Home /News /business /

RBI ने स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक पर लगाया 1.95 करोड़ रुपये का जुर्माना, जानें वजह

RBI ने स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक पर लगाया 1.95 करोड़ रुपये का जुर्माना, जानें वजह

RBI ने स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक पर नियमों का अनुपालन नहीं करने पर जुर्माने की कार्रवाई की है.

RBI ने स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक पर नियमों का अनुपालन नहीं करने पर जुर्माने की कार्रवाई की है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक (Standard Chartered Bank) पर ग्राहकों की सुरक्षा को लेकर केंद्रीय बैंक की ओर से जारी निर्देशों का उल्‍लंघन करने के मामले में कार्रवाई की है.

    नई दिल्‍ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक (Standard Chartered Bank) पर 1.95 करोड़ रुपये का जुर्माना (Penalty) लगाया है. आरबीआई ने बताया कि साइबर सिक्‍योरिटी से जुड़े एक मामले की जानकारी तय समय के भीतर नहीं देने के मामले में बैंक के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इसके अलावा एससीबी ने गैर-अधिकृत लेनदेन में ग्राहक की रकम वापस उसके अकाउंट में क्रेडिट भी नहीं की थी. आरबीआई ने कहा कि एससीबी ने ग्राहकों की सुरक्षा को लेकर केंद्रीय बैंक की ओर से जारी निर्देशों का उल्‍लंघन किया है.

    आरबीआई की ओर से ‘ग्राहक सुरक्षा-अनधिकृत इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग लेनदेन में ग्राहकों की सीमित देयता’, ‘बैंकों में साइबर सुरक्षा ढांचा’, ‘बैंकों के क्रेडिट कार्ड संचालन’ और आचार संहिता पर जारी निर्देशों का पालन नहीं करने के लिए स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक पर भारी-भरकम जुर्माना लगाया गया है. स्टैंडर्ड चार्डर्ड बैंक के जवाब, व्यक्तिगत सुनवाई के दौरान किए गए मौखिक प्रस्तुतीकरण और बैंक की ओर से किए गए अतिरिक्त सबमिशन पर विचार करने के बाद आरबीआई इस नतीजे पर पहुंचा कि विभिन्‍न मानदंडों का अनुपालन नही किया गया. आरबीआई के निर्देशों की पुष्टि की गई और गैर-अनुपालन की सीमा तक बैंक पर मौद्रिक जुर्माना लगाया गया.

    ये भी पढ़ें- रिजर्व बैंक ने SBI पर ठोका 1 करोड़ रुपये का जुर्माना, जानें देश के सबसे बड़े कर्जदाता पर क्‍यों की गई कार्रवाई?

    RBI किस कानून के तहत लगाया जुर्माना?
    रिजर्व बैंक ने एसबीआई पर कमर्शियल बैंकों (Commercial Banks) और चुनिंद वित्‍तीय संस्‍थानों (Financial Institutions) की ओर से ग्राहकों के साथ हुई धोखाधड़ी के वर्गीकरण (frauds classification) और उनकी रिपोर्टिंग किए जाने के नियमों का उल्‍लंघन करने पर 1 करोड़ रुपये का जुर्मान लगाया है. आरबीआई ने कहा कि उसने यह जुर्माना बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा-47ए (1)(सी) के प्रावधानों के तहत मिली शक्तियों का इस्‍तेमाल करते हुए लगाया है. साथ ही कहा कि यह कार्रवाई नियामक अनुपालन में कमियों पर आधारित है और बैंक द्वारा अपने ग्राहकों के साथ किए गए किसी भी लेनदेन या समझौते की वैधता पर असर नहीं होगा.

    ये भी पढ़ें- LPG subsidy: सरकार चाहती है सिर्फ कमजोर वर्ग को मिले रसोई गैस के दाम में छूट, तो क्‍या पूरी तरह से खत्‍म होगी सब्सिडी?

    पहले भी कार्रवाई कर चुका है रिजर्व बैंक
    रिजर्व बैंक पहले भी नियमों का अनुपालन नहीं करने को लेकर कई बैंकों पर जुर्माना लगा चुका है. पिछले महीने आरबीआई ने प्राइवेट सेक्टर के कर्जदाता आरबीएल बैंक (RBL Bank) पर नियामकीय अनुपालन में खामियों और बैंकिंग नियमन अधिनियम के प्रावधानों का अनुपालन नहीं करने पर 2 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था. बता दें कि आरबीआई की ओर से की कार्रवाई को प्रवर्तन निदेशालय लागू करता है. आरबीआई के ईडी को अप्रैल 2017 में गठित किया गया था.

    Tags: Bank news, Business news in hindi, Reserve bank of india, Sbi, State Bank of India

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर