुदरा महंगाई में आगे कमी आने की उम्मीद जताई. आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष में खुदरा महंगाई के 5.3 फीसदी पर रहने का अनुमान जताया है. फरवरी 2022 में खुदरा महंगाई दर 6.07 फीसदी पर पहुंच गई है, जो आरबीआई के संतोषजनक स्तर से अधिक है. जनवरी 2022 में भी खुदरा महंगाई 6.01 फीसदी पर रही थी.

ये भी पढ़ें – LPG Price : घरेलू सिलेंडर के दाम में वृद्धि के बीच Commercial Cylinder की कीमतों में राहत, चेक करें नए रेट्स

पर्याप्त लिक्विडिटी बनाए रखेगा केंद्रीय बैंक
शक्तिकांत दास ने सीआईआई को भरोसा दिया कि इंडस्ट्री की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए आरबीआई यह सुनिश्चत करना जारी रखेगा कि इकोनॉमी में पर्याप्त लिक्विडिटी रहे. मार्च 2020 में कोरोना महामारी के शुरू होने के बाद से रिजर्व बैंक ने इकोनॉमी में 17 लाख करोड़ रुपये डाले हैं ताकि लिक्विडिटी की समस्या न हो. उन्होंने कहा कि बैंकों की सेहत अब पहले से अच्छी है. उनका कैपिटल एडिक्वेसी रेशियो 16 फीसदी है और कुल एनपीए घटकर 6.5 फीसदी के निचले स्तर पर आ गया है.

Tags: RBI, RBI Governor, Reserve bank of india, Shaktikanta Das

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर